गुड फ्राइडे प्रभु यीशु मसीह का बलिदान आज का दिन उपवास एवं प्रायश्चित का दिन है

 

नारद शंभु

शहडोल / आज के दिन प्रभु यीशु मसीह के बलिदान, बलिदान, प्रेम और मानवता को समर्पित का दिन जिसमें ईसाई समुदाय उपवास एवं संभावना खोज करते है होली स्पिरिट बायोपिक चर्च के फादर जोस एंथोनी ने कहा कि ईसाई धर्माभिमानी द्वारा आज संपूर्ण विश्व में मानवता को प्रेम , बलिदान, क्षमा, बलिदान, करुणा, दया की भावना के साथ व्यवहार, प्रेम, प्रार्थना और प्रभु के प्रतिपर्ण भाव के साथ उनके बलिदान को स्मरण कर गिरजा घरों में प्रभु यीशु मसीह क्रूस पर बलिदान होने के कारण विशेष प्रार्थना की गई, वहीं ई । एल। सी। चर्च के पास्टर जे। एस। मैथ्यू ने कहा कि यीशु मसीह का बलिदान यह दर्शाता है कि भगवान ल (प्रेम करने वाला) व कृपा कारी है जो मनुष्य को उसके कामों के लिए दंड नहीं देता बल्कि क्षमा करके अपने निकट आने का शुभ अवसर देता है। शहडोल क्रिश्चियन चर्च के पास्टर एस।
प्रभु यीशु मसीह के बलिदान दिवस को विश्व के ईसाई धर्मावलंबियों व शहडोल जिले के विभिन्न चर्चों में विशेष प्रार्थना की जाती है। वहाँ डॉ। क्रिस्टी अब्राहम राष्ट्रीय महासचिव, राष्ट्रीय ईसाई महासंघ ने बताया कि आज विश्व के तमाम ईसाई धर्मावलंबियों द्वारा सिर्फ प्रभु यीशु मसीह की मृत्यु होने के पूर्व कहनेे गए इन 7 अनमोल वचनो स्मरण कर करण चिंतन किया जाता है: –
1- हे पितामह क्षमा करो यह नहीं। जानते हैं कि यह क्या कर रहे हैं,
2- आज आप भी मेरे साथ स्वर्ग लोक में होंगे,
3- हे नारी यह तेरा पुत्र है,
4- हे मेरे भगवान हे मेरे भगवान आपने मुझे क्यों छोड़ दिया,
5- मैं प्यासा हूं,
6 – तब जीसस ने कहा पूरा हुआ,
7- क्या पिता मैं तुम्हारी आत्मा के हाथों में सौंपता हूं।
आज प्रात: 6 बजे से चूरचो में प्रार्थना और आराधना शुरू की गई जो रात्रि तक चलेगा।
कोविड -19 को ध्यान में रखते हुए चर्चों द्वारा प्रति घंटे 50 के अंदर भक्तजनों को भारत सरकार और जिला प्रशासन के प्रोटोकॉल के तहत प्रार्थना करने की अनुमति दी गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed