लूट की सौभाग्य योजना , बिजली विभाग में करोड़ों रुपये का हुआ घोटाला

शशिकांत कुशवाहा
सिंगरौली । सरकार की मंशानुसार योजनाओं के माध्यम से क्षेत्र के विकास को लेकर करोड़ों अरबो रुपये खर्च कर आमजनों के जीवन को राहत देने का कार्य होता आया है । एक तरफ देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने घर घर बिजली कनेक्शन पहुचाने को लेकर संकल्प लिया है जिसमे के देश के सभी घर सभी वर्गों के घरों में अंधकार को हटाना लक्ष्य मानकर प्रयत्नशील हैं ।पर विभाग के ही कुछ लोग योजनाओं को सिर्फ अपनी जेब भरने का एक मात्र माध्यम बनाया हुआ है ।
क्या है सौभाग्य योजना
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार ने देश के हर घर तक बिजली पहुंचाने के लिए सहज बिजली हर घर योजना “सौभाग्य” लांच की थी।जिन लोगों का नाम साल 2011 की सामाजिक-आर्थिक जनगणना में है, उन्हें सौभाग्य योजना के तहत मुफ्त बिजली कनेक्शन दिया जाता है राज्यों के सभी गांव में बिजली पहुंचाने के उद्देश्य से सौभाग्य (SAUBHAGYA) योजना की शुरुआत 25 सितम्बर 2017 को पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जयंती पर की गयी थी।
सिंगरौली जिले में योजना के नाम पर मची लूट
मध्य प्रदेश के सिंगरौली जिले में सौभाग्य योजना के नाम पर भारी बंदरबांट किया गया सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार अधिकारियों के द्वारा ठेकेदार को एक ही काम के नाम पर दो बार पेमेंट देने तक का आरोप की बात निकल कर सामने आ रही है एवं पुराने कार्यों को नया बता कर भ्रष्टाचार को बढ़ावा देने का काम भी किया गया है सूत्र बताते हैं कि यह मामला एक या दो लाख का नहीं है बल्कि कई करोड़ रुपए की चपत विभाग को लगाई गई है । बड़े ही हैरत की बात है कि एक और जहां करोड़ों रुपए के कार्य ठेकेदारों के द्वारा किए गए हैं वहीं कार्यों की गुणवत्ता एवं कार्य के संबंध में बड़े अधिकारी भी अनजान बन कर बैठे रहे । बरगवां के ग्राम मझगवां में इसी तरह का एक खेल खेला गया जिसमें की पहले से मौजूद चीजों के नाम पर भारी मात्रा में बंदरबांट किया गया संबंधित मामले में असिस्टेंट इंजीनियर उपेंद्र यादव का नाम भी निकल कर सामने आ रहा है व तत्कालीन डी ई अमित कुमार की खामोशी समझ से परे, वहीं दूसरी तरफ ग्राम पुरैल में योजना के नाम जहां नया ट्रांसफार्मर लगाया जाना था वही पर रिपेयर ट्रांसफॉर्मर को ही अधिकारियों के द्वारा लगवा कर लाइन चालू कर दी गई एवं विभाग को लाखों रुपए की चपत लगाई गई ।
विस्तृत जाँच में सफेदपोशों की खुलेगी कलई
सिंगरौली जिले में किसी भी तहसील में ऐसा नहीं है कि सौभाग्य योजना के नाम पर लूट ना की गई हो सौभाग्य योजना की अगर विस्तृत जांच हुई तो कई सफेदपोश लोग बेनकाब होंगे जिन्होंने भारी भ्रष्टाचार को योजना के नाम पर बढ़ावा दिया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *