शिकायत के बाद हटाये गये धनगवां पटवारी

किसानों के साथ करते थे भेद-भाव
अनूपपुर। जनपद पंचायत जैतहरी के ग्राम पंचायत धनगवां में हल्का पटवारी अजय सिंह बघेल की शिकायत करते हुए ग्रामीणों ने भेद-भाव के आरोप लगाये थे। जिसके बाद मामले को कलेक्टर ने संज्ञान में लेते हुए पुष्पराजगढ के लिए पटवारी को स्थानांतरित कर दिया। गौरतलब हो कि पटवारी की तानाशाही रवैये से कृषक व ग्रामीण त्रस्त थे। कृषकों को सरकार की योजनाओं व कृषकों के हित में किए जा रहे जनकल्याणकारी योजनाओं सहित शासन की निर्धारित मापदंडों का सही समय पर क्रियान्वयन न कर जरूरतमंद ग्रामीणों और कृषकों के साथ अभद्र पूर्ण बातें करना व पैसों की मांग करना इनके लिए आम हो चला था।
थाना जैतहरी में हुई शिकायत
जैतहरी निवासी विनय सिंह के द्वारा शिकायत करते हुए पटवारी के ऊपर पैसे की मांग के आरोप के साथ मारपीट व जान से मारने की धमकी की लिखित पत्र देते हुए न्याय की गुहार लगाई थी। पटवारी के द्वारा अनावश्यक रूप से गाली-गलौच व कट्टे से गोली मारने की धमकी देना शुरू कर दिया और कालर को पकडते हुए बरामदे तक ले जाया गया, जिसके बाद वहां मौजूद लोगों ने बीच-बचाव किया, प्रार्थी के साथ हुए प्राणघातक हमला के बाद शिकायत पत्र में दण्डात्मक कार्यवाही की मांग की थी।
कारनामों की लंबी फेहरिस्त 
किसानों के साथ छल के साथ ही खसरा, नक्शा, नामांतरण, सीमांकन जैसी व्यवस्थाओं का सही समय पर क्रियान्वयन न करना इनकी कार्यशैली में समाहित था। इस क्षेत्र में जड़ जमाए पटवारी अपनी आदतों को लेकर कृषको व ग्रामीणों के लिए नासूर बने हुए थे, बार-बार शिकायतों के बावजूद इनकी कार्यशैली को लेकर अब जाकर राहत मिला। पटवारी के कारनामों की लंबी फेहरिस्त में 2019-20 में कृषक भूमि स्वामियों का विक्रय पंजीयन न कराकर पटवारी द्वारा स्वयं दूसरे भू-स्वामी का नाम जोड़ दिया गया, इस प्रकार कूट रचित रचना रचकर स्टांप ड्यूटी की चोरी की गई एवं शासन के राजस्व पर खुली डकैती की गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed