दिलचस्प होगा इस बार का नगरीय निकाय चुनाव @ भाजपा को कड़ी टक्कर देने के लिए कांग्रेस भी झोंक रही पूरी ताकत

संतोष शर्मा की कलम से

संगठन को मजबूत बनाने एवं आपसी सामंजस्य पर कर रही फोकस

धनपुरी। वैसे तो चुनाव कोई भी हो धनपुरी नगर के अंदर नजारा कुछ अलग ही देखने को मिलता है यहां पर जिस तरह से चुनावी घमासान होता है उस पर पूरे जिले की नजर होती है 3 सालों से नगर पालिका धनपुरी का चुनाव अटका हुआ है और अब उम्मीद की किरण चुनाव को लेकर देखने को मिल रही है तो चुनावी तैयारियों का दौर भी इस बार कुछ अलग ही अंदाज में देखने को मिल रहा है चुनाव लड़ने को लेकर जहां प्रत्याशियों की लंबी लाइन अभी से दिख रही है तो वही मुद्दों की तलाश में चुनाव दिलचस्प बनाने को लेकर काम किया जा रहा है वैसे तो धनपुरी का चुनाव हमेशा से दिलचस्पी रहा है क्योंकि यहां चुनाव में अंतिम समय तक किसकी हार किसकी जीत होगी यह कह पाना मुश्किल होता है कांग्रेश भाजपा दोनों के बीच ही मुख्य चुनावी घमासान देखने को मिलता है और जहां मजबूत संगठन के दम पर मैदान पर भाजपा की ताकत दिखती है तो वही कमजोर संगठन हमेशा से कांग्रेस निराशा देती है लेकिन इस बार चुनाव के ठीक पहले माहौल काफी बदला बदला दिख रहा है रणनीति में बदलाव कर कांग्रेश जहां अभी से चुनावी तैयारियों में जुटी हुई है तो वहीं भाजपा अभी भी शांत मन से कांग्रेस की रणनीति पर नजर लगाए हुए हैं उम्मीद जताई जा रही है कि आगामी मार्च माह में चुनाव होने की उम्मीद जताई जा रही है और यही कारण है कि चुनावी तैयारियों से कोई भी पीछे नहीं रहना चाह रहा है कांग्रेसमें प्रत्याशी चयन को लेकर कई बड़े बैठकर आयोजित हो चुकी हैं तो वहीं भाजपा में अभी भी चुनावी हलचल को लेकर कोई खास तैयारी दिखती ही नजर नहीं आ रही है धनपुरी नगरपालिका के चुनाव पर नजर डाली जाए तो भाजपा काफी मजबूत ही साबित हुई है रणनीति बनाने से लेकर चुनाव जीतने तक में भाजपा जिस तरह से काम करती है वह अलग ही नजर आती है वैसे तो कांग्रेसी चुनाव में जीत को लेकर अपनी तैयारियों में कोई कमी नहीं रखना चाहती यही कारण है कि वार्ड वार्ड में संगठन मजबूत बनाने से लेकर आम जनता तक अपनी पहुंच बनाती हुई अभी से देखी जा रही है।

मार्च में चुनाव की जताई जा रही है उम्मीद-

नगरी निकाय चुनाव को लेकर अब चर्चाओं का बाजार गर्म हो गया है और यह उम्मीद जताई जा रही है कि मार्च माह में चुनाव हो सकते हैं यही कारण है कि चुनाव को लेकर तैयारियों की रूपरेखा बनाने का काम शुरू हो गया है वार्ड वार्ड में चुनाव को लेकर चल रही तैयारियों को लेकर साफ तौर पर देखा जा सकता है 3 सालों से चुनाव ना होने से चुनाव की उम्मीद छोड़ चुके लोग अब चुनाव होने की बात सामने आने के बाद तैयारियों में जुट गए हैं इस बार धनपुरी नगरपालिका के चुनाव में सबसे खास बात यह देखने को मिलेगी की इस चुनाव में 28 वार्ड होंगे यही कारण है कि इन सभी वार्डों में तैयारियां की जाती हुई देखी जा सकती है वैसे तो अभी चुनावी हलचल इतनी तेज नहीं दिख रही लेकिन जैसे-जैसे समय नजदीक आता जाएगा चुनावी हलचल भी तेज होती जाएगी कांग्रेश भाजपा दोनों ही अपने अपने तरीके से चुनावी तैयारियां करने में जुटे हुए हैं और इस चुनाव में देखना होगा मुकाबला किस ओर भारी रहता है।

यहां प्रत्याशी चयन करना नहीं होगा आसान-

चुनावी तारीखों का ऐलान होने में भले ही अभी कुछ समय है लेकिन चुनाव में किस्मत आजमाने को लेकर कई प्रत्याशी मैदान पर देखे जा सकते हैं भाजपा में इस बार टिकट को लेकर दावेदारों की लंबी कतार देखने को मिल रही है यही कारण है कि इस बार यह उम्मीद जताई जा रही है कि टिकट वितरण करना भाजपा संगठन के लिए भी आसान नहीं होगा वैसे भी जिस तरह से उम्र बंधन की बात सामने आ रही है अगर इस पर अमल होता है तो कई ऐसे दावेदार हैं जिनकी उम्मीदें अभी से खारिज होती ही नजर आ रही है वही युवाओं को टिकट देने की बात भाजपा पहले ही कर चुकी है जिस कारण से युवाओं में उत्साह अधिक देखने को मिल रहा है वार्ड वार्ड में युवाओं की तैयारियां देखी जा सकती हैं वही अध्यक्ष पद को लेकर कुछ नाम युवाओं के सामने आ रहे हैं अगर बात पर अमल भी तो इस चुनाव में मुकाबला काफी दिलचस्प देखने को मिल सकता है वैसे यह तो बात तो तक ही सीमित है आगे आगे देखना होगा चुनावी रणनीति किस और अपनी करवट बदलती है।

तो इस तरह चल रही है चुनावी तैयारियां-

चुनाव की तारीखों का ऐलान होने में भले ही अभी समय है लेकिन चुनावी तैयारियां करने में भाजपा कांग्रेस दोनों ही पीछे नहीं है नगर के अंदर इन दिनों चुनाव तैयारियों को लेकर कुछ अलग ही अंदाज देखा जा रहा है पब्लिक भी इन तैयारियों को समझ रही है तो वही चुनाव तैयारियां कर रहे हैं उम्मीदवार कोई कमी नहीं छोड़ना चाहते हैं नगर के अंदर जिस तरह से खेलकूद को लेकर आयोजन हो रहे हैं और इन आयोजन में जिस तरह से राजनीतिक दल बढ़-चढ़कर भाग ले रहे हैं वह चुनावी तैयारियों को साफ रूप से दर्शाता है क्योंकि जिस तरह से मार्च माह में चुनाव होने के बात चर्चाओं में है यही कारण है कि हर कोई अपने तरीके से तैयारियां करने में भी लगे हुए हैं देखना होगा इन आयोजनों में जिस तरह से राजनीतिक दल बढ़ चढ़कर हिस्सा ले रहे हैं चुनाव में उन्हें इसका कितना फायदा मिलेगा यह देखने की बात होगी।

दोनों ही दल युवा वोटरों पर लगाए हुए हैं नजर-

वर्तमान में चुनाव में युवा वोटरों का कितना महत्व है यह दोनों ही दल अच्छी तरह से समझते हैं यही कारण है कि दोनों ही दर्द अपना पूरा बल युवाओं पर लगा रहे हैं भाजपा ने जहां पहले ही युवाओं को चुनाव में मौका देने की बात कर चुकी है वहीं कांग्रेस भी इस चुनाव में कुछ यही करना चाह रही है जिस कारण से युवाओं को पार्टी से जोड़ने एवं संगठन में आगे करने की बात कहीं जा रही है कुछ दिनों पूर्व नगरी निकाय चुनाव को लेकर कांग्रेश की हुई महत्वपूर्ण बैठक में भी इस बात पर चर्चा हुई थी जहां पर आए पर्यवेक्षक भी कुछ ऐसा ही संकेत देते हुए देखे जा रहे थे खैर बात बातो तक ही सीमित है और चुनाव यह साफ हो जाएगा कि इन बातों में सच्चाई कितनी है वैसे तो दोनों ही दलों से इस बार चुनाव में किस्मत आजमाने को लेकर युवा बड़ी संख्या में तैयारी कर रहे हैं देखना है उनकी इस तैयारी का फायदा कितना मिलता है।

और यहां मुद्दों पर होगी चुनाव में तकरार-

चुनावी तैयारियों के बीच चुनावी मुद्दों पर चर्चा सुनी जा सकती हैं भाजपा जहां पूर्व परिषद में हुए विकास कार्यों को जनता की समक्ष ले जाने की बात कह रही है तो वही कांग्रेश एनी विकास कार्यों पर सवाल उठाते हुए चुनाव में जवाब देने की बात कह रही है वैसे तो पूर्व परिषद के 5 साल के कार्यकाल में भ्रष्टाचार की बातें उठती रही हैं इसे लेकर शिकायतें भी होती रही हैं पर देखना होगा चुनाव में यह मुद्दे जनता के बीच कांग्रेश के लिए कितने फायदा साबित होगा वैसे तो धनपुरी नगरपालिका का चुनाव काफी दिलचस्प होता है यही कारण है कि इस चुनाव में पिछले चुनाव की हार से सबक लेते हुए कांग्रेश तैयारियां करने में जुटी हुई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *