सोशल मीडिया में साम्प्रदायिक और धार्मिक विद्वेष फैलाने वाले पोस्ट करना प्रतिबंधित, कलेक्टर श्री मिश्रा ने जारी किया आदेश

सोशल मीडिया में साम्प्रदायिक और धार्मिक विद्वेष फैलाने वाले पोस्ट करना प्रतिबंधित, कलेक्टर श्री मिश्रा ने जारी किया आदेश


कटनी॥ मध्यप्रदेश राज्य निर्वाचन आयोग द्वारा त्रिस्तरीय पंचायत आम निर्वाचन 2022-23 के लिये निर्वाचन का कार्यक्रम जारी किए जाने के फलस्वरूप कटनी जिले में 16 जुलाई तक आदर्श आचरण संहिता लागू होने के परिप्रेक्ष्य में कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट कटनी प्रियंक मिश्रा ने आगामी त्यौहारों को दृष्टिगत रखते हुये कुछ असामाजिक तथा शरारती तत्वों द्वारा इंटरनेट तथा सोशल मीडिया के प्लेटफार्म जैसे फेसबुक, वॉटसऐप, टिवटर, इंस्ट्राग्राम इत्यादि के माध्यम का दुरूपयोग कर साम्प्रदायिक, धार्मिक तथा जातिगत विद्वेष पहुंचाने से दुर्भावना पूर्ण पोस्ट करने की सूचनाएं प्राप्त होने की संभावनाओं को दृष्टिगत रखते हुए, सोशल मीडिया संदेशों को पूर्णतः प्रतिबंधित करने संबंधी प्रतिबंधात्मक आदेश जारी किया है। जारी आदेश के अनुसार कोई भी व्यक्ति सोशल मीडिया के विभिन्न प्लेटफार्मो जैसे फेसबुक, वॉटसऐप, ट्विटर, हाईक, एसएमएस, इन्स्टाग्राम इत्यादि का दुरूपयोग कर धार्मिक और सामाजिक जातिगत भावनाओं एवं विद्वेष को भड़काने के लिये किसी भी प्रकार के संदेशों का प्रसार नही करेगा। कोई भी व्यक्ति उल्लेखित सोशल मीडिया के किसी भी प्लेटफार्म में किसी भी प्रकार की आपत्ति जनक एवं उन्माद फैलाने वाले संदेश, फोटो, ऑडियों, विडियो इत्यादि भी सम्मिलित है, जिसमें धार्मिक सामाजिक जातिगत आदि भावनाएं भड़क सकती है अथवा सम्प्रदायिक विद्वेष पैदा होता हो, को ना ही पोस्ट लिखेगा न ही भेजेगा। सोशल मीडिया के किसी भी पोस्ट जिसमें धार्मिक साम्प्रदायिक एवं जातिगत भावना भड़काती हो को कमेंट, लाइक, शेयर या फॉरवर्ड नहीं करेगा। ग्रुप एडमिन की यह व्यक्तिगत जिम्मेदारी होगी कि वह ग्रुप में इस प्रकार के संदेशों को रोके। कोई भी व्यक्ति सामुदायिक, धार्मिक, जातिगत विद्वेष फैलाने या लोगो अथवा समुदाय के मध्य घृणा, वैमनस्यता पैदा करने या दुष्प्रेरित करने या उकसाने या हिंसा हेतु फैलाने का प्रयास उपरोक्त माध्यमों से नही करेगा और न ही इसके लिये प्रेरित करेगा। कोई भी व्यक्ति अफवाह या तथ्यों को तोड़ मरोड़ कर भड़काने, उन्माद उत्पन्न करने वाले संदेश जिससे लोग या समुदाय विशेष हिंसा या गैर कानूनी गतिविधियों में संलग्न हो जाये सोशल मीडिया में प्रसारित नही करेगा और न ही लाइक, शेयर या फॉरवर्ड करेगा तथा न ही ऐसा करने के लिये किसी को प्रेरित करेगा। कोई भी व्यक्ति या समुदाय ऐसे संदेशों को प्रसारित नही करेगा जिनसे किसी व्यक्ति, संगठन, समुदाय आदि को एक स्थान पर एक राय होकर जमा होने उनसे या कोई विशेष कार्य या गैर कानूनी गतिविधियों करने हेतु आव्हान किया गया हो, जिससे कानून एवं शांति व्यवस्था भंग होने की प्रबल संभावना विद्यमान हो। सोशल मीडिया पर किसी का फर्जी प्रोफाईल बनाना या उसे प्रसारित करना दण्डनीय अपराध है।
आदेश का उल्लंघन करने की दशा में संबंधित के विरूद्ध भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188, आई.टी.एक्ट 2000 के विभिन्न नियमों तथा अन्य अधिनियमों के अंतर्गत दण्डात्मक कार्यवाही की जायेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed