सफेद हाथी साबित हो रहा जिला चिकित्सालय

दर्द से कराह रही 20 वर्षीय बालिका को रात्रि में देखने तक नही आयी नर्से
तीन दिन पहले पेट दर्द को लेकर सत्यवती हुई थी अस्पताल में भर्ती
परिजनों ने लगाये डॉक्टर और नर्स पर लापरवाही के आरोप

स्वास्थ्य सुविधाओं के नाम पर करोडो रूपए खर्च करने वाले जिला चिकित्सालय के जिम्मेदार बाहरी आवहरण को स्वच्छ और चमचमाती दीवारो का संदेश तो भोपाल तक पहुंचा कर ईनाम भी ले लिया, लेकिन मानव स्वास्थ्य के साथ खिलवाड अब भी जारी है, कुछेक डॉक्टरो की लापरवाही के कारण जिला चिकित्सालय पूर्व की भांति परंपरा की ओर जाते दिखाई दे रहा है।

अनूपपुर। जिला चिकित्सालय सहित जिलेभर की स्वास्थ्य व्यवस्था फिर से लडखडाने लगी है, कहीं डॉक्टरो और नर्सो की लापरवाही से लोग असमय मौत का सफर तय कर रहे है तो कही कक्षों में कुत्ते नजर आते है तो कहीं प्रसूता को स्वास्थ्य सुविधा न मिलने के कारण मौत हो जाती है, इतना ही नही जिस तरह से जिला चिकित्सालय में पुन: कुछेक डॉक्टरो की लापरवाही देखी जा रही है, उससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि स्वास्थ्य सुविधा लोगों को कितनी मिल पाती होगी। हालांकि सिविल सर्जन जब डॉ. राय थे, तब तक स्वास्थ्य सुविधा लोगों को ठीक मिल रहा था, लेकिन उनके पहले और अब सिर्फ और सिर्फ लापरवाही और मनमानी देखी जा रही है।
20 वर्षीय किशोरी की मौत


शनिवार 26 सितंबर को चुकान (भालूमाडा) से पेटे दर्ज से परेशान सत्यवती जिला चिकित्सालय अपने परिजनों के साथ पहुंची थी, जहां इलाज के लिए भर्ती तो कर लिया गया, लेकिन इलाज ऐसा हुआ कि दो दिन बाद उसकी मौत हो गई। सोमवार 28 सितंबर की भोर लगभग 2 बजे 20 वर्षीय सत्यवती की मौत इसलिए हो गई कि रात्रि में ड्युटी में लगे डॉक्टर अंशुमान मिश्रा और स्टाप नर्सो ने उसकी देखभाल नही की, पेट दर्द से युवती कराहती रही और परिजन पूरी रात नर्सो और डॉक्टरो को पूरा चिकित्सालय में दौड-दौड कर ढूंढते रहे, कई घंटो तक जब उसे उपचना नही मिला तो सत्यवती ने तडफते हुए दम तोड दी।
कमरे में गहरी नींद में थे डॉक्टर
परिजनों ने आरोप लगाते हुए सीधे तौर पर ड्युटी डॉक्टर और स्टाफ नर्सो पर लापरवाही का आरोप लगाया है, उन्होने कहा कि कई घंटो तक नर्सो को बुलाया गया, लेकिन किसी ने हमारी एक न सुनी वही डॉक्टर को घंटो तक ढंढते रहे, लेकिन डॉक्टर भी नही मिले, जब तक कोई मिल पाता, उनकी बच्ची तडफती रही, परिजनों ने जनप्रतिधि तक यह बात पहुंचाई, जिसके बाद जिला चिकित्सालय पहुंचे कांग्रेस के ब्लाक अध्यक्ष करतार ङ्क्षसह ने देखा तो डॉक्टर कमरे में सोते हुए मिले।
बॉटल समाप्त के बाद वापस हो रहा था खून


सत्यवती के पिता हरिदास यादव निवासी चुकान जनपद पंचायत अनूपपुर (बदरा) दो दिन पहले अपनी पुत्री को जिला चिकित्सालय में उपचार के लिए भर्ती कराये हुए थे, जहां से न तो रिफर किया गया और नही ठीक से इलाज किया गया, पेट दर्द से कराह रही युवती को बॉटल लगाया गया था, जहां रात्रि में बॉटर पूर्ण होने के बाद उसे निकालना था, लेकिन ड्युटी में मौजूद नर्स नही पहुंची और पूरी रात्रि बॉटल चलता रहा, जिससे ब्लड हाथ से निकल कर पाइप की ओर जाने लगा था और घंटो तकलीफ से सत्यवती रोती रही, लेकिन किसी ने भी नही सुना।
रात्रि में पहुंचे थे करतार ङ्क्षसह
मरीज की गंभीर हालत सुनकर रात्रि में ब्लाक कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष करतार ङ्क्षसह पहुंचे थे, जहां उन्होने सीएचएमओ डॉ. बीडी सोनवानी को फोन कर बताया तो वह भी पहुंचे, जब उन्होने देखा कि कोई नही है तो ढंूढना शुरू किया तो ड्युटी डॉ. अंशुमान मिश्रा सोते हुए मिले, वही नर्से पर अपने कमरे में आराम फरमा रही थी, करतार ङ्क्षसह ने इस पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए निष्पक्ष जांच कर दोषी पर कडी कार्यवाही करने की मांग की है।
डिप्टी कलेक्टर 10 दिन करेंगे न्याय
मामले की जानकारी मिलते ही डिप्टी कलेक्टर विजय कुमार डेहरिया जिला चिकित्सालय पहुंचे, जहां उन्होने मृत सत्यवती की जानकारी परिजनों से ली, वही मौजूद मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. बीडी सोनवानी एवं डॉ. आरपी श्रीवास्तव से भी स्वास्थ्य सुविधा के विषय में चर्चा किये, उन्होने घटना की जांच के लिए 10 दिनों का समय मांगा है, सभी से बयान लेकर निष्पक्ष कार्यवाही का आवश्वास दिया है, जिसके बाद परिजनों ने शव को लेकर घर लौट गये।
18 घंटो बाद भी नही जानकारी
पृूरे घटना के संबंध में जब ्रप्रभारी सिविल सर्जन से सत्यवती की मौत के 18 घंटे बाद बात की गई तो उन्हे यह नही पता कि ड्युटी में चिकित्सक और नर्स के कौन-कौन थे, उन्होने रोस्टर देखकर बताने की बात कही, जहां से सिर्फ डॉ. का नाम बताया जा सका। वहीं जब मुख्य चिकित्सालय एवं स्वास्थ्य अधिकारी से चर्चा की गई तो उन्हे 18 घंटे बाद भी ड्युटी में तैनात कर्मचारियों की जानकारी नही थी।
इनका कहना है
मेरे द्वारा जांच की जा रही है, सभी के बयान लेकर 10 दिनों के अंदर निष्पक्ष जांच कर दोषियों के विरूद्व कार्यवाही की जायेगी।
विजय कुमार डेहरिया
डिप्टी कलेक्टर, अनूपपुर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *