अनूपपुर और जैतहरी की शराब, तस्कर सहित छग के रतनपुर में चढ़े पुलिस के हत्थे

शराब तस्कर जायसवाल का रायपुर में है ठीहा
छग के रतनपुर में पुलिस के हत्थे चढ़े तस्कर
(सीताराम पटेल)
अनूपपुर। छत्तीसगढ़ के अम्बिकापुर में रहने वाले शराब कारोबारी लक्ष्मी प्रसाद जायसवाल ने अपने पुत्र सुमित जायसवाल के नाम पर अनूपपुर मुख्यालय की दुकान का ठेका लिया था, ठेका लेने के अगले दिनों से ही यहां से शराब छत्तीसगढ़ के विभिन्न जिलों सहित रायपुर स्थित होटल रायपुर इन में शराब भेजी जा रही थी, लेकिन जिले की पुलिस और आबकारी अमला शायद ठेकेदार के पुत्र शीनू जायसवाल के मैनेजमेंट के आगे घुटने टेक चुका था, इस कारण लॉकडाउन के दिनों में भी शराब की तस्करी से पुलिस, आबकारी व अंतर्राज्जीय सीमा पर बैठे जिम्मेदारों ने आंखे मूंद रखी थी, बीती 22 जुलाई को जब रतनपुर पुलिस ने महेन्द्रा टीवीयू 300 वाहन क्रमांक सीजी जेड 6365 को रोका और उसमें से करीब 376 लीटर शराब जब्त की, पुलिस ने आशीष डेविड और संतोष गिरी को इस मामले में गिरफ्तार किया और उनके खिलाफ रतनपुर में 34 (2) तथा 59 क के तहत कार्यवाही की गई। थाना प्रभारी प्रशिक्षु डीएसपी ललिता मेहर ने उक्त धरपकड़ के बाद जब मामले की परतें उखाडऩा शुरू की तो, तार मध्यप्रदेश से जुड़े नजर आये।
वकील यादव से इन्होंने शराब ली शराब


शराब ठेकेदार लक्ष्मी जायसवाल द्वारा अनूपपुर की दुकान अपने पुत्र सुमित जायसवाल के नाम पर ली गई है, इसके अलावा अम्बिकापुर के कथित ठेकेदार की एक अन्य दुकान उमरिया जिले के मानपुर में भी है, प्रशिक्षु डीएसपी ने जब आरोपियों से पड़ताल शुरू की तो, यह बात सामने आई कि अनूपपुर स्थित शराब दुकान के वकील यादव नामक युवक से इन्होंने शराब ली थी, जिसके बाद रतनपुर पुलिस 11 अगस्त की रात अनूपपुर से वकील यादव को गिरफ्तार कर रतनपुर ले गई। 12 अगस्त को उसे न्यायालय में पेश करने के बाद उसे एक दिन की पुलिस रिमांड पर लिया गया, फिर 13 अगस्त के पुन: पेश किया गया, जहां से उसे जेल भेज दिया गया।
जारी है सुमित की तलाश


रतनपुर पुलिस को शराब तस्करी के इस मामले में लक्ष्मी जायसवाल के पुत्र और संदीप उर्फ शीनू जायसवाल के छोटे भाई सुमित जायसवाल की तलाश है, शराब जब्त करने के बाद रतनपुर पुलिस ने जब्त की गई बोतलों के बैच नंबर का मिलान अनूपपुर व जैतहरी स्थित दुकान की शराब से करने का प्रयास किया, वहीं तथाकथित ठेकेदार द्वारा दुकान के लिए वेयर हाऊस से उठाई गई शराब के बैच नंबरो का मिलान व कब, कितनी शराब उठाई गई, उसकी भी पड़ताल की जा रही है। रतनपुर पुलिस को इस मामले में पूछताछ के लिए सुमित की तलाश है, लेकिन अभी तक वह पुलिस की पकड़ से दूर है।


पकड़े गये अंतर्राज्जीय शराब तस्कर के गुर्गे


अनूपपुर जिला मुख्यालय के साथ ही जैतहरी ब्लाक मुख्यालय की दुकान का ग्रुप सुमित जायसवाल के नाम पर आवंटित है, खुद लक्ष्मी जायसवाल व उसके पुत्र शीनू जायसवाल ने चर्चा के दौरान बताया कि यहां की जिम्मेदार वकील यादव को दी गई है, काम ज्यादा है, इसलिए वही सब देखता है, सवाल यह उठता है कि अनूपपुर ग्रुप से शराब उठकर कैसे अनूपपुर, जैतहरी पुलिस व आबकारी विभाग के आंखो में धूल झोखते हुए अंतर्राज्जीय सीमा तक पहुंच गई, यही नहीं, सीमा पर भी मैनेजमेंट से गाड़ी आगे निकल गई। रतनपुर पुलिस पहले से ही इस तरह की तस्करी को लेकर चौक्कनी थी, आखिरकार अंतर्राज्जीय शराब तस्कर के गुर्गे तो पकड़े गये, लेकिन मुखिया तक पुलिस के हाथ नहीं पहुंचे हैं।
एसपी ने दो को किया निलंबित
रतनपुर पुलिस द्वारा बीती 22 जुलाई को शराब पकड़ी गई थी, इस मामले में जब यहां थाने में पदस्थ आरक्षक देवराज साहू और संजय श्याम को इन्हें कोर्ट ले जाने की जिम्मेदारी दी गई थी, तब कथित शराब कारोबारी के गुर्गाे को उनके परिवार के सदस्यों से मिलने के लिए आरक्षकों ने वीआईपी ट्रीटमेंट दिया था, कोर्ट जाते समय मित्र मिलन ढ़ाबे में सबने पार्टी की थी, मामला उठने के बाद एसपी प्रशांत अग्रवाल ने दोनों को निलंबित कर विभागीय जांच के आदेश भी दिये हैं।
यहां से भी जाती है शराब


अनूपपुर मुख्यालय के साथ ही उमरिया जिले के मानपुर में भी तथाकथित शराब कारोबारी की दुकान है, यहां ऋषि नामक गुर्गे को कारोबारी ने जिम्मेदारी सौंपी है, खबर है कि मानपुर से भी छत्तीसगढ़ शराब की खेप भेजी जाती है, लेकिन उमरिया जिले की ईमानदार व कर्तव्य निष्ठ पुलिस व आबकारी विभाग को शायद कटघरे में खड़े होने के लिए रतनपुर जैसी कार्यवाही का इंतजार है। अनूपपुर में बैठे आबकारी अधिकारी विकास मंडलोइ और सहायक आबकारी अधिकारी पी. बडा के संरक्षण में ही वर्षो से यह कारोबार संचालित हो रहा है, जब भी इन्हे कोई सूचना दिया जाता है तो यह न तो फोन उठाना मुनासिब समझते है और नही कभी कोई कार्यवाही की जाती है।
इनका कहना है…
मामले की जांच अभी चल रही है, बैच नंबर सहित अन्य बिन्दुओं पर जांच कर रहे हैं और भी नाम जल्द सामने आयेंगे।
ललिता मेहर
प्रशिक्षु उपपुलिस अधीक्षक (थाना प्रभारी) रतनपुर (छ.ग.)
*****
मैं कारोबार नहीं देखता, रायपुर इन होटल में इस वर्ष बार का लायसेंस नहीं लिया है, काम लड़के देखते हैं, रतनपुर की कार्यवाही मैनें कल अखबार में पढ़ी, नई मैडम है, पगला गई है।
लक्ष्मी जायसवाल
शराब कारोबारी, अम्बिकापुर (छ.ग.)
*****
शराब हमारे दुकान की नहीं है, वकील यादव अन्य स्थान से शराब बेच रहा होगा, हम उसके जिम्मेदार नहीं है, हालाकि वह हमारा काम देखता है, हमनें काम ज्यादा होने के कारण, हर जगह ऐसे ही स्थानीय लोगों को काम दे दिया है।
संदीप जायसवाल
शराब कारोबारी, अम्बिकापुर (छ.ग.)
*****
मामले की जानकारी लेकर, सभी थाना प्रभारियों को सूचित किया जायेगा, अगर ऐसी गतिविधियां हो रही है और जो भी लोग संलिप्त है, उनको किसी भी कीमत पर नही छोडा जायेगा, कार्यवाही अवश्य होगी।
अभिषेक राजन, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अनूपपुर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *