पी.एम.स्वनिधि योजना से फिर पटरी पर दौड़ी जिंदगी ,आवश्यक दस्तावेजों की पूर्ति कर लिया योजना का लाभ

पी.एम.स्वनिधि योजना से फिर पटरी पर दौड़ी जिंदगी ,आवश्यक दस्तावेजों की पूर्ति कर लिया योजना का लाभ


कटनी॥ कटनी राजीव गांधी वार्ड शास्त्री काॅलोनी निवासी छोटेलाल मिश्रा चाट फुल्की का व्यवसाय करते है। छोटेलाल बताते है कि कोरोना काल के दौरान उनका व्यवसाय पूरी तरह से बंद हो गया था। परिवार पर आर्थिक संकट आने के कारण भरण पोषण चिंता सता रही थी। तभी उन्हे नगर निगम के माध्यम से शासन द्वारा संचालित पी.एम. स्वानिधि स्ट्रीट वेंडर्स योजना के संबंध में जानकारी प्राप्त हुई। नगर निगम कार्यालय से संपर्क करने पर संबंधित विभाग से योजना के संबंध मे जानकारी लेते हुए आवश्यक दस्तावेजों की पूर्ति कर इनके द्वारा योजना का फार्म भरा गया। देखते ही देखते योजना के तहत उन्हें बिना किसी गारंटी के प्रथम बार में 10 हजार की राशि भी स्वीकृत हो गई। ऐसी विपरीत परिस्थिति में उनके जीवन में प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना आशा की किरण बनी।
श्री मिश्रा ने योजना अंतर्गत 10 हजार रुपये की मदद से अपना व्यवसाय पुनः शुरू किया। पहली किश्त को समय से चुकाने के बाद उन्होंने दूसरी किश्त के लिए आवेदन किया है ताकि वे अपने व्यवसाय को आगे बढा सके। श्री मिश्रा ने पथ विक्रेताओं को आत्मनिर्भर बनाने का अवसर प्रदान करने के लिए प्रधान मंत्री जी और मुख्यमंत्री जी को धन्यवाद दिया है।

पी.एम. स्वनिधि योजना से गौरा बाई की जिंदगी मे आई आई खुशहाली।
कटनी इंदिरा नगर निवासी श्रीमती गौरा बाई की जिंदगी में प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना ने खुशियों से रंग भर दिये। ठेले में सब्जी का व्यवसाय करने वाली गौरा बाई का व्यवसाय कोरोना काल के दौरान बंद हो गया था। बची खुची पूंजी भी परिवार के भरण पोषण मे खर्च हो गई। दोबारा व्यवसाय शुरू करने के लिए उनके पास कुछ भी नहीं था। ऐसी स्थिति में श्रीमती गौरा बाई को प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना के संबंध मे जानकारी प्राप्त होने पर नगर निगम की संबंधित योजना शाखा से संपर्क कर योजना का लाभ लेने हेतु आवेदन दिया गया। बिना किसी परेशानी के फिर से व्यवसाय शुरू करने दस हजार रुपये व्याज मुक्त ऋण प्राप्त हुआ। जिससे वे पुनः अपना व्यवसाय स्थापित कर अपना एव परिवार का जीवन यापन कर रही है। मेहनत एवं लगन से व्यवसाय करने के कारण सफलता इनके कदम चूमी और समय पर ऋण की किस्त चुकता किये जाने पर अब 20 हजार रुपये के लिए उन्होंने आवेदन किया है। श्रीमती गौरा बाई ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा शुरू की गई यह योजना लॉकडाउन की वजह से मुसीबत झेल रहे उस जैसे फुटपाथ पर और फेरी लगाकर छोटा मोटा व्यवसाय करने वालों के लिए बडी मददगार साबित हुई। श्रीमती गौरा बाई ने मान.प्रधानमंत्री जी एवं मुख्यमंत्री जी को धन्यवाद प्रेषित किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.