जिला स्वास्थ्य समिति की समीक्षा बैठक का हुआ आयोजन

कलेक्टर ने अर्बन पीएससी के प्रभारी अधिकारी को नोटिस देने के निर्देश

(Amit Dubey+8818814739)
शहडोल। गर्भवती माताओं के पंजीयन की समीक्षा करते हुए कलेक्टर ने निर्देश दिए कि गर्भवती माताओं का प्रथम त्रैमास में शत-प्रतिशत पंजीयन किया जाए और पोर्टल पर उनकी इंट्री भी की जाए। गर्भवती माताओं का शीघ्र पंजीयन होने पर उनके स्वास्थ्य की जांच व आयरन एवं फोलिक, कैल्षियम की गोलिया नियमानुसार दी जाए और पोर्टल पर दर्ज भी की जाए। गर्भवती माताओं के पंजीयन और पोर्टल पर इंट्री कम प्रगति पर नाराजगी व्यक्त करते हुए कलेक्टर ने सभी खण्ड चिकित्सा अधिकारियों को निर्देशित किया कि सेक्टर मेडिकल आफिसरों अपने सेक्टर में सतत् मॉनिटरिंग करें और महिला स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं के कार्यों दक्षतापूर्वक प्रगति सुनिष्चित करें। उक्त निर्देश कलेक्टर श्रीमती वंदना वैद्य ने कलेक्ट्रेट कार्यालय के सोन सभागार में आयोजित जिला स्वास्थ्य समिति की समीक्षा बैठक में दिए। बैठक में सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र गोहपारू के कार्यों की प्रशंसा करते हुए कलेक्टर ने कहा कि अन्य विकासखण्डों के चिकित्सा अधिकारिेयों को अनुशरण करना चाहिए।
नोटिस देने के निर्देश
बैठक में कलेक्टर ने अर्बन पीएससी की कम प्रगति एवं बैठक में अनुपस्थिति होने पर प्रभारी डॉ. सेफाली बारिया को नोटिस देने के निर्देश मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को दिए। बैठक में कलेक्टर ने कहा कि आउटसोर्से से जो कम्प्यूटर ऑपरेटर जो डाटा इंट्री का कार्य कर रहे है, उनके कार्यों की समीक्षा की जाए और कम उपलब्धि पर उनको नोटिस भी दिया जाए और उनके निकालने के लिए पत्र भी लिखा जाए।
सेवाभाव से करना चाहिए कार्य
बैठक में कलेक्टर ने कहा कि जोखिम वाली गर्भवती माताओं का रजिस्टे्रशन एवं उनसे चर्चा तथा उन्हें समय पर चिकित्सकीय उपचार प्रबंधन का निर्वहन करने के लिए हमें समर्पित होकर सेवाभाव से कार्य करना चाहिए। समय पर एम्बुलेंस आदि की सुविधाएं दी जाए जिससे उन्हें अस्पताल में आने जाने में विलंब न हो। बैठक में कलेक्टर ने सभी खण्ड चिकित्सा अधिकारियों को निर्देशित किया कि अति एनिमिक गर्भवती माताओं को ब्लड ट्रांसफ्यूजन किया जा, जिससे असमय अति एनिमिक गर्भवती माताएं और उनके पेट में पल रहा बच्चा काल के गाल में न समा पाए।
त्वरित किया जाये उपचार
बैठक में कहा कि आयुष्मान कार्ड और 12 से 14 वर्ष के बच्चों के वैक्सीनेषन पर प्रभावी कार्ययोजना बनाकर तथा जिला षिक्षा अधिकारी एवं सहायक आयुक्त आदिम जाति कल्याण विभाग से समन्वय स्थापित कर प्रगति सुनिश्चित की जाए। बैठक में एसएनसीयू एवं पीआईसीयू की समीक्षा की और प्रभारी डॉ. सुनील हथगेल को निर्देश दिए कि एसएनसीयू एवं पीआईसीयू में बच्चों को त्वरित चिकित्सकीय उपचार किया जाए जिससे बच्चों की जान बचाई जा सकें।
सोशल ऑडिट महत्वपूर्ण
बैठक में कलेक्टर ने गर्भवती माताओं एवं बच्चों की मृत्यु की सोशल ऑडिट करने के निर्देश देते हुए कहा कि सोशल ऑडिट द्वारा उन कारणों को जाना जा सकता है। जिससे उनकी मृत्यु हुई है और मातृ मृत्यु एवं शिशु मृत्यु दर नियंत्रण में सोशल ऑडिट महत्वपूर्ण भूमिका अदा कर सकती है। बैठक में कलेक्टर ने अन्य राष्ट्रीय स्वास्थ्य कार्यक्रम एवं योजनाओं की समीक्षा करते हुए निर्देशित किया कि सभी समर्पित एवं सेवाभाव से ऐसा प्रयास करे कि जिला प्रदेश में अग्रणी स्थान पर सुशोभित हो सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published.