कोतवाली पुलिस ने किया अंधी हत्या का खुलासा

पिता की हत्या कर झाडियों में फेकी लाश
घर में पीटने के बाद बोरी में भरा मृत शरीर और 2 किलोमीटर दूर फेका
पुलिस हत्या का खुलासा कर जंगल में 4 घंटे करती रही शव वाहन का इंतजार

दो पुत्रों ने मिलकर अपने पिता की घर पर ही हत्या कर दी, हत्या करने के बाद शव को बोरी में बंद कर 3 किलोमीटर दूर किसी दूसरे के खेत में फेक दिया, चार दिन बाद कोतवाली पहुंच कर पुत्र ने अपने पिता की गुमशुदगी दर्ज कराई, पुलिस की सक्रियता की वजह से इस पूरे घटनाक्रम का पर्दाफास 4 अक्टूबर को हो गया।

अनूपपुर। कोतवाली क्षेत्र अंतर्गत ग्राम सेंदुरी निवासी जयराम ङ्क्षसह राठौर पिता जेठू राठौर उम्र 48 वर्ष की हत्या पुत्र गुलाब ङ्क्षसह राठौर और पंकज राठौर ने कर दी, 27 अक्टूबर की रात्रि लगभग 11 बजे घर पर ही किसी बात को लेकर विवाद की स्थिति निर्मित हुई, जहां घटना के दिन उनके घर पर दोनो पुत्र एवं मृतक की पत्नी और पिता की मौजूदगी होना बताया गया, लडाई-झगडे के दौरान जयराम की मौत हो गई, जहां से दोनो पुत्रो ने पिता के शव को बोरी में भरकर डंडे के सहारे तीन किलोमीटर दूर ले जाकर ग्राम के ही किसी व्यक्ति के खेत में फेक दिये।
लिखाई गुमशुदगी की रिपोर्ट


27 अक्टूबर से गायब जयराम की बात जब आस-पडोस व रिश्तेदारों तक पहुंची, तब पुत्र गुलाब ङ्क्षसह 2 नवंबर को कोतवाली पहुंच कर अपने पिता की गुमशुदगी दर्ज करा दी, हांलाकि यह बात ग्रामवासियों में चर्चा के तौर पर चल रही थी, लेकिन स्पष्ट न होने की वजह से घटनाक्रम को सप्ताह भर बीत गये, लेकिन कोतवाली पुलिस की सक्रियता की वजह से 4 नवंबर को पूरे मामले से पर्दा उठ गया।
पुलिस करती रही शव वाहन का इंतजार
कोतवाली पुलिस की टीम ने जूझ-बूझ दिखाते हुए ग्राम सेंदुरी पहुंच कर पूरे घटनाक्रम से जहां पर्दा उठा रही थी, वही जिला चिकित्सालय के जिम्मेदारो ने उन्हे शव वाहन तक उपलब्ध नही कराया गया, 4 घंटे तक पुलिस के जवान दुर्गंध देते हुए मृतक के शरीर के पास शव वाहन का इंतजार करते रहे, कई बार फोन पर सूचना दी गई, लेकिन मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. बीडी सोनवानी फोन तक रिसीव नही किये और शव वाहन के ड्राईवर को फोन किया तो उन्होने समय का अभाव बताते हुए मना कर दिया।
टै्रक्टर से शव को लाया चिकित्सालय


कोतवाली पुलिस की टीम के द्वारा कई घंटो तक शव वाहन का इंतजार किया गया, लेकिन चिकित्सालय प्रबंधन की लापरवाही के कारण शव वाहन नही पहुंचा सकी, पुलिस ने तत्परता दिखाते हुए गांव से टै्रक्टर बुलाकर शव को पोस्ट मार्टम के लिए जिला चिकित्सालय लाया, दोपहर से शव वाहन का इंतजार करते रहे, फिर देर शाम पुलिस ने खुद इंतजाम कर शव को चिकित्सालय तक पहुंचाया।
यह था मामला
ग्रामीणों से मिली जानकारी के अनुसार मृतक के पिता के द्वारा भाई और मृतक के दोनो पुत्रो के नाम जमीन कर दी थी, जहां मृतक शराब के नशे में अक्सर इस बात को लेकर विवाद करता था, कई दिनो तक घर नही रहने देते थे, जब भी घर आता विवाद की स्थिति निर्मित हो जाती थी, जहां 27 अक्टूबर की रात्रि को विवाद के साथ यह घटना भी घटित हो गई। पुलिस ने जांच करते हुए आरोपी गुलाब सिंह राठौर को गिरफ्तार कर लिया है और गुलाब का छोटा भाई पंकज अभी भी फरार है।
इनकी रही सराहनीय भूमिका
पुलिस अधीक्षक एमएल सोलंकी के निर्देशन एवं अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अभिषेक राजन के मार्गदर्शन में एसआई अजय कुमार, एएसआई महिपाल प्रजापति, सुरेश अहिरवार, मुंशी पवन प्रजापति, विनोद पटेल, राजेश ङ्क्षसह, सुरेश रावत, पियुष नापित, एफएसएल एवं विशेषज्ञ डॉ. आनंद नागपुरे सहित कोतवाली टीम के द्वारा इस पूरे मामले को सुलझाने में अपनी सराहनीय भूमिका निभाई।
इनका कहना है
मुझे इसकी जानकारी नही है, गाडी के लिए मेरे पास कोई फोन नही आया, अगर कोई फोन आया भी होगा तो मैं मीटिंग में व्यस्त था, जिस कारण रिसीव न हुआ होगा।
डॉ. बी.डी. सोनवानी
मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी, अनूपपुर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *