मंत्री का सपने पर पानी फेरता ठेकेदार

करोड़ों की नल जल योजना महीनों से ठप्प पड़ी

मानपुर/बांधवगढ। प्रदेश भर में बहुचर्चित मानपुर विधानसभा क्षेत्र जो कि पूरे देश प्रदेश में विख्यात है, मंत्री मीना सिंह की पहल से मानपुर व आस पास के करीब सैकड़ों गांव में पानी की किल्लत को देखते हुए शासन प्रशासन द्वारा करोड़ो रूपये की लागत से नल जल योजना को संचालित कराया, जो विधानसभा क्षेत्र की सीमा में बहने वाली जीवन दायनी सोन नदी के घाट पर भारी भरकम करोड़ों का प्लांट बैठाया गया और सोन नदी का सुद्ध पेय जल को फिल्टर करके सैकड़ो गांव में निवासरत लोगों के घरों तक पानी पहुंचाने का सपना मंत्री मीना सिंह का था, जिसे पूरा होने से पहले ही कुछ स्थानीय लोगों ने मंत्री के सपनो पर बीच मे ही पानी फेर दिया और करोड़ों की लागत से बना नलजल योजना प्लांट एक झटके में ही ठप्प हो गया। वहीं नगर में यह भी चर्चा है कि उक्त प्लांट अब दोबारा चालू होने के काबिल नही रहा और दैनिक निस्तार व पीने के पानी की किल्लत से पूरा मानपुर नगर कई महीनों से जूझ रहा है
करोड़ो की योजना ठप्प
जनपद मुख्यालय में देखा जाय तो बस्तियों की घनी आबादी में करीब 25 से 30 घरों के बीच एक सार्वजनिक हैंडपम्प उपलब्ध है, जिसमे देखा जाता है कि सुबह से रात तक पानी भरने वालों की भीड़ लगी ही रहती हैं , पानी भरने के लिए एक दूसरे में विवाद होना आज कल आम बात सी हो गई है, रोज-रोज का झगड़ा देख स्थानीय निवासियों को डर है कि पानी की समस्या को लेकर आपस में कही किसी का विवाद न हो जाये और कोई बड़ी घटना दुर्घटना हो जाये, वहीं घरों में महिलाओं को समय से पानी उपलब्ध न हो पाने से दैनिक दिनचर्या में भी परिवर्तन होना देखा जा रहा है
कायम है पहुंच वालों का दबदबा
नगर में करोड़ों की नल-जल योजना ठप्प हो जाने से पानी की किल्लत झेल रहे, नगर के कुछ पहुंच वालों पानी उपलब्ध होने का एक नया तरीका ढूंढ निकाला है प्राप्त जानकारी अनुसार पंचायत द्वारा पानी सप्लाई कनेक्सन पर अब पहुंच वालों का कब्जा हो गया है, पंचायत नल-जल सप्लाई करने वाले कर्मचारी को भी अपने अंडर में ले लिया गया है, इतना ही नही आगे की बस्ती में पानी जाने से पहले ही गेट को लॉक करवा कर नल-जल सप्लाई चालू करवा ली जाती है और जब पानी टंकी में पानी खत्म होने की कगार पर होता है तो बस्ती का कनेक्सन चालू करवा दिया जाता है, जिसमें बस्तियों में निवासरत लोगों तक बूंद भर भी पानी नही पहुंच पाता।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed