प्रभारी के सामने जिला बदर अपराधी आरक्षक से करते रहे मारपीट @ लौटकर सिर्फ दर्ज करवा दी एफ आई आर

(सीताराम पटेल@9977922638)

अनुपपुर। जिले की कानून व्यवस्था लगातार पटरी से उतरती नजर आ रही है, 2 दिन पहले थाने का घेराव, मुख्य बाजार में मारपीट और फिर बीते दिन हुई घटना का काला दिन अनूपपुर के इतिहास में हमेशा याद रखा जाएगा। साथ ही यह दिन पुलिस अधीक्षक मांगीलाल सोलंकी के कार्यकाल से जोड़कर भी याद रखा जाएगा, हालांकि पुलिस की तत्परता ने मामले पर काबू तो पा लिया, लेकिन जो दाग यह घटना छोड़कर गई, वह अनूपपुर वासियों को हमेशा याद रहेगी।

नया मामला बीती रात या फिर यह कहे कि करीब आठ 9 घंटे पहले का है,जिले के अंतिम छोर पर स्थित थाना राजनगर जो मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की सीमा का क्षेत्र भी कहलाता है, यहां करीब 2:00 बजे के आसपास रविशंकर व प्रकाश सिंह नामक दो दबंग जिसमें से एक के खिलाफ जिला बदर की कार्यवाही भी माननीय जिला दंडाधिकारी के न्यायालय में लंबित पड़ी है, दूसरे के अपराधिक मामले थाने में दर्ज हैं, बीते कुछ दिनों से दोनों दबंग स्थानीय बंद खदानों कालरी के खाली पड़ी कॉलोनियों के आवासों व जंगल में स्थानीय थाना प्रभारी के संरक्षण में जुए की फड़ भी चला रहे हैं, इन दोनों ने पॉइंट ड्यूटी पर लगे आरक्षक कपिल देव चक्रवर्ती के साथ गाली-गलौज की और मारपीट की है।

घटना की सूचना आरक्षक ने थाना प्रभारी को दूरभाष पर दी व अन्य लोगों को भी इसकी जानकारी दी,थोड़ी देर में प्रभारी एक प्रधान आरक्षक व दो आरक्षकों के साथ भगत सिंह चौक भी पहुंच गए, प्रभारी के सामने भी दोनों दबंग अपनी दबंगई दिखाते रहे,लेकिन किन कारणों से प्रभारी अपने मातहतों की रक्षा नहीं कर पाए यह समझ से परे है।

हालांकि प्रभारी ने वहां से लौटकर फरियादी आरक्षक 431 कपिल देव चक्रवती की शिकायत पर दोनों के खिलाफ गंभीर धाराओं के तहत अपराध कायम कर लिए हैं,लेकिन सवाल ये उठता है कि जब प्रभारी के सामने मातहतों के साथ गाली गलौज और मारपीट की जाए और प्रभारी कथित दबंगों को तत्काल गिरफ्तार करने की जगह उन्हें यहां से जाने का मौका दें…..

ऐसी स्थिति में थानों में पदस्थ निचले स्तर के कर्मचारियों के हौसले तो टूटते ही हैं साथ ही रवि और प्रकाश जैसे अपराधियों के हौसले भी बुलंद होते हैं रात को ही यह घटना सुबह होते ही पूरे कोयलांचल में आग की तरह फैल गई है, हालांकि मामला कायम होने के बाद रवी प्रकाश क्षेत्र में नजर नहीं आ रहे हैं, यह भी माना जा सकता है कि महज कुछ किलोमीटर दूर छत्तीसगढ़ की सीमा रेखा पार करने में भी उन्हें समय नहीं लगेगा या फिर प्रभारी का आशीर्वाद प्राप्त कर वह दोनों घर पर ही आराम कर रहे हो,इस बात से भी इनकार नहीं किया जा सकता।

यह लिखा एफ आई आर में

फरियादी आर0 431 कपिलदेव चकवरतीं थाना रामनगर का एक किता लिखित आवेदन पत्र स्वंय के हस्ताक्षरित लाकर पेश किया जिसकी नकल अक्षरशः जैल है।

सेवा में श्रीमान् थाना प्रभारी महोदय थाना रामनगर जिला अनूपपुर (म0प्र0) विषय भगत चौक राजनगर में रात्रि गस्त डियूटी के दौरान रविशंकर सिहं व प्रकाश सिहं द्वारा मां बहन की भद्दी भद्दी गाली टेने शासकीय कार्य में वाधा डालने तथा हाथ मुक्का से मारपीट करने व जान से मारने की धमकी देने के सम्बंध में आवेदन पत्र, महोदय निवेदन है कि मैं प्रार्थी आर0 431 कपिलदेव चक्रवर्ती दिनांक 09.09.2019 से थाना रामनगर में आरक्षक के पद पर पदस्थ हूँ। आज दिनांक 28.08.20 को मेरी नाईट डियूटी आर0 384 नारेन्द्ू मसराम के साथ रात्रि 12.00 बजे से भगतचौक राजनगर में लगाई गई थी दोनो डियूटी कर रहे थे रात्रि करीवन 01.00 बजे प्रकाश सिहं तथा रविशंकर सिंहं चौहान टोनो व्यक्ति अलग अलग मोटर सायकल से आये और प्रकाश सिंह गली देकर बोला कि यहा क्या कर रहे हो तब मैं वोला कि आप कौन हो गाली कैसे दे रहे हो, तब प्रकाश सिंहं बोला कि यहा से भाग जाओ मेरे को नही जानते हो कि मैं कौन हूँ, इतना कहकर प्रकाश सिंह मेरे से लपट पडा व रविशंकर सिंहं हाथ से मारपीट करने लगे तब मेरा साथी नारेन्द्र बीच बचाव करने लगा तो उसे भी दोनो लोग हाथ मुक्का से मुक्का मारपीट किये।
मारपीट से मेरे व आरक्षक नारेन्द्र मसराम के पूरे वदन में दर्द है, फिर मैं टेलीफोन करके थाना में रात्रि एचसीएम प्रआर0 130 संभर लाल को सूचिेत किया तो रविशंकर व प्रकाश सिंह गंदी गाली टेते हुए वोले कि यदि दोवारा भगतचौक राजनगर में दिखोगें तो जान से खत्म कर देंगें और चले गये तब मैं और नारेन्दर सिंह पोईट डियूटी से आकर थाना में रिपोर्ट करता हूँ कार्यवाही की जाये । SD प्रार्थी कपिलदेव चक्रवर्ती पिता प्रयागदास चक्रवर्ती उम्र 24 वर्ष निवासी ग्राम वमेश थाना इन्ट्वार जिला उमरिया हाल आर0 431 थाना रामनगर मो. 7000128376 । आवेदन पत्र के मजमून से आरोपीगण रविशंकर सिंह एवं प्रकाश सिंहं निवासी राजनगर के विरूद्द अपराध धारा 353,332,294,506,34 ता.हि. एवं 3(1)द.ध,3 (2)(va) एससी/एसटी एक्ट का अपराध पाये जाने से पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया ।

मातहट पीट गए प्रभारी ने कहा कोई बड़ी बात नहीं

इस संबंध में जब राजनगर थाना प्रभारी श्री प्रजापति से चर्चा की गई तो उन्होंने कहा कि हां घटना तो कारित हुई है लेकिन यह कोई बड़ी बात नहीं है, हमने अपराध कायम कर दिया है और आरोपियों की तलाश शुरू कर दी है जल्द ही आरोपी हमारी गिरफ्त में होंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *