कंचनपुर-छांटा बनें अवैध खनिज के माकूल ठीहें

रेलवे ठेकेदारों सहित दर्जनों जगह पहुंच रही अवैध रेत
खनिज और पुलिस के मैंनेजमेंट से हर दिन दौड़ रही डग्गियां

(Amit Dubey+8818814739)
शहडोल। कोरोना संक्रमण काल कुछ व्यवसायियों के लिये अवसर काल बनकर आया हुआ है, मुख्यालय में लगातार कोरोना का संकट और कोरोना के भय से खनिज अधिकारी व अन्य मातहतों ने क्षेत्र में दौरे क्या कम किये, खनिज कारोबार से जुड़े लोगों ने कोरोना के भय से दूर, इस समय को पूरी तरह से भूना लिया, स्थानीय थाने और खनिज विभाग के चंद लोगों से संबंध बनाकर लालपुर स्थित रेत खदान व आसपास से दीपेन्द्र व पुनीत की जोड़ी लगातार इस अवैध कारोबार को अंजाम देती रही, यह सिलसिला आज भी लगातार जारी है।
रेलवे ठेकेदार खरीद रहे रेत
रेलवे स्टेशन छांटा सहित कुछ अन्य स्टेशनों पर निर्माण कार्य के नाम पर भारी मात्रा में अवैध रेत का भण्डारण किया गया है, दीपेन्द्र व पुनीत की जोड़ी रेत का अवैध उत्खनन कर न सिर्फ इन ठेकेदारों को रेत की आपूर्ति कर रही है, बल्कि निर्माण कार्य की आड़ में बिना विभागीय अनुमति के कंचनपुर व छांटा में रेत का अवैध भण्डारण भी किया गया है, यहां पर पहले रेत पहुंचा दी जाती है और फिर ग्राहकों को यहां से रेत की आपूर्ति की जा रही है।
दिन भर दौड़ती हैं डग्गियां
दीपेन्द्र व पुनीत दोनों के पास ही तीन-तीन डग्गियां होना बताया गया है, वहीं इनके संरक्षण में अन्य वाहन भी दौड़ रहे हैं, लॉक डाउन के पूरे समय से लेकर अब तक क्षेत्र में रेत की आपूर्ति सिर्फ इन दोनों के द्वारा ही किये जाने की खबर है, यह बात भी सामने आई कि दोनों लगातार खनिज विभाग के सम्पर्क में रहते हैं, इनके द्वारा निचले स्तर के कर्मचारियों से सांठगांठ कर शासन को राजस्व का चूना लगाया जा रहा है, वहीं अवैध रूप से दौड़ रही डग्गियां क्षेत्र में अवैध कार्यों को बढ़ावा भी दे रही है।
वर्दी को खबर नहीं
बीते लम्बे अर्से से लगातार आधा दर्जन से अधिक डग्गियां अवैध उत्खनन की हुई रेत को लेकर चौबिसों घंटे क्षेत्र में दौड़ रही हैं, इनके द्वारा छांटा व कंचनपुर के साथ ही रनवे इंफ्राटेक नामक कम्पनी को भी रेत की आपूर्ति की जा रही है, रेलवे के ठेकेदारों की तरह इनके पास भी भण्डारण की अनुमति नहीं है, बावजूद इसके न तो पल-पल की खबर रखने वाली हमारी सतर्क व कर्तव्यनिष्ठ पुलिस के जवानों को इसकी खबर नहीं यह भी चर्चा का विषय है।
रेत ठेकेदार को लगा रहे चूना
नई खनिज नीति लागू होने के बाद जिले में रेत के उत्खनन कर ठेका वांशिका टे्रडर्स नामक फर्म को शासन द्वारा दिया गया है, हालांकि कई स्थानों पर उक्त कम्पनी ने अपने लोगों की तैनाती की हुई है, लेकिन स्थानीय मैंनेजमेंट के दम पर दीपेन्द्र व पुनीत की जोड़ी ठेकेदार को तो नुकसान पहुंचा ही रही है, बल्कि ई-खनिज के माध्यम से शासन को मिलने वाला राजस्व का भी नुकसान हो रहा है, सिर्फ खनिज विभाग के चंद लोगों तथा कुछ वर्दीधारियों के साथ मिलकर पूरा नेटवर्क बेखौफ होकर मलाई बटोर रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *