पटौरा – टोला में लगी भीषण आग

संतोष कुमार केवट

आगजनी के खबर से लोगों में अफरा – तफरी का माहौल

अनूपपुर / जैतहरी

जिला अनूपपुर के तहसील एवं जनपद जैतहरी अंतर्गत ग्राम पंचायत क्योंटार के पटौरा – टोला में वार्ड नंबर 16 के सामने जंगल में भीषण आग लगने से जंगल के वनसंपदा को काफी नुकसान पहुंचा है दूसरी ओर पत्रकार द्वारा सूचना प्राप्त होते ही दोस्तों के साथ आग बुझाने में कोई कसर नहीं छोड़ी है जिससे आग पर कुछ हद तक काबू पा लिया गया है, इसकी सूचना तत्काल वन अमले के विभाग में क्षेत्र के बीज गार्ड को तत्काल आगजनी कि सूचना फोन काल के द्वारा सूचना प्रदान कर दिया गया। उनके द्वारा बताया गया कि वह कुकुरगोडा और चोई के जंगल में आग बुझाने में लगे हुए हैं, जल्द ही वह यहां भी आयेंगे। दूसरी तरफ देखा जाए तो यह आग कैसे लगता है,गर्मी के कारण या कोई लगाता है अभी भी सवालिया निशान खड़े हैं,यह आग राजस्व विभाग के जमीन पर है और जंगल कि ओर बढ़ रहा है।

वनविभाग के अमला ने दी सहभागिता

वन विभाग में आगजनी की खबर सुनकर वन विभाग का अमला कोमल प्रसाद मरावी द्वारा अपने सिपाही और कार्यकारिणी सदस्यों को भेजकर अपनी सहभागिता दिखाई और स्वयं भी तत्काल आने के प्रयास में लगे हुए हैं।विभाग के अमला मौके पर पहुंच कर आग बुझाने का प्रयास कर रहे हैं।

आग लगने का कारण अज्ञात

ऐसी घटना ग्राम में दोबारा हुई है अभी तक आग लगने की घटना कैसी है का पता नहीं चल पाया है और कौन कर रहा है यह भी पता किया जा रहा है गौरतलब बात है कि राजस्व विभाग वन विभाग के बगल से ही लगा हुआ है और राजस्व विभाग में लगे इस आग से वन विभाग को भी काफी नुकसान पहुंच रहा है।

पत्रकार को आग बुझाते समय आई चोंट

ग्राम के प्राकृतिक संपदा और वातावरण को बचाने के लिए पत्रकार साथियों द्वारा आग बुझाने के प्रयास में दो साथियों को थोड़ी चोट और आज से थोड़ी परेशानी आई है फिर भी लगातार बैठ कर आग पर नियंत्रण पाने में इनके द्वारा कोई कसर नहीं छोड़ी गई। बांकि की बची कार्यवाही वन विभाग के अमला द्वारा अनुभव और तकनीक का प्रयोग कर आग बढ़ने से रोकने का प्रयास किया जा रहा है।

कड़ी महनत का सुंदर फल

वन विभाग का अमला और पत्रकार साथियों के कड़ी मेहनत से किए गए अथक प्रयास और अपने मनोबल का परीक्षण कराते हुए जिससे ध्यान रखकर कार्य किया इसका सही नतीजा आगजनी को रोक पाने में फलस्वरूप मिला और पर्यावरण और वन संपदा और राजस्व विभाग के संपादक को बचाने में कामयाबी मिली।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed