अतिक्रमण की चपेट में विद्यालय की भूमि

कार्यवाही के बजाय जिम्मेदार नहीं दे रहे ध्यान

(Santons Tandon +7987303454)
उमरिया। जिले में शासकीय भू-खण्ड पर अतिक्रमण जोरों पर है, लेकिन जिम्मेदार मूक दर्शक बने हुए हैं, प्रदेश भर में अतिक्रमण हटाओ की मुहीम चली, लेकिन जिले में यह मुहीम रसूखदारों और भगवाधारी नेताओं के इशारे में दम तोड़ दी। यही नहीं कई अतिक्रमणकारियों का अतिक्रमण नोटिस तक सीमित रह गया तो, कई दबंगों को नोटिस भी जारी नहीं हुआ। वहीं पड़ोसी जिले में माफियाओं के खिलाफ कार्यवाहियां की गई, लेकिन उमरिया जिले में यह कार्यवाही भगवाधारी नेताओं के उंगली के इशारे में जहां तहां सुर्खियां बटरोने के लिए चलाई गई। वहीं जनप्रतिनिधि ने शासकीय स्कूल की जमीन पर कब्जा जमा रखा है और जिम्मेदार जानबूझकर अंजान बने हुए हैं।
छज्जा के नाम पर कब्जा
शासकीय भूमि पर दबंगों और रसूखदारों का बोलबाला है, जबकि नजरें घुमायी जाए तो, कई शासकीय कर्मचारियों ने भी सरकारी भूमि पर लंबा चौडा कब्जा जमा रखा है। डबरौहा स्थित नर्सरी के समीप खाली पड़ी शासकीय भूमि पर कई कर्मचारियों ने कब्जा जमा लिया, बची कुछ शेष भूमियों पर दबंगों ने अतिक्रमण कर रखा है, ऐसे में शासकीय भूमि को अतिक्रमण कर उसकी खरीद फरोख्त की भी बातें सामने आ रही हैं।
शिक्षास्थली पर दबंगों का कब्जा
अतिक्रमण की चपेट में शासकीय स्कूल अछूता नहीं रह गया, बल्कि शासकीय हाई स्कूल लालपुर की भूमि पर पूर्व जनपद अध्यक्ष ने अपने रसूख के बल पर कब्जा जमाकर निर्माण कर लिया, जिसे लेकर सूत्रों की माने तो वहां के पूर्व प्रभारी प्रधनाध्यापक द्वारा जिला शिक्षा अधिकारी से लेकर कलेक्टर तक को शिकायतें की, लेकिन नतीजा सिफर रहा। प्रशासनिक उदासीनता की भेंट चढ़ रही, अतिक्रमणकारियों के खिलाफ कार्यवाही सूबे के मुखिया का मंच से भू-माफियों को दिए गए संदेश को काटने का काम कर रही हैं, जिससे उनके हौसले पस्त होने के बजाय बुलंद हो रहे हैं।
इनका कहना है…
कब्जा किया गया है, पूर्व में शिक्षकों द्वारा उच्चाधिकारियों को लिखित में जानकारी दी गई है।
समी खान
प्रभारी प्राचार्य, हाई स्कूल लालपुर
*****
प्राचार्य से बात करके आपको जानकारी दूंगा।
उमेश धुर्वे
डीईओ, उमरिया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *