देर रात तक बहती रही काव्य-निशा, हास्य व वीर रस में डूबे रहे श्रोता

धनपुरी । हास्य व्यंग और वीर रचनाओं की कविताओं ने नेहरू डिग्री कॉलेज मैदान में समा बांध दिया जिस तरह से एक एक कर कार्यक्रम में आए कवियों ने अपनी रचनाओं की प्रस्तुति की लोगों ने मुक्त कंठ से इसकी सराहना की रात्रि 9:00 बजे से कार्यक्रम की शुरुआत हुई और रात्रि 1:00 बजे तक यह चलता रहा जिस तरह से पूरे आयोजन को लेकर तैयारियां की गई थी व्यवस्थाओं पर ध्यान दिया गया था कोविड नियमों का पालन किया गया था उसकी हर ओर सराहना भी की जा रही थी ।


साहित्य अकादमी के तत्वाधान में आयोजित अखिल भारतीय कवि सम्मेलन में देश भर से ख्याति प्राप्त कभी कार्यक्रम में शिरकत करने पहुंचे थे और सभी ने जिस तरह से अपनी कविताओं की रचनाओं से कार्यक्रम में समा बांधा वहां मौजूद श्रोताओं ने भी तालियों से उनका स्वागत किया कोयलांचल की धरती पर कवि सम्मेलन को लेकर किस तरह से श्रोताओं में उत्साह होता है यह कार्यक्रम स्थल पर मौजूद लोगों को देख कर ही पता चल रहा था ऐतिहासिक कार्यक्रम बनाने में श्रोताओं ने भी अपनी भूमिका निभाई।


आयोजक मंडल लोगों को अच्छी बेहतर व्यवस्था देने में पूरी तरह सफल रहा इस पूरे कवि सम्मेलन में कई ऐसे मौके थे जब शानदार रचनाओं ने श्रोताओं को खड़े होकर सराहना करने में मजबूर कर दिया कहते हैं किसी भी कार्यक्रम की सफलता सभी के प्रयास से होती है और कुछ ऐसा ही इस पूरे कार्यक्रम में देखने को मिला कई दिनों की तैयारियां इस कार्यक्रम में साफ तौर पर दिख रही थी और देर रात तक कार्यक्रम में श्रोताओं ने भी अपनी उपस्थिति बरकरार रखी और इसे सफल बनाने में अपना पूरा योगदान दिया।।


जब हास्य कवि शंभू शिखर की कविताओं पर लगे जमकर ठहाके-

साहित्य अकादमी के तत्वाधान में आयोजित अखिल भारतीय कवि सम्मेलन में मौजूद श्रोताओं को देश के ख्याति प्राप्त कवि शंभू शिखर का किस तरह से इंतजार था यह कार्यक्रम स्थल पर उस समय देखने को मिला जब मंच पर उनके पहुंचते ही सभी ने खड़े होकर तालियों से उनका स्वागत किया अपने हास्य कविताओं के लिए पूरे देश में अपनी अलग पहचान बनाने वाले शंभू शिखर ने नेहरू डिग्री कॉलेज मैदान पर भी श्रोताओं को अपने हास्य कविताओं से ठहाके लगाने पर मजबूर कर दिया जिस तरह से उन्होंने अपनी कविताओं से अपनी बातें रखी और पूरे कार्यक्रम में कई अवसर हैं जब पूरा पंडाल हंसी के ठहाके से गूंज उठता था लोगों ने उनकी कविताओं की सराहना की और आयोजन समिति को भी बधाई दी।

कवि सम्मेलन में सभी कवियों ने दी शानदार प्रस्तुति-

साहित्य अकादमी के तत्वाधान में आयोजित अखिल भारतीय कवि सम्मेलन में देश भर से कार्यक्रम में शामिल होने होने के लिए नेहरू डिग्री कॉलेज मैदान में कवि पहुंचे हुए थे और हर कवि ने अपनी कविताओं की रचनाओं से लोगों को मंत्रमुग्ध कर दिया कार्यक्रम में देश के जाने माने हास्य एवं व्यंग के कवि शंभू शरण में अपनी कविताओं से जिस तरह से कार्यक्रम में समा बांधा था उसकी चर्चाएं पूरे समय होती रहे अपने अलग ही अंदाज में उन्होंने कई ऐसे व्यंग भरी कविताएं पढी जिसकी सभी ने सराहना की उन्होंने कार्यक्रम में मन की बात पर जो प्रस्तुति कविताओं दी पूरे पंडाल में श्रोता तालियों से स्वागत कर रही थी इसी तरह गीत गजल की कवित्री गौरी मिश्रा ने अपनी शानदार कविताओं से पूरे पंडाल में लोगों को भी गुनगुनाने के लिए मजबूर कर दिया वही वीर रस की कवित्री प्रियंका राय ने शानदार प्रस्तुति दी और हर किसी ने उनकी सराहना की इस पूरे कवि सम्मेलन में देश भर से आए ख्याति प्राप्त कवियों ने शानदार प्रस्तुति देकर पूरे जिले में एक अलग पहचान बना गए और लोगों ने भी सभी कवियों की मुक्त कंठ से सराहना भी की।

खचाखच भरा रहा पंडाल कोविड नियमों किया गया पालन-

अखिल भारतीय कवि सम्मेलन में श्रोताओं में उत्साह किस तरह से था यह पंडाल में देर रात तक मौजूद श्रोताओं को देख कर पता चल रहा था शानदार कार्यक्रम की प्रस्तुति ने लोगों को भी पूरे समय कार्यक्रम में रहने के लिए मजबूर कर दिया हर कोई इस कार्यक्रम को सफल बनाने में अपना योगदान भी दिया वहीं दूसरी तरफ जिस तरह से लगातार कोरोनावायरस के मामले बढ़ रहे हैं और इस पूरे कार्यक्रम में शासन के बनाएं नियमों का भी समिति ने पालन किया 2 गज की दूरी मास्क है जरूरी इस कार्यक्रम में देखने को मिली आयोजन समिति के सभी सदस्यों ने कार्यक्रम में आए लोगों को मास्क कभी वितरण किया साथ ही इसी को कोई दिक्कत ना हो इसे लेकर भी पूरा ध्यान दिया गया।

दूर-दूर से कार्यक्रम में पहुंचे थे लोग-

नेहरू डिग्री कॉलेज मैदान में रात्रि 9:00 बजे से कवि सम्मेलन की शुरुआत की और इस आयोजन को लेकर लोगों में उत्साह किस तरह से था यह तो कार्यक्रम में मौजूद श्रोताओं की उपस्थिति को देख कर पता चल रहा था इस कार्यक्रम में कवियों को सुनने के लिए ना सिर्फ कोयलांचल क्षेत्र से लोग शामिल हुए थे बल्कि शहडोल अनूपपुर कोतमा सहित आसपास के क्षेत्रों से बड़ी संख्या में लोग आए हुए थे जिस तरह से इस पूरे आयोजन को सफलता के साथ आयोजन समिति ने किया उसकी सराहना भी हर कोई कर रहा था यह पहला मौका था जब कोयलांचल की धरती पर इतने बड़े कवि सम्मेलन का आयोजन किया गया था और आयोजन की भव्यता ने पूरे जिले में इसे एक नई पहचान भी दी।

इन्होंने कवि सम्मेलन की सफलता पर निभाई भूमिका-

कहते हैं किसी भी कार्यक्रम की सफलता आयोजन समिति की मेहनत पर निर्भर करता है और कुछ ऐसा ही इस पूरे कार्यक्रम को देखकर कहा जा सकता है समिति के सभी सदस्यों ने जिस तरह से कई दिनों पहले से इस कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए मेहनत की जा रही थी वह कार्यक्रम की भव्यता को देखकर सही साबित होता हुआ दिखा इस पूरे आयोजन के संरक्षक हनुमान खंडेलवाल अध्यक्ष कमलेश शर्मा समिति के सदस्य जिला कांग्रेस कमेटी के कार्यवाहक अध्यक्ष बलमीत सिंह खनूजा सुजीत सिंह चंदेल राजकुमार सरावगी वरिष्ठ पत्रकार सनत शर्मा अरविंद नायक अशोक सिंह अजय सिंह की सराहनीय भूमिका रही समिति ने कार्यक्रम को सफल बनाने की जो मेहनत की थी वह पंडाल में आए हजारों श्रोताओं को देख कर पता चल रहा था व्यवस्थाओं से लेकर अगर नियमों की बात की जाए तो सभी का पालन ईमानदारी से किया गया और देर रात तक कवि सम्मेलन सफलतापूर्वक आयोजित होता रहा।

कार्यक्रम का सफल संचालन इंजीनियर अजय द्विवेदी ने किया।

कार्यक्रम में इनकी रही उपस्थिति-

साहित्य अकादमी के तत्वाधान में आयोजित अखिल भारतीय कवि सम्मेलन में मुख्य रूप से व्यवहारी विधायक शरद कोल मजिस्ट्रेट हिदायतुल्ला खान मुख्य महाप्रबंधक शंकर नागाचारी महाप्रबंधक संचालन अमित सक्सेना सब एरिया मैनेजर डॉ शरद दीक्षित पी श्री कृष्णा एरिया फाइनेंस मैनेजर सी डी एन सिंह, पूर्व नगर पंचायत अध्यक्ष श्रीमती शालिनी सरावगी शहडोल से आए सिकंदर खान हिंदू जन जागरण समिति के संरक्षक विनोद शर्मा नगर पालिका धनपुरी के पूर्व उपाध्यक्ष शोभाराम पटेल अनुविभागीय पुलिस अधिकारी भारत दुबे शिवेंद्र सिंह बघेल प्रमुख रूप से मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *