न भगवान का डर, न सख्ती का असर : स्वच्छता के बीच जागरूकता का अभाव बना रोड़ा, गुटखे की पीक से लाल हो रही जिलाचिकित्सालय की दीवार , दंत चिकित्सक हनी खत्री ने जहीर की नाराजगी

न भगवान का डर, न सख्ती का असर : स्वच्छता के बीच जागरूकता का अभाव बना रोड़ा, गुटखे की पीक से लाल हो रही जिलाचिकित्सालय की दीवार , दंत चिकित्सक हनी खत्री ने जहीर की नाराजगी

 

कटनी ॥ जिला चिकित्सालय मे पदस्थ महिला दंत चिकित्सक हनी खत्री ने अचानक जिला चिकित्सालय मे गंदगी फेला रहे कुछ लोगो और परिसर में गंदगी देखकर खासी नाराज हुईं। जिला चिकित्सालय के बाहर मरीजो के परिजनों के रुकने वाले स्थान पर उन्हें अपेक्षित सफाई नहीं मिली। परिसर में गंदगी देखकर वे खासी नाराज हुईं। महिला दंत चिकित्सक हनी खत्री का कहना था कि गंदगी इतनी है कि कुछ कहा नहीं जा सकता। इसके साथ ही उन्हें अस्पताल परिसर में कुछ स्थानों पर पान की पीक के दाग मिले। जिला चिकित्सालय मे पदस्थ दंत चिकित्सक हनी खत्री ने कहा की जितनी जिम्मेदारी अस्पताल प्रबंधन की होती है उतनी ही जिम्मदारी अस्पताल मे मौजूद मरीजो के साथ उनके साथ आए परिजनों की भी रहती है की वे अस्पताल परिसर की साफ सुथरा रखे !
स्वच्छता अभियान के तहत लाखों रुपया प्रचार-प्रसार और अन्य कार्यक्रमों में खर्च किए जा रहे हैं। यह बात अलग है कि लोगों में जागरूकता के अभाव के कारण सरकारी अस्पतालों और कार्यालयों की दीवारें स्वच्छता से अछूती हैं। गुटखे और पान की पीक से दीवारें और फर्श के कोने लाल हो चुके हैं। जिला चिकित्सालय मे सूचना का फोटो लगाकर लोगों को थूकने से रोकने का प्रयास किए गए। यह कारगर साबित नहीं हो पाए। कहीं सख्ती दिखाकर जुर्माने का डर दिखाया गया फिर भी लोग जिलाचिकित्सालय की दीवारों को गंदा करने से बाज नहीं आ रहे हैं। हालांकि अब जिला चिकित्सालय ने साफ, स्वच्छ और स्वस्थ कार्य माहौल के लिए नया स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसीजर्स जारी की है। इसमें परिसर में थूकने पर जुर्माना लगेगा। दीवारों को बचाने के लिए सबसे ज्यादा प्रयास जिला अस्पताल प्रबंधन ने किए।

जहां मर्जी आए, वहां थूक रहे
गुटखा और तंबाकू खाने वालों के कारण सबसे ज्यादा खराब स्थिति चिकित्सालय परिसर के सीढ़ियों की हो चुकी है वही मरीजों के परिजनों को रुकने के लिए बनाए गए प्रतीक्षालय की कुर्सियों के पास, फर्श, दीवारें सहित कई जगहों पर गुटखे के लाल निशान लोगों में जागरूकता के अभाव को बयां कर रहे हैं। स्थिति यह है कि गुटखे की पीक छोड़कर दीवारों को खराब कर रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *