बाउंड्री बनाकर सरकारी हैण्डपम्प को लिया कब्जे में , गरीबो ने की शिकायत नगर पालिका ने साधी चुप्पी

गिरीश राठौर.

अनूपपुर ( कोतमा)/__ स्व, पँडित दीनदयाल उपाध्याय का एक सपना था कोई भी गरीब दींन दुखी शोषित पीड़ित न रहे। इसलिये उन्होंने अंत्योदय का नारा दिए जिनके आदर्शों पर चलते हुई भाजपा गरीबो की हितैषी शिवराज सरकार एक तरफ जहां अपना पूरा समय अंत्योदय के उत्थान में खर्च करती है। गरीबो के दुख दर्द भोजन पानी, आवास पेंशन सम्बल, आयुष्मान जैसे तमाम योजनाओं से गरीबो की सेवा करने में प्रदेश के मुखिया लगे रहते हैं।  जनता पार्टी के जिला के एक पदाधिकारी सत्ता के नशे में इतने चूर हुए की अंत्योदय तो छोड़िए गरीबो के पेयजल के स्रोत सरकारी हैण्डपम्प को ही अपने घर की बाउंड्री वाल के अंदर कर डकारने के जुगाड़ में लग गए है। नगर पालिका क्षेत्र कोतमा वार्ड नंबर 4 रहने वाले वार्ड वासियों का कहना है की   दो जून की रोटी व दाना पानी के लिए तरसते मजबूर असहाय गरीब एक तो पीने के पानी के लिए दर दर भटकने को मजबूर हैं वही मजबूरन कोतमा नगरपालिका से न्याय की आस लगाए शिकायत भी किये जिस पर कोई कार्यवाही नही हुई अपितु अब उक्त जमीन को ही भाजपा के पदाधिकारी अपना निजी बता रहे हैं___

हैण्डपम्प का भुगतान करने को तैयार हैं!                               कोतमा नगर पालिका अध्यक्ष पति व सांसद प्रतिनिधि धर्मेंद्र वर्मा से जब उक्त मामले को बताया गया तो उन्होंने कहा कि वह जमीन जिला महामंत्री के पट्टे आराजी में आती है। जिसका वो हैंडपम्प का भुगतान करने को तैयार हैं। उसी पैसे से सामने हैंड पंप लगवा दिया जाएगा। बहरहाल नगर के एक जिम्मेदार जनप्रतिनिधि के इस गैर जिम्मेदाराना बयान से यह तो स्प्ष्ट है कि नगर में जितने भी अवैध निर्माण हो रहे हैं। उनमें जनप्रतिनिधियों की सत्ता या संगठन के दबाव में मौंन सहमति तो है।

नगरीय प्रशासन ने दी नोटिस

वही उक्त मामले की जब मीडिया ने तहकीकात की तो पाया कि नगर पालिका अंतर्गत वार्ड नं 4 गरीब निवासियों द्वारा की गई शिकायत में जांच करने गए राजस्व विभाग ने भाजपा जिला महामंत्री को नोटिस देते हुए नगर पालिका कोतमा के पत्र क्रमांक ई/नपा/राजस्व/अवैध निर्माण/2021/78 दिनांक 2/3/2022 को बिना स्वीकृति के 10/12 अवैध निर्माण करने साथ ही हैंडपम्प को बाउंड्री के अंदर कर लेने की नोटिस दी है। साथ ही मौका पंचनामा करने गये नगरीय प्रशासन ने मौका पँचनामा में गवाहों के समक्ष स्पष्ठ लिखा है कि बिना भवन निर्माण की स्वीकृति के मकान बना रहे हैं साथ ही सार्वजनिक उपयोग के हैंड पम्प को भी बाउंड्री के अंदर कर लिए है।

जिला प्रशासन से है न्याय की आस

कि उक्त सार्वजनिक हैण्डपम्प से लगभग 18 – 20 वर्ष से पीने एवं अन्य निस्तार के लिए पानी भरते आ रहें जब उक्त भूमि पर  मकान ही नही बना था। वही जानकारों का कहना है कि वार्ड नं 4 की गरीब जनता के पेयजल की समस्या को देखकर उक्त हैण्डपम्प को वर्ष 200-3 – 4 में लगवाया गया था। उक्त भूमि पर भूमि मालिक बाउंड्री बनाकर अपना हक जता रहे हैं। वहीं वार्ड नंबर 4 में निवासरत दर्जनों गरीब आदिवासी महिलाओ ने बताया कि आसपास कोई भी पेयजल स्रोत नही है। नगर पालिका की पाइप लाइन अभी पहुंची है मगर पानी रोज नही मिलता वार्ड में टैंकर से सप्लाई होती है। ऐसे में गर्मी में हम लोग प्यासे मर जायेंगे। उक्त शिकायत की सुनवाई नगर पालिका कोतमा द्वारा नही करने पर वार्डवासी मजबूरन धरना प्रदर्शन करने को मजबूर होंगे

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *