कमीशन की भेट चढ़ी सवा तीन करोड़ की सड़क ,उखड़ गई गिट्टी

ठेकेदार ने बनाया घटिया सड़क,तकनीकी जानकारो ने उठाए सवाल

शहडोल। पिछले पांच साल से लोक निर्माण विभाग द्वारा बनाई जा रही सड़को की हालत खस्ता है। बनने के साथ ही सड़के उखड़ रही है। जिसमे आवागमन दुस्कर बना हुआ है। लेकिन विभाग द्वारा ठेकेदार पर कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। बल्कि उल्टा ठेकेदारो को उपकृत किया जा रहा है। अभी हाल ही में हर्राटोला से मोहतरा मार्ग करीबन सवा तीन करोड़ लागत से ठेकेदार अजीत त्रिपाठी द्वारा निर्माण कराया गया है। जिसकी गिट्टी पूरी तरह से उखड़ गई है। रसमोहनी स्कूल के पास तो सड़क की हालत बहुत ही गम्भीर है,जहां पैदल चलने में भी दिक्कत है, जिसका वरिष्ट अधिकारी भी निरीक्षण कर चुके है। इसके बाद भी कार्रवाई नोटिस तक सीमित है। यहां घटिया सड़क की शिकायत कमीशन के चलते अनसुनी हो रही है। ठेकेदार अधिकारियो की नोटिस के बाद भी अभी तक खराब सड़क के मरम्मत का कार्य शुरू नहीं किया है।
एसडीओ व उपयंत्री का संरक्षण
शिकायत में बताया गया हैे कि एसडीओ मनोज दुबे न उपयंत्री एम.पी.सिंह द्वारा ठेकेदार अजीत त्रिपाठी को खुला संरक्षण दिया जा रहा है। सड़क बनते समय पर भी स्थानीय लोगो द्वारा शिकायत की गई थी, लेकिन एसडीओ व तात्कालीन उपयंत्री द्वारा जानबूझकर नजर अंदाज किया गया। ठेकेदर सड़क निर्माण में स्टीमेट को दरकिनार कर मनमानी ढंग से खराब सड़क का निर्माण जारी रखा गया। जिसका खामियाजा अब आम जनता को भोगना पड़ रहा है।
 शिकायते रही अनसुनी
यह रोड जब ठेकेदार द्वारा बनाई जा रही थी, उसी समय इसकी गुणवत्ता को लेकर तकनीकी जानकारो द्वारा सवाल उठाए जा रहें थे। जिसकी जवाबदार अधिकारियो से शिकायत भी की गई थी, लेकिन अधिकारियों ने ठेकेदार पर कोई कार्रवाई नहीं की थी। अब जब सड़क उखड़ गई है, मौके पर अधिकारी निरीक्षण कर चुके है, इसके बाद भी ठेकेदार अधिकारियों पर भारी पड़ रहा है। खराब सड़क से वाहन चालक और राहगीर परेशान है। वही लोक निर्माण के अधिकारी और ठेकेदार चैन की नींद ले रहे है। जबकि यह सड़क अभी गारंटी पीरियड में है। इसके बाद भी अधिकारियों का ठेकेदार पर कोई नियंत्रण नहीं है या फिर अधिकारी करिश्माई कागज के टुकड़ो की बदौलत कार्रवाई करने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहे है।
हमेशा बने रहे चर्चा में
लोक निर्माण विभाग द्वारा बुढ़ार, रसमोहनी एवं जैतपुर क्षेत्र में पिछले पांच साल में जितनी सड़के बनाई गई है, सभी सड़के लोकनिर्माण विभाग की उदासीनता व ठेकेदार की मनमानी के चलते खस्ता हाल हो चुकी है। अधिकारी एक ही रट लगाते है कि सड़क अभी गारंटी पीरियड में है, लेकिन सवाल उठता है कि सड़क गुणवत्ता की कमी की वजह से बनने के साथ ही उखड़ रही है। उससे जो आम जनता को परेशानी हो रही है, उसका जवाबदार आखिर कौन है। गारंटी पीरियड में ठेकेदार फिर लीपा पोती कर देगा। महीने दो महीने में सड़क फिर बर्बाद हो जाएगी, लेकिन जिले का लोक निर्माण विभाग निश्चिंत बना हुआ है। जैसे खराब सड़क के लिए उसकी कोई जवाबदारी ही नहीं है।
इनका कहना है…
सड़क तीन करोड़ 45लाख में बनी थी। सडक की गिट्टी उखड़ गई है। अभी हम वहीं पर है। सड़क सुधारने के लिए ठेकेदार को नोटिस दिया गया है।
मनोज दुबे
एसडीओ लोक  निर्माण विभाग शहडोल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *