मिनी मिक्चर मशीन पलटने से चालक की मौत

ग्राम पंचायत बनगवां के पुलिया निर्माण के उपयोग में लाई जा रह थी मशीन
घटना के बाद सरपंच-सचिव और इंजीनियर ने किया मोबाइल बंद
भले ही पंचायतों में निर्माण एजेन्सी पंचायत हो, लेकिन जो कहीकत है वह स्पष्ट रूप से देखने को मिल ही जाता है, पंच से लेकर जिला पंचायत में बैठे जिम्मेदार चंद कमीशन के फेर में ठेकेदारी प्रथा ऑफ रिकार्ड शुरू करवा कर जहां मजदूरो का दोहन कर रहे है वही बडी मशीनो का उपयोग कर भ्रष्टाचार सहित दुर्घटनाओं को जन्म भी दे रहे है, इसी का नतीजा है कि मशीन चालक मौत के आगोश में समा गया।
अनूपपुर। जनपद पंचायत अनूपपुर अंतर्गत ग्राम पंचायत बनगवां के वार्ड नंबर-18 में पुलिया निर्माण कराया जा रहा था, जहां सरपंच और सचिव के द्वारा निर्माण एजेन्सी के रूप में कार्य न कराकर किसी ठेकेदार को चंद्र कमीशन में देकर भ्रष्टाचार को अंजाम दिया जा रहा था, जिसका नतीजा यह हुआ कि बुधवार को एक मिनी मिक्चर मशीन चालक मजदूर की मौत हो गई। कम समय में ज्यादा कार्य और आसान तरीके से अपनाने के लिए सरपंच और सचिव के साथ अन्य जिम्मेदार कार्याे को कमीशन के आधार पर बांट कर अपने कर्तव्यो से इतिश्री कर लेते है, ठेकेदार जेसीबी और मिनी मिक्चर मशीन आदि का उपयोग कर मजदूरो का दोहन कर देती है, जिसका नतीजा है कि ग्राम के लोगों को रोजगार नही मिल पाता और कमीशन बांट कर कार्य को संपन्न करा दिया जाता है, यही कारण दुर्घटना और भ्रष्टाचार को जन्म दे रही है।
ऐसे हुआ हादसा
ग्राम पंचायत बनगवां में चल रहे पुलिया निर्माण के कार्य में लगी मिनी मिक्चर मशीन अनियंत्रित होने के कारण पलट गई, मशीन के चालक के रूप में कार्य रहे रहे त्रिलोकन खेल्हारी जिला कोरिया छ.ग. निवासी देवशरण पिता राममनोहर उम्र 23 वर्ष की मशीन में दबने से घटना स्थल पर मौत हो गई, जानकारी के मुताबिक पंचायत अंतर्गत हो रहे चार पुलिया निर्माण में किसी महेन्द्रगढ के अग्रवाल नामक व्यक्ति का मशीन उपयोग में लाई जा रही है वही विवेक ङ्क्षसह नामक ठेकेदार द्वारा यह कार्य को कराया जा रहा था। जिम्मेदारो के द्वारा न तो देख रेख किया जाता रहा है और न ही व्यवस्थित कार्य को अंजाम दिया जा रहा था, जिसके कारण मजदूर की मौत हो गई।
4 पुल किया किया जा रहा निर्माण
पंचायत अंतर्गत लगभग 15-15 लाख की लागत से 4 पुलिया का निर्माण कराया जा रहा है, ऐसे ही ही जेसीबी मशीन व बडी मिक्चर मशीनों का उपयोग किया जा रहा है, मजदूर महज नाम मात्र का लगाया गया है, और जो भी मजूदर लगे हुए वह पंचायत के न होकर बाहर के व्यक्तियों को लगा दिया गया है, बाकी के मस्टररोल में चहेतो का नाम डालकर पैसो का आहरण कर लिया जाता है, जिसमें सचिव और सरपंच का बखूबी रोल रहता है।
कहा थे ये जिम्मेदार
ग्राम पंचायत बनगवां में हो रहे लाखो की पुलिया निर्माण में पंच, सरपंच श्रीमती रानी पनिका, सचिव विमल साहू, इंजीनियर अंशुल अग्रवाल सहित एसडीओ शायद इस कार्य से अनिभिज्ञ थे, इसीलिए बडी मशीनो का उपयोग कर बिना मजदूरो के निर्माण को अंजाम दिया जा रहा था, या फिर यूं कहे कि चंद चांदी की सिक्को की खनक के आगे सारे जिम्मेदार बहरे और अंधे बने रहे, जिसका नतीजा यह हुआ कि एक गरीब बुधवार को अपने जिंदगी से हाथ धो बैठा, मृतक का परिवार इनके लिए कोई मायने नही रखते, यही कारण है कि जिम्मेदारो ने घटना के बाद मोबाइल भी बंद कर दिया तांकि किसी को जवाब भी ने दना पडे।
इनका कहना है
टीम को मौके पर भेज दिया गया था, पूरे घटनाक्रम की जांच की जायेगी, मेरे द्वारा जांच टीम भी गठित कर दी गई है, दोषी पर कार्यवाही अवश्य होगी।
वीरेन्द्रमणी मिश्रा, सीईओ
जनपद पंचायत अनूपपुर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *