भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी की जिला समिति का हुआ गठन

शहडोल। भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी का शहडोल जिले का सम्मेलन 9 अक्टूबर को भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के जिला सचिव कामरेड कामरेड सामित अली एडवोकेट की अध्यक्षता में संपन्न हुआ। सर्वसम्मति से जिला समीति का गठन किया गया। कामरेड मीरा यादव जिला सचिव व दो सहायक जिला सचिव कामरेड उदय कोल दरौड़ी एवं कामरेड राम करन सिंह मुसरा तथा कोषाध्यक्ष कामरेड अच्छे लाल शिवहरे का चयन किया गया। जिला परिषद में कामरेड सामित अली एडवोकेट, कामरेड कृष्णा कोल पिपरिया, कामरेड कमला कोल पिपरिया, कामरेड मनीषा कोल पिपरिया, कामरेड नागेंद्र सिंह मुसरा, कामरेड राजेंद्र सिंह मुसरा, कामरेड राम सिंह चंदोरा, कामरेड संजय गर्ग शहडोल, कामरेड कमलेश्वर सिंह धनपुरी, कामरेड अजय सिंह दरौड़ी, कामरेड विकास शर्मा शहडोल का चयन किया गया।
सम्मेलन के मुख्य अतिथि भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के सहायक राज्य सचिव कामरेड हरिद्वार सिंह ने उद्घाटन भाषण में कहा कि 15 अगस्त 1947 के पहले देश गुलाम था, ऐसा भी हो लूला लंगड़ा हो गोरा हो काला हो जो रानी के पेट से पैदा होता था, वही राजा होता था किंतु 15 अगस्त 1947 के बाद 26 जनवरी 1950 को हमारे देश के संविधान को स्वीकार किया और मतदान के माध्यम से संविधान में रानी के वोट का कीमत और मेहतरानी के वोट का कीमत बराबर किया गया, किंतु आजादी के 74 साल बाद भी गरीबों को न्याय मिल पाए, नहीं मिल पाए, इसीलिए निरंतर आपको संघर्ष करना है ताकि शासन के योजनाओं का लाभ आपको मिले भारतीय जनता पार्टी की देश और मध्य प्रदेश की सरकार पूजी पतियों के लिए काम कर रही है। गरीब गरीब हो रहा है और अमीर अमीर हो रहा है, यहां अधिकांश आदिवासी कार्यकर्ता बैठे हैं। वनाधिकार कानून 2005 का लाभ आपको नहीं मिलता है। बरसों से जंगल एवं शासन के जमीन पर कब्जा किए आदिवासियों को शासन ने पट्टा नहीं दिया, पंचायतों में पेशा कानून लागू नहीं होता है। ऐसी स्थिति में संघर्ष करके ही शासन की योजनाओं को गांव तक पहुंच जाएंगे और इसके लिए भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी से दूसरी पार्टी कोई संघर्ष करने वाली नहीं है 25 फरवरी 27 फरवरी तक शहडोल में ही भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी का राज्य सम्मेलन प्रस्तावित है देश और प्रदेश के समूचे नेतागण चिंतन मंथन कर दिशा देंगे और संघर्ष की रूपरेखा तैयार करेंगे 25 फरवरी को बड़ी रैली होगी, जिससे आप सब लोगों की भागीदारी सुनिश्चित करनी होगी।
पूर्व जिला सचिव कामरेड सामित अली ने अपने संक्षिप्त रिपोर्ट में शहडोल जिले में भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के दिशा और दशा पर प्रकाश डाला और नौजवान कार्यकर्ताओं को आह्वान किया यह सही वक्त है कि आंदोलन के माध्यम से भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी को मजबूत किया जाए और गरीब लोगों को उनका हक दिलवाया जाए रिपोर्ट पर 15 लोगों ने बहस में हिस्सा लिया जिसमें प्रमुख रूप मीरा यादव, उदय कॉल, कमला कौल, संजय गर्ग, प्रवीण तिवारी, रावेंद्र शुक्ल, राजेश चंद्र शर्मा, देवेंद्र सिंह, महिमा यादव,रानू सिंह, संगीता सिंह एवं अच्छेलाल शिवहरे ने अपने विचार व्यक्त किए, सम्मेलन में 221 कार्यकर्ताओं ने हिस्सा लिया। आदिवासी बहुल कार्यकर्ताओं ने बड़े ही उत्साह एवं जोशो खरोश के साथ भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी को मजबूत करने की बात कही है। लंबे समय बाद शहडोल में भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी सम्मेलन में संख्या के दृष्टिकोण से नौजवान कार्यकर्ताओं के दृष्टिकोण से आदिवासी युवा एवं युवतियों के दृष्टिकोण से बेहद सार्थक सम्मेलन हुआ है, हमें लगता है कि आज का सम्मेलन शहडोल में कम्युनिस्ट पार्टी को मजबूत करने की दिशा में मील का पत्थर साबित होगा। भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी का 18 वा जिला सम्मेलन 9 अक्टूबर को पार्टी के सहायक राज्य सचिव कामरेड हरिद्वार सिंह के मुख्य अतिथ्य में संपन्न हुआ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *