जानिए क्यों…??? कोतवाली पुलिस ने दर्ज किया महिला अधिकारी व आरटीओ पर आपराधिक मामला

शहडोल। श्रम विभाग की महिला अधिकारी, परिवहन अधिकारी व नफीस ट्रेवल्स के मालिक पर धोखाधड़ी के मामले दर्ज किये हैं, शहडोल कोतवाली पुलिस ने बीते दिनों श्रम विभाग की संभागीय महिला अधिकारी श्रीमती संध्या सिंह के अलावा पूर्व में शहडोल में पदस्थ रहे परिवहन अधिकारी सोनवानी तथा नफीस ट्रांसपोर्ट के संचालक रईस अहमद के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया है, तत्कालीन आरटीओ ललिताराम सोनवानी, तत्कालीन श्रम अधिकारी संध्या सिंह, नफीस ट्रेवल्स के संचालक राईश अहमद, आशिक अली, नफीस अहमद पर कोतवाली में धारा 409 ,420 ,467,468 ,471 ,120 बी के तहत मामला दर्ज हुआ है।

यह है पूरी कहानी

महापंचायत में भेजी बसों में श्रम विभाग का महाघोटाला
सम्मेलन में भेजी बसों से श्रम-परिवहन व बस मालिक ने बनाया लाखों का जुगाड़
भेजी 21 बसें, बिल निकाला 30 बसों का
बसें किसी की, भुगतान कर दिया किसी को

शहडोल। दो से ढ़ाई साल पहले प्रदेश भाजपा सरकार के तात्कालीन मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान चुनावों को लेकर तैयारी में लगे हुए थे, जबलपुर के पनागर को विंध्य व महाकौशल का केन्द्र बनाकर वहां हजारों असंगठित मजदूरों का कार्यक्रम किया गया, श्रम विभाग को भीड़ लाने का जिम्मा सौंपा गया था, शहडोल जिले से 30 बसे अधिग्रहित कर परिवहन विभाग ने बसें श्रम विभाग को सौंपी, मजदूरों को लेकर बसें मानपुर में इक_ी हुई, मजदूर कम थे, इसलिए 9 बसें अधिग्रहण के बाद भी वापस कर दी गई, लेकिन जब 20 मार्च को बिल बनकर परिवहन कार्यालय से होता हुआ, श्रम कार्यालय पहुंचा तो, उसमें 9 बस मालिकों की जगह सिर्फ दो बस मालिकों के बिल और 21 की जगह 30 बसों का भुगतान श्रम निरीक्षक मोहन दुबे के मार्गदर्शन में श्रम अधिकारी श्रीमती संध्या सिंह ने अपनी मोहर लगाकर 7 लाख 46 हजार 80 रूपये का भुगतान कर दिया।
शिव की साख पर बट्टा
डेढ़ से दो वर्षाे तक सत्ता से बाहर रहने के बाद जनप्रिय मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की पुन: वापसी हुई, आने वाले कुछ माहों में संभाग की अनूपपुर विधान सभा सहित 27 सीटों पर उपचुनाव है, ऐसे समय में शिवराज के सम्मेलन के नाम पर निकला भ्रष्टाचार का जिन्न जिले की अनूपपुर सीट के साथ ही पूर्व परिवहन मंत्री के जिले व वर्तमान परिवहन मंत्री गोविंद सिंह राजपूत की सुरखी सीट पर भी उपचुनाव है। घोटाले का जिन्न बाहर आने के बाद खासकर इन दो सीटों पर भाजपा और शिव की साख को कटघरे में खड़ा कर सकता है।

                        सोनवानी-मोहन का खेल

लाखों के जुगाड़ में श्रम निरीक्षक मोहन दुबे ने अनूपपुर में पदस्थापना के बाद भी तीनों जिलो में यह खेल-खेल डाला, शहडोल में तो यह मामला सामने आ गया, जहां इसने नफीस ट्रांसपोर्ट व नावेद बस सर्विस के संयुक्त कर्ता-धर्ता रईस अहमद के साथ मिलकर रहीशी से रहीश बनने का खेल-खेल डाला।

लगे सिर्फ दो बिल

23 से 24 फरवरी को भेजी गई 21 बसों के बिल सभी 9 बस मालिकों से न लेकर श्रम विभाग ने सिर्फ नफीस ट्रांसपोर्ट के बिल क्रमांक 005 व 006 व नावेद बस सर्विस के दो बिल क्रमांक 006 व 007 पर क्रमश: 1 लाख 76 हजार 600, 2 लाख 4800 तथा 2 लाख 48 हजार 960 व 1 लाख 15 हजार 720 रूपये कुल 7 लाख 46 हजार 80 रूपये का भुगतान कर दिया। नियमत: जिन बस मालिकों को बसों के अधिग्रहण का पत्र देकर बसें ली गई थी, उनसे बिल लिये जाने चाहिए थे, यही नहीं यदि बिल लगाये भी गये तो, बाकी के 7 बस मालिकों से सहमति पत्र लेकर उसे बिल में संलग्न करना चाहिए था, ऐसा न करने के कारण ही तथा कथित रईस अहमद ने 2 साल पहले भुगतान लेने के बाद भी आज तक सभी को रूपये नहीं दिये।

9 बसों का फर्जी भुगतान

23 फरवरी को परिवहन विभाग ने जिन 30 बसों के मालिकों को अधिग्रहण के पत्र दिये थे, उनमें नावेद बस सर्विस, नफीस ट्रांसपोर्ट, वीरेन्द्र सिंह प्रयाग बस, पुणेन्द्र सिंह, संजय सिंह, मंगलानी बस सर्विस, महामाया बस सर्विस, मो. हसन खान, मो. आजाद नामक बस मालिक शामिल थे, इनकी कुल 30 बसों में से वीरेन्द्र सिंह की एक, पुणेन्द्र सिंह की दो, संजय सिंह की एक, मंगलानी की दो व नफीस की तीन बसें मानपुर से वापस कर दी गई थी, लेकिन जब बिल लगाया गया तो, उनमें एमपी 18 पी 0378, एमपी 18 पी 0242 बसे मानपुर से लौट आई थी, जबकि एमपी 18 पी 9786,एमपी 18 पी 2786, एमपी 18 एच 6401, एमपी 18 पी 5786 व 3 अन्य बसें जो गई ही नहीं और न ही इनका परिवहन विभाग ने अधिग्रहण किया था। इनके नाम पर लगभग ढ़ाई से तीन लाख रूपये का फर्जी भुगतान कर दिया गया। 30 बसों के बिल दो वर्ष पहले ही 20 मार्च 2018 को कथित ट्रांसपोर्टर द्वारा बनाये गये, जिसे पहले तात्कालीन परिवहन अधिकारी एल.आर. सोनवानी ने अपने हस्ताक्षर करते हुए उन्हें सत्यापित किया, बिल 23 मार्च को श्रम कार्यालय पहुंचे, यहां 30 मार्च को भुगतान कर दिया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *