दुग्ध सहकार अभियान को और अधिक बेहतर बनाएं: कमिश्नर

शहडोल। कमिश्नर राजीव शर्मा ने संभाग में पशु पालन की विपुल संभावनाओं को दृष्टिगत रखते हुए किसानों को उन्नत पशु पालन के लिए प्रोत्साहित करने के निर्देश दिए है। उन्होंने कहा है कि शहडोल संभाग में पशु पालन विभाग द्वारा संचालित कल्याणकारी योजनाओं का लाभ पशुपालकों को मिलना चाहिए। उन्नत पशुपालन के साथ ही दुग्ध उत्पादन को प्रोत्साहित करना चाहिए। संभाग में चलाएं जा रहे दुग्ध सहकार अभियान को और अधिक बेहतर और प्रभावी बनाने के निर्देश भी अधिकारियों को दिए है। दुग्ध सहकार अभियान का लाभ किसानों को मिलना चाहिए। कमिश्नर राजीव शर्मा पशु चिकित्सा विभाग की संभाग स्तरीय समीक्षा बैठक में अधिकारियों को निर्देशित कर रहे थे।
कमिश्नर ने नगरीय क्षेत्रों में दुग्ध सहकार अभियान के तहत स्थापित दुग्ध विक्रय केन्द्रों के संबंध में जानकारी ली तथा कहा कि नगरीय क्षेत्रों में उपभोक्ताओं के लिए दुग्ध विक्रय केन्द्र स्थापित किए जाए तथा इनके माध्यम से उपभोक्ताओं को स्वच्छ दूध के उत्पाद मुहैया कराएं जाएं। समीक्षा के दौरान दुग्ध सहकारी समिति के प्रबंधक द्वारा बताया गया कि शहडोल संभाग में स्थापित दुग्ध विक्रय केन्द्रों के माध्यम से प्रतिदिन लगभग 1 हजार 333 लीटर दूध का विक्रय किया जा रहा है, वही अन्य दुग्ध उत्पादों का भी विक्रय किया जा रहा है। बैठक राष्ट्र व्यापी कृत्रिम गर्भाधान योजना की प्रगति की जिलेवार करते हुए कमिश्नर ने कहा कि इस योजना का व्यापक प्रचार-प्रसार किया जाएं और इस येाजना का लाभ किसानों तक पहुंचाया जाएं। बैठक में पशु नस्ल सुधार योजना के अंतर्गत उमरिया जिले में अपेक्षित कार्य नही होने पर कमिश्नर ने नाराजगी व्यक्त की तथा निर्देश दिए कि पशु नस्ल सुधार योजना की लक्ष्य पूर्ति की जाएं। बैठक में कलेक्टर श्रीमती वंदना वैद्य, संयुक्त संचालक कृषि जे.एस. पेन्द्राम, उप संचालक पशु चिकित्सा सेवाएं डॉ. व्ही.व्ही.एस. चौहान, सहायक संचालक मत्स्य शिवेन्द्र सिंह परिहार सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *