लेदरा पंचायत में फर्जी बिलों की बाढ़

प्राथमिक विद्यालय में हुई 85 हजार की फिटिंग

जांच से भ्रष्टाचार होगा उजागर

शहडोल। जिले की गोहपारू जनपद की ज्यादातर ग्राम पंचायतों में सरपंच-सचिव सांठ-गांठ कर पीसीसी सड़क, नाली निर्माण सहित प्राथमिक शाला में विद्युत फिटिंग सहित अन्य विकास कार्याे के नाम पर बिल लगाये गये हैं, गोहपारू जनपद की ग्राम पंचायत लेदरा में पंचायत पोर्टल में लगाए गए बिल-बाउचरों सहित किये गये मूल्याकंन सहित भुगतानों की जांच की अब मांग उठने लगी है, ग्राम पंचायत के जिम्मेदारों ने सगे संबंधियों के नाम पर भी पंचायत में बिल लगाकर राशि आहरित की है।

विद्युत के नाम पर हुआ खेल

गोहपारू जनपद की ग्राम पंचायत लेदरा में 14 वित्त से प्राथमिक शाला लेदरा में विद्युत फिटिंग के नाम पर 85 हजार रूपये की का बिल पास कर दिया गया, जिम्मेदारों द्वारा 5 पंखा, 8 ट्यूब लाईट, 6 बोर्ड सहित 60 मीटर की फिटिंग की गई है, ग्रामीणों का कहना है कि पंचायत में लगाए गए बिल-बाउचरों के सत्यापन से पंचायत में हुए फर्जीवाड़े की पोल खुल सकती है, लेकिन आज तक जनपद में बैठे जिम्मेदार इस मामले में चुप्पी साधे हुए हैं।

भाई के नाम पर भुगतान

सरपंच व रोजगार सहायक रिश्तेदारों व संबंधियों के नाम फर्में बनाकर मनरेगा व पंच परमेश्वर योजना का पैसा हड़प रहे हैं, जबकि राज्य शासन के नए प्रावधान के तहत सरपंच-सचिव अपनी पुत्री, पुत्र व रिश्तेदारों की सप्लायर फर्मों के नाम भुगतान नहीं कर सकते। लेकिन लेदरा पंचायत में यह कार्य धड़ल्ले से हो रहा है। ग्राम पंचायत के रोजगार सहायक द्वारा अपने सगे भाई के नाम पर भी पंचायत से भुगतान कर उसे भी लाभ पहुंचाया गया, लेकिन जिम्मेदार आज तक इस मामले में भी चुप्पी साधे हुए हैं।

फिजूलखर्ची भी पंचायत में

जनपद पंचायत गोहपारू की ग्राम पंचायत लेदरा के सरपंच और रोजगार सहायक ने सरकारी योजनाओं की राशि को फर्जी बिल बाउचर लगाकर ठिकाने लगाया है, ग्राम पंचायत द्वारा अन्य सामग्री और स्टेशनरी सामग्री, इंटरनेट रिचार्ज, त्यौहार और उत्सव के नाम पर शासकीय राशि की होली खेली गई है, सरपंच व रोजगार सहायक द्वारा सरकारी राशि को फिजूलखर्ची कर ठिकाने लगाया गया है, ग्राम पंचायत में रोजगार सहायक की नियुक्ति कम्प्यूटर से संबंधित कार्याे के लिए की गई थी, लेकिन उसके बावजूद शासकीय राशि से दुकानों से कार्य कराकर राशि की होली खेली गई है, लेकिन पंचायत में लगे बिलों की जांच आज तक जनपद में बैठे जिम्मेदार नहीं उठा सकेे।

अधिकांश पंचायतों में फर्जी बिल

अस्तित्वहीन फर्मों के बिलों पर भुगतान का मामला कोई एक पंचायत का नहीं है, ग्राम पंचायत लेदरा में ऐसे फर्जीवाड़े सतत रूप से चल रहे हैं, जिनकी यदि गंभीरता से अधिकारियों द्वारा जांच की जाए तो, पंचायत में किए जा रहे बड़े गबन सामने आ सकते हैं। मामला इलेक्ट्रानिक्स शॉप के बिल या पंचायत में निर्माण कार्याे के नाम पर भी भ्रष्टाचार अपनी चरम पर है, लेदरा पंचायत द्वारा फर्जी बिलों की आड़ में बड़े भुगतान करके अपने घर भरे जा रहे हैं, यह भ्रष्टाचार बड़े स्तर पर नीचे से ऊपर तक मिलीभगत से हो रहा है, जिसकी जांच समय रहते आवश्यक है।

इनका कहना है…
विद्युत फिटिंग का मूल्याकंन के बाद ही बिल का भुगतान हुआ है, रही बात भाई की तो, आप भी भाई हैं कोर्ई सामान देगा तो, भुगतान तो होगा।
सत्यदीन गुप्ता
रोजगार सहायक
ग्राम पंचायत लेदरा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *