पानी की किल्लत से जूझ रहा मानपुर

नगर में बूंद पानी के लिए तरस रहे लोग

मानपुर। विधानसभा क्षेत्र भले ही देश-विदेश में अपनी एक अलग पहचान बनाया हो, लेकिन जमीनी स्तर पर देखा जाए तो, यहां के जिम्मेदारों की प्रताडऩा से तंग होकर मानपुर में निवासरत लोग जीने की दुहाई मांग रहे है, जानकारी अनुसार कई हफ्तो से बिगड़े नगरपरिषद की नलजल योजना की मोटर सुधरवाने में स्थानीय प्रशासक के पास शायद बजट ही न हो, जिस वजह से क्षेत्र के लोग पीने के लिए पानी को मोहताज है।
जनता पानी के लिए परेशान
मानपुर निवासी डर के कारण तानाशाह प्रशासक की शिकायत भी नहीं कर पा रहे हैं, वहीं बिजली की विकराल समस्या इस तरह है कि कोई जान नहीं पाता कि बिजली की कटौती चल रही है, जनता को परेशान करने का यह खेल खेला जा रहा है, जिसे जनता प्रशासक की प्रताडऩा को चुपचाप सहन करते हुए शांत बैठी है।
शोपीस बनकर रह गया प्लांट
करोड़ों रुपए का प्लांट सोन नदी के घाट भाई गांव पर लगाकर सोन नदी का शुद्ध फिल्टर पानी दर्जनों ग्रामों तक जनता को पीने के लिए घर-घर पहुंचाने के लिए करोड़ों रुपये खर्च किए गए, लेकिन स्थानीय तानाशाह प्रशासक के कारण उक्त करोड़ों के प्लांट पाइप से एक-एक बूंद के लिए मानपुर नगरवासी तरस रहे हैं, तानाशाह प्रशासक के कारण एक-एक बूंद पानी के लिए मोहताज हो गए।
हैंडपंप उगल रहा लाल पानी
पानी की समस्या के चलते नगर की जनता को हैंडपंप के भरोसे ही रहना पड़ रहा है, हैंडपंप का लाल पानी निकल रहा है, जिसे पीकर नगरवासी बीमार हो रहे हैं, जिले के संवेदनशील कलेक्टर से जनापेक्षा है कि मानपुर के प्रशासक को हिदायत देते हुए पीने का पानी की व्यवस्था सुचारु रूप से चालू कराई जाए, ताकि पानी की किल्लत झेल रहे गरीब तबके के लोगों को राहत मिल सके।

इनका कहना है…
हमारे बस में नहीं है, हम जितना कर सकते हैं, उतना कर रहे हैं, लाइट हमारे बस में नहीं है।
आभा त्रिपाठी
सीएमओ
नगर परिषद मानपुर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *