सरकारी जमीनों से हटाया गया अतिक्रमण

कलेक्टर, एसपी सहित पुलिस बल रहा मुस्तैद

शहडोल। गुरूवार का दिन संभागीय मुख्यालय से लगे हुए ग्राम पंचायत कल्याणपुर एवं शहडोल जिला मुख्यालय के अतिक्रमणकारियों के लिये दहशत भरा रहा। प्रात: 11 बजे से कल्याणपुर में तीन-तीन जेसीबी मशीन, फायर बिग्रेड एवं पुलिस विभाग की दर्जन भर गाडिय़ां के साथ सैकड़ों पुलिस बल ने धावा बोल दिया था। कलेक्टर डॉ. सतेन्द्र सिंह एवं पुलिस अधीक्षक अवधेश गोस्वामी ने भी मोर्चा सम्हाल लिया था, इसके अलावा उप जिला मजिस्ट्रेट अर्पित वर्मा, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक मुकेश वैश्य, सोहागपुर एसडीएम धर्मेन्द्र मिश्रा, डीएसपी हेड क्वार्टर व्ही.डी.सिंह, यातायात डीएसपी अखिलेश तिवारी, सोहागपुर तहसीलदार लवकुश प्रसाद शुक्ला, मुख्य नगर पालिका अधिकारी अमित तिवारी, कोतवाली टीआई राजेश चंद्र मिश्रा एवं सोहागपुर टीआई मौजूद रहे।
यहां से हटाये गये अतिक्रमण
कल्याणपुर में सबसे पहले अनीस कबाड़ी का अतिक्रमण बलपूर्वक बुलडोजर से हटाया गया, इसके अलावा सावित्री उर्फ ङ्क्षबदु, मनोज यादव पिता अशोक यादव, पिंकू विश्वकर्मा पिता रामदास विश्वकर्मा, शंकर बैगा पिता बाबूलाल बैगा के अतिक्रमण प्रशासन द्वारा हटाये गये। इस दौरान पूरे गांव में दहशत का वातावरण रहा क्योंकि पूरा गांव ही शासकीय भूमि पर बसा हुआ है और कई दशक से शासन से ग्रामवासी वैधानिक पट्टा प्रदान करने की मांग कर रहे हैं। कार्यवाही के दौरान दबंग अतिक्रमणकारी, जिन्होंनें शासकीय भूमि पर कई वर्षो से अवैध अतिक्रमण कर बड़े-बड़े मकान बना लिए थे। कल्याणपुर के पश्चात शहडोल मुख्यालय में डेवलप मेंट एरिया में प्रशासन द्वारा अतिक्रमण हटाने की कार्यवाही देरशाम तक की गई।
जारी रहेगी कार्यवाही
कलेक्टर डॉ. सतेन्द्र सिंह ने कहा कि शासकीय भूमि में अवैध अतिक्रमणकारियों को बख्शा नहीं जायेगा। शासकीय भूमि पर अतिक्रमणकारियों पर शासन की कार्यवाही सतत जारी रहेगी। पुलिस अधीक्षक अवधेश गोस्वामी ने कहा कि आदतन अपराधी, भू-मफियाओं के खिलाफ सख्त कार्यवाही होगी। भू-मफियाओं के खिलाफ यह कार्यवाही तब तक जारी रहेगी, जब तक शासकीय भूमि को भू-मफियाओं के चंगुल से मुक्त नहीं हो जाती है।
बढ़ रहा अतिक्रमण
मुख्यालय से सटे ग्राम पंचायत कल्याणपुर में 700 से ज्यादा घर बनें हुए हैं। वर्ष 1971 से यहां अतिक्रमण का दौर चलता आ रहा है, जिसके चलते शासकीय जमीनों पर बेजा कब्जा होता रहा है, जिसकी शिकायतें भी आये दिन विभागों तक पहुंच रही थी, वहीं शासकीय जमीनों की खरीद-फरोख्त का काम जोरों से चल रहा था, कब्जा की भूमि को बेच कर भू-माफियाओं ने लम्बी काली कमाई भी कर रखी है, जिसके चलते प्रशासन को काफी नुकसान भी उठाना पड़ा। शुरू से ही अतिक्रमण का यह मामला आये दिन अखबारों की सुर्खियां बनता रहा है।
पहले भी जारी हुआ था नोटिस
वर्ष 2011 में डीएम द्वारा कल्याणपुर में अतिक्रमणकारियों को नोटिस जारी किया गया था, जिससे काफी हड़कम्प मच गया था, 05 फरवरी 2011 को कल्याणपुर निवासियों ने कलेक्टे्रट सहित जिला प्रभारी मंत्री का घेराव किया था।
्र्रशासकीय आवास के लिये भूमि आवंटित
बताया गया है कि कल्याणपुर स्थित शासकीय आराजी खसरा नम्बर 16/5/1 रकबा 29.10 एकड़ तथा कोयलारी स्थित खसरा नम्बर 120/1 रकबा 5 एकड़ भूमि में शासकीय आवास बनाने के लिये एमपी हाउसिंग बोर्ड को जमीन आवंटित किया गया है, इस आवंटन में कल्याणपुर के लोगों में आक्रोश के स्वर फूट पड़े थे और उन्होनें 05 फरवरी 2011 को हजारों की संख्या में ग्रामीण आक्रोशित स्वर में प्रशासन के विरोध में नारेबाजी की थी। प्रशासन ने कल्याणपुर ग्राम में हाउसिंग बोर्ड बनाने संबंधी सूचना भी इस्तहार में प्रकाशित कराई गई थी, तत्पश्चात ग्राम पंचायत में समस्त ग्रामीणों ने प्रशासन के इस आदेश को अनुचित ठहराया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed