प्रदूषण विभाग की बड़ी कार्यवाही, कोतमा नगर पालिका क्षेत्र में बड़ी मात्रा में पॉलिथीन जप्त कर, वसूला जुर्माना

शहडोल। संभाग के प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड कार्यालय के क्षेत्रीय अधिकारी संजीव मेहरा के निर्देशन में इन दिनों लगातार प्रदूषण के खिलाफ ताबड़तोड़ कार्यवाहीया की जा रही है। चाहे वह नगरपालिका क्षेत्र की हो या फिर कालरी में हो रहे प्रदूषण संबंधी कोई कार्य, और आम लोगों में प्रदूषण के महत्वता व स्वास्थ्य पर पड़ने वाले प्रतिकूल असर को लेकर भी समय-समय पर संभाग के सभी जिलों के अस्पतालों पर भी सेमिनारों का आयोजन करते रहते हैं।

इसी बीच 16 मार्च को प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के क्षेत्रीय अधिकारी मेहरा के निर्देशन में प्रदूषण विभाग की पूरी टीम एवं नगर पालिका कोतमा के संयुक्त कार्यवाही के दौरान कोतमा नगरपालिका परिषद क्षेत्र के बाजारों से भारी मात्रा में 247.500 किलोग्राम पॉलिथीन जप्त की गई। जिसमें गांधी चौक के व्यवसाई अशोक इंटरप्राइजेज से 5 किलोग्राम, बिहारी पान सेंटर से 3.5 किलोग्राम, रजनी एजेंसी से 84.4 किलोग्राम, आनंद किराना स्टोर से 156.6 किलोग्राम जप्त तक किया गया। एवं अवैध रूप से पॉलिथीन बिक्री करने वाले दुकानदारों से ₹2000 का जुर्माना भी वसूला गया।

पॉलीथिन से होने वाले नुकसान को विस्तृत रूप से बताया गया

मध्य प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के इस कार्यवाही में प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के तरफ से पहुंचे अधिकारी बी एम पटेल कनिष्ठ वैज्ञानिक द्वारा बताया गया। कि पॉलिथीन से व डिस्पोजल में चाय पीने या गर्म दूध का सेवन करने से डिस्पोजल में उपयोग किया हुआ केमिकल गर्म के माध्यम से डिस्पोजल में समा जाता है। और जिसको पीने से डायरिया संबंधी बीमारी एवं अन्य गंभीर रोग हो सकते हैं। उन्होंने बताया कि पॉलिथीन का बढ़ता हुआ रूप ना केवल वर्तमान के लिए बल्कि भविष्य के लिए भी खतरनाक होता जा रहा है। पॉलिथीन पूरे देश में एक गंभीर समस्या है, जिसे नष्ट करने की दिशा में विभाग के द्वारा कई कार्यक्रम किए जा रहे हैं। और जल्द से जल्द अपने क्षेत्र से इस खतरनाक बीमारी को भगाने के सार्थक प्रयास में हम सबको सहभागी बनने चाहिए।

क्षेत्र में कार्यवाही से सकारात्मक माहौल बना

प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के निर्देशन पर हो रहे कार्यवाही से आम लोगों को पॉलिथीन, डिस्पोजल संबंधी उपयोग करने से होने वाले क्षति के बारे में लोगों को बताए जाने से दुकानदारों के बीच सकारात्मक माहौल उत्पन्न हुआ। और लोगों ने शपथ भी ली कि भविष्य में पॉलिथीन या डिस्पोजल का उपयोग नहीं करेंगे। पर्यावरण को स्वच्छ रखने का पूरा प्रयास करेंगे, इस बीच कई दुकानदारों के यहां कागजों के बैग वह कपड़ों के थैले उपयोग करते भी पाए गए जिन्हें प्रदूषण विभाग द्वारा शाबाशी भी दी गई।

कार्यवाही में यह रहे मौजूद

 

प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड द्वारा किए गए कार्यवाही में कोतमा नगर पालिका मुख्य अधिकारी विकास चंद्र मिश्रा, उपयंत्री सुश्री शिप्रा सिंह, राजस्व प्रभारी ईश्वरदास एवं नगरपालिका के कर्मचारी वर्ग, वहीं प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड से बी एम पटेल कनिष्ठ वैज्ञानिक, अंबर गंगवार, राजेश सिंह, हिमांशु नामदेव आदि कई लोग उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *