एनएसयूआई ने किया विश्वविद्यालय का घेराव

कुलपति के खिलाफ की गई नारेबाजी, फूंका पुतला

शहडोल। भारतीय राष्ट्रीय छात्र संगठन ने सोमवार को पं. शंभूनाथ शुक्ला विश्वविद्यालय में सहायक प्राध्यापक भर्ती प्रक्रिया को गलत बताते हुए विश्वविद्यालय का घेराव किया। एनएसयूआई ने भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए युनिवर्सिटी का घेराव कर गेट पर जमकर नारेबाजी की। पंडित एसएन शुक्ला विश्वविद्यालय में हाल ही में 24 सहायक प्राध्यापकों की भर्ती की गई है, जिसमें भ्रष्टाचार और घोटाले के आरोप लगेे हैं। भर्ती प्रक्रिया पर विभिन्न संगठन तथा आवेदक सवाल उठाते चले आ रहे हैं। सोमवार को भारतीय राष्ट्रीय छात्र संगठन ने विश्वविद्यालय का घेराव किया और कुलपति के खिलाफ जमकर नारेबाजी करते हुए पुतला फूंका।

एनएसयूआई के नेताओं ने कहा कि यूनिवर्सिटी में सहायक प्राध्यापकों की भर्ती में घोटाला किया गया है। इन भर्तियों को निरस्त करने की इन्होंने मांग की है, उल्लेखनीय है कि इसके पहले समस्त स्थाई प्राध्यापक संघर्ष मोर्चा तथा अतिथि विद्वान नियमितीकरण संघर्ष मोर्चा के द्वारा आरोप लगाया गया है कि भर्ती प्रक्रिया में रोस्टर का पालन नहीं किया गया और कुलपति ने अपने चहेतों को बिना स्क्रीनिंग प्रक्रिया का पालन किए हुए भर्ती कर लिया है। इसी तरह की मांग को लेकर एनएसयूआई ने भी अपनी आवाज बुलंद की।

एनएसयूआई ने आरोप लगाया कि भर्ती प्रक्रिया में जमकर अनियमितता और भ्रष्टाचार किया गया है। एनएसयूआई के जिलाध्यक्ष विक्रम सिंह के नेतृत्व में तथा जिला समन्वयक आशीष तिवारी की अगुवाई में विश्वविद्यालय का घेराव किया गया। भारतीय राष्ट्रीय छात्र संगठन में पंडित एस.एन. शुक्ला विश्वविद्यालय के कुलपति के खिलाफ आवाज उठाते हुए कहा कि न केवल भर्ती घोटाला हुआ है बल्कि परीक्षा परिणाम में भी छात्रों के साथ अन्याय किया गया।

प्राध्यापक भर्ती के मुद्दे को लेकर एक घंटे तक एनएसयूआई के कार्यकर्ताओं ने विश्वविद्यालय के गेट पर जमकर हंगामा किया। इस दौरान भारी पुलिस बल तैनात रहा और यूनिवर्सिटी के अंदर किसी को भी घुसने नहीं दिया गया। गेट पर ही नारेबाजी और कुलपति का पुतला जलाया, इस दौरान एनएसयूआई के जिलाध्यक्ष के अलावा पूर्व जिला अध्यक्ष सुमित गुप्ता, जिला समन्वयक आशीष तिवारी, सौरभ तिवारी, मयंक सिंह, आशीष द्विवेदी, शुभम सोंधिया, प्रमोद पटेल, सिमरन कौर, ऋषभ द्विवेदी, अमन मिश्रा, शुभम सिंह, सत्यम, आकाश सहित बड़ी संख्या में कार्यकर्ता मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.