पंचायत निर्माण कार्यों में आधा दर्जन छोटे भैया नेता बनें अघोषित ठेकेदार

सरपंच-सचिव पर लग रहे आरोप, नेता छान रहे मलाई

पंचायत मंत्रि को नामजद भेजी गई शिकायत

शहडोल। जिले के जनपद जयसिंहनगर में पंचायतों में चल रहे निर्माण कार्य में लूट मची हुई है, यहां काम तो सरपंच और सचिव के नाम जारी हो रहे हैं लेकिन वास्तव में आधा दर्जन से अधिक छोटू भाई नेता निर्माण कार्य करने के मालिक बनें हुए हैं सरपंच-सचिव चाह कर भी अपने मन मुताबिक कार्य नहीं करा सकते, अधिकांश जगह तो छोटू भैया नेताओं की ठेकेदारी में बगैर कार्य कराए ही राशि निकाली गई है जिसकी शिकायत प्रदेश के पंचायत मंत्री से नामजद छूट भैया नेताओं की शिकायत की गई है, जिनसे उम्मीद लगाई जा रही है कि जल्द ही अघोषित ठेकेदार बनें छूट भैया नेताओं पर गाज गिर सकती है।
सांठ-गांठ से हो रहा काम
शिकायत में बताया गया है कि जयसिंहनगर जनपद क्षेत्र के आधा दर्जन छोटे भैया नेता अधिकारियों से सांठगांठ करके पंचायतों को काम दिलवा रहे हैं, लेकिन यह कार्य पंचायत के सरपंच-सचिव नाम मात्र के हैं, ऐसे निर्माण कार्य क्षेत्र के आधा दर्जन छूट भैया नेता कर रहे हैं जो आधा-अधूरा काम कर राशि डकार रहे हैं, इसमें अधिकारी भी अघोषित ठेकेदारों पर कार्यवाही करने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहे हैं, जबकि अघोषित ठेकेदार कार्य का मूल्यांकन कराए बगैर ही अधिकांश जगहों में लाखों रुपए की राशि निकाल चुके हैं जिसमें संबंधित पंचायत के सरपंच-सचिव भी अघोषित ठेकेदार का नाम लेकर चुप्पी बना लेते हैं।
शासन की राशि का उठा रहे लाभ
अधिकांश जगहों पर अघोषित ठेकेदार काम करा रहे हैं और सरपंच और सचिव पर कार्रवाई हो रही है, इसके बाद भी जिला व जनपद पंचायतों से अघोषित ठेकेदारों के खिलाफ कोई कार्यवाही नहीं की जा रही है, जबकि अगर क्षेत्र में पिछले 5 साल के निर्माण कार्यों का लेखा-जोखा किया जाए तो आधे से अधिक अघोषित छुट भैया नेता ठेकेदारी कर शासन को नुकसान पहुंचा रहे है, जिसका आम जनता का कोई लाभ नहीं मिल रहा है। अघोषित ठेकेदारी करने वाले छोटे भैया नेता कोई अपने को सांसद का, तो कोई विधायक का आदमी बता रहा है, कुछ तो छोटे-मोटे पदों से लगे हुए हैं, जिसका नाजायज उपयोग कर पार्टी की छवि को नुकसान पहुंचा दें वर्तमान में भी दर्जनों कार्य कथित ठेकेदार छुट भैया नेता ही कर रहे हैं, जिसमें सरपंच-सचिव की कोई भूमिका नहीं रहती लेकिन शिकायत पर कार्रवाई सरपंच-सचिव पर ही हो रही है।
शिकायत के बाद नहीं हो रही कार्यवाही
दर्जनों ऐसे सरपंच और सचिव हैं जो अघोषित कथित ठेकेदारों से परेशान हैं, लेकिन अधिकारी इनके खिलाफ कार्रवाई करने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहे हैं। पंचायत मंत्री को भेजी गई शिकायत में बताया गया है कि जयसिंहनगर जनपद क्षेत्र में कथित अघोषित ठेकेदार नेता पंचायतों में काम करा रहे हैं, जबकि यह कार्य सरपंच और सचिव के नाम जारी होता है लेकिन नेतागिरी के बल पर सरपंच-सचिव उन्हीं का आदेश मानने के लिए बाध्य है, उन्ही के हिसाब से बिल बाउचर बनाए जाते हैं और राशि भी उन्हीं के हाथ में दी जाती है जिसके कारण बगैर काम कराए ही शासकीय राशि का बंटाधार किया जा रहा है, इन कार्यों में गौशाला निर्माण बाउंड्री वाल निर्माण और एकीकृत विकास योजना के पुलिया समेत दर्जनों काम है एक उप स्वास्थ्य केंद्र में नीव तक कार्य कराकर 1100000 रुपए अघोषित ठेकेदार ने निकाल लिया है शिकायत पर अधिकारी भी कोई ध्यान नहीं देते हैं, क्षेत्र में तमाम ऐसे पंचायतों में छूट भैया नेता ही निर्माण कार्य के मालिक बने हुए हैं, लेकिन गलतियों पर सरपंच और सचिव को दंड भोगना पड़ रहा है, इस मामले में अधिकारी भी कुछ नहीं कर रहे हैं, अगर जनपद क्षेत्र में पिछले 5 सालों का लेखा-जोखा किया जाए, अघोषित ठेकेदार छुट भैया नेता करोड़ों के मालिक बन चुके हैं।
पंचायत मंत्री से हुई शिकायत
पंचायत मंत्री को भेजी गई शिकायत में छोटू भैया नेताओं के नाम सही शिकायत की गई है, उनके द्वारा किए जा रहे कार्यों के नाम और लागत की राशि भी दर्शाई गई है, इन कार्यों में अब तक छोट भैया नेता अघोषित ठेकेदार कितनी राशि निकाल चुके हैं उसका भी जिक्र किया गया है और यह कब से किया जा रहा है समय का भी जिक्र किया गया है। बगैर मूल्यांकन कार्य के कई पंचायतों में लाखों रुपए निकाले गए हैं लेकिन जनपद के अधिकारी मूकदर्शक बनें हुए हैं। छुटभैया नेताओं की कार्यशैली से पार्टी की छवि लगातार खराब होती जा रही है, इसके बाद भी पार्टी और संगठन के बड़े लोग अब तक किसी प्रकार इनके खिलाफ कार्रवाई नहीं किया है, जिससे क्षेत्र की जनता में असंतोष बढ़ता जा रहा है।
*************

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *