नाबालिग ने सो रहे शराबी भाई का हतौड़े से फोड़ा सर

आये दिन की मारपीट से परेशान था भाई और मां

हत्या के बाद सायकल में रख शव को फेंका दूर

अंधी हत्या का पुलिस ने किया खुलासा

सौतेल भाई ने ही लूटा को उतारा मौत के घाट

पिता सहित सौतेली मां भी हत्या में शामिल


शहडोल। 30 सितम्बर को सुबह 10:30 बजे सोहागपुर पुलिस को ग्राम कंचनपुर में एक व्यक्ति लूटा उर्फ सच्चिदानंद पटेल का मर्डर होने की सूचना मिली, पुलिस को सूचना मिली की शव जंगल तरफ पड़ा हुआ है, थाना प्रभारी द्वारा वरिष्ठ अधिकारियों को अवगत कराया गया व कार्यवाही के लिए निर्देश दिये गये, थाना प्रभारी घटना स्थल पर पहुंचे और अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक मुकेश वैश्य द्वारा भी घटना स्थल पर पहुंचे, मृतक के सिर पर गंभीर चोट के निशान थे व शव से बदबू भी आ रही थी। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक द्वारा दिये गये निर्देशानुसार मौके पर डाग स्क्वाड एवं अन्य टीमों द्वारा निरीक्षण किया गया, बाद में अपराध पंजीबद्ध कर प्रकरण विवेचना में लिया गया।
शराब की आदत ने दी मौत
विवेचना में मृतक के संबंध में प्राथमिक रूप से यह तथ्य सामने आये कि मृतक की शादी नहीं हुई थी, वह आस-पास के क्रेशर मशीन खदान में घूमा-फिरा करता था, शराब पीने का आदी था, मृतक के पिता ने दूसरी शादी कर ली थी, उसका ग्राम खन्नाध के मामा पक्ष से भी जमीन का विवाद चलता था व मृतक का उसकी सौतली मां व भाई से भी पारिवारिक विवाद था।
मां को पीटा तो नाबालिग ने की हत्या
पुलिस की मृतक के सौतेल छोटे नाबालिग भाई से पूछताछ करने पर उसके द्वारा बताया गया कि मृतक लूटा उसको कई वर्षाे से बिना बात के अनावश्यक मारपीट करता आ रहा था, जिसका गुस्सा उसके मन मे बना रहता था और उसकी मां को भी बिना वजह गाली दिया करता था। 28 सितम्बर को शाम लगभग 5 बजे मृतक लूटा जब अपने घर आया तभी उसने अपने नाबिलग छोटे भाई के साथ मारपीट की और तगाड़ी से उसे मार दिया, जिससे उसके हाथ में चोट आई और खून बहने लगा। मां बीच-बचाव करने आई तो, उसने मां का सिर दीवाल पर पटक दिया। जिससे मां के सिर पर चोट और खून निकलने लगा।
हथौड़े से लहुलुहान किया सिर
पुलिस ने बताया कि नाबालिग कि मां से मारपीट के बाद उसे बहुत गुस्सा आ गया और जिसके आधे घंटे बाद जब मृतक सोने लगा तो मृतक के नाबालिग भाई ने हथौड़े से मृतक के सिर, ठुड्ढी, कान के पास व अंडकोष में जोर से वार किया, जिससे मृतक लूटा की मौके पर ही मौत हो गई। घटना स्थल पर खून-खून हो गया था, उसके मां व पिता वहीं पर मौजूद थे, मां व पिता ने मिलकर मौके पर ही पूरे खून को साफ कर दिया।
सायकल से ले जाकर फेंक दिया शव
पुलिस ने बताया कि मृतक के शव को तीनों ने घर में ही रात तक छुपा कर रखा और रात 11 बजे सायकल से मृतक का पिता व सौतेला भाई दोनों मिलकर शव को घर से घटना स्थल पर ले जाकर झाडियों में छिपा आये। अगले दिन 29 सितम्बर को मृतक का शव वहीं पड़ा रहा, जिसकी मृत्यु की जानकारी किसी को नहीं लगी तो, 29-30 की दरमियानी रात को अपचारी बालक द्वारा रात्रि में 4 बजे अकेले जाकर मृतक के शव को झाड़ी से निकालकर करीबन 5 मीटर दूर सहज दृश्य स्थान में रख दिया। जिससे पास वाले रास्ते से आसानी से देखा जा सके, फिर अगले दिन गांव के लोगों को मृतक के मर्डर की जानकारी मिली।
आरोपी गिरफ्तार, भेजा गया जेल
विवेचना में मृतक के भाई बाल अपचारी बालक की निशादेही से घटना में प्रयुक्त हथौड़ा, मृतक के पिता अवधेश पटेल पिता स्व. विशाल पटेल उम्र 65 वर्ष निवासी कंचनपुर की निशादेही में घटना में प्रयुक्त सायकल व मृतक की मां गोमती पटेल पति अवधेश पटेल उम्र 40 वर्ष की निशादेही से खून युक्त कपड़े जब्त कये गये, उक्त दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया एवं नाबालिग को बाल न्यायालय में प्रस्तुत किया गया। पुलिस द्वारा अंधी हत्या का पर्दाफाश किया गया, जो मृतक के परिवारजन द्वारा ही मृतक की हत्या की गई थी और साक्ष्य छिपाने की दृष्टि से मृतक के शव व घटना में प्रयुक्त हथियार हथौड़ा व सायकल को छिपाकर रख दिया।
इनकी रही भूमिका
अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक के कुशल मार्गदर्शन एवं अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक के निर्देशन में अंधी हत्या के खुलासे एवं आरोपियो की गिरफ्तारी मे थाना प्रभारी योगेन्द्र सिंह परिहार, उपनिरीक्षक आनंद कुमार झारिया, उपनिरीक्षक एस.एन. मिश्रा ,सहायक उपनिरीक्षक रजनीश तिवारी, रामानंद तिवारी, सुरेश कुमार, कन्हैयालाल, प्रधान आरक्षक रामनिवास पाण्डेय, लाला प्रसाद, कुंवरलाल सिहं, आरक्षक हीरालाल की भूमिका रही।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *