4 फिट से बड़ी मूर्तियां एवं चल समारोह रहेगा प्रतिबंधित: कलेक्टर

गणेश उत्सव संबंधी शांति समिति की बैठक संपन्न

शहडोल। नवागत कलेक्टर श्रीमती वंदना वैध की उपस्थिति में कलेक्टर कार्यालय के सोन सभागार में गणेश उत्सव के विषय में शांति समिति की बैठक संपन्न हुई। बैठक में शांति समिति के सदस्यों सहित जिला प्रशासन द्वारा निर्णय लिया गया कि राज्य शासन के द्वारा जारी 14 व 19 जुलाई को दिशा-निर्देशों के परिपालन में जिले में गणेश उत्सव के अवसर पर निर्धारित 30&45 फिट का पंडाल एवं 4 फिट से ऊपर की मूर्तिया नहीं रखी जा सकेंगी तथा किसी भी प्रकार का चल समारोह प्रतिबंधित रहेगा, सभी आयोजन स्थलों पर आवश्यक रूप से मास्क एवं सैनिटाइजर तथा सोशल डिस्टेंसिंग का पालन आवश्यक होगा, विसर्जन स्थलों पर सभी आवश्यक व्यवस्थाएं सुलभ रहेंगी तथा सायं 6:00 बजे के पहले सभी मूर्तियों का विसर्जन अनंत चतुर्थी के दिन आवश्यक होगा। प्रतिमा पूजा पंडालों में मास्क, सैनिटाइजर एवं समिति के दो दो सदस्य 24 घंटे पंडाल में उपस्थित रहेंगे तथा जनहितकारी संदेशों का प्रसारण भी करते रहेंगे।
न हो पानी का जमाव
कलेक्टर श्रीमती वंदना वैद्य ने कहा कि जिले के सभी मार्गों में साफ-सफाई एवं सौंदर्यीकरण कराना सुनिश्चित किया जाए तथा पंडालों के आस-पास भी पर्याप्त स्वच्छता करने का इंतजाम किए जाएं। जिला मुख्यालय सहित अन्य सार्वजनिक स्थलों पर पानी का जमाव कतई न हो इसका विशेष रुप से ध्यान रखा जाए। कलेक्टर ने विसर्जन स्थलों में किसी भी प्रकार की दुर्घटनाएं ना हो, इसका भी विशेष रूप से ध्यान रखा जाए। उन्होंने विसर्जन हेतु दिशा-निर्देश देते हुए कहा कि पानी में अघुलनशील वस्तुओं को विसर्जन के पूर्व मूर्ति से अलग कर केवल घुलनशील वस्तुओं को ही पानी में विसर्जित करें जिससे जल जीवो को खतरा उत्पन्न ना हो।
अवैध विद्युत का न करें उपयोग
अपर कलेक्टर अर्पित वर्मा ने कहा कि सभी पंडालों में अस्थाई विद्युत कनेक्शन आवश्यक रूप से लिए जाएं तथा अवैध रूप से किसी भी पंडाल में विद्युत का उपयोग न किया जाए। बैठक में पुलिस अधीक्षक अवधेश कुमार गोस्वामी ने कहा कि निर्धारित पंडाल स्थल के अलावा अन्य पंडाल नहीं लगाए जाएं तथा कोविड-19 को दृष्टिगत रखते हुए नियमों का कड़ाई से पालन सुनिश्चित यह आयोजन समितियों के प्रमुख एवं सदस्यगण ध्यान रखें।
वार्डाे में 5 विसर्जन रथ
अपर कलेक्टर अर्पित वर्मा ने कहा कि पंडालों में दो-दो व्यक्ति हर समय उपस्थित रहे तथा विसर्जन स्थलों पर गोताखोर, वोट सहित अन्य आवश्यक व्यवस्थाएं बनाए रखें, विसर्जन नदी या सार्वजनिक तालाबों में ना कर उनके आस-पास कुंड बनाकर अलग से विसर्जन करें तथा सायं 6 बजे के पूर्व आवश्यक रूप से सभी प्रतिमाओं का विसर्जन कराना समिति के सदस्य सुनिश्चित करें एवं विसर्जन में पुलिस बल का सहयोग एवं साथ भी ले। बैठक में यह भी निर्णय लिया गया कि जिला मुख्यालय में 5 विशेष विसर्जन रथ वार्डो में तैनात किए जाएंगे, जिसमें नगर पालिका के दल रहेंगे इन रथों में अपने अपने घरों में स्थापित छोटी मूर्तियां इन रथों में रखवाना सुनिश्चित करें, जिससे यह विसर्जन रथ इन मूर्तियों का विसर्जन निर्धारित स्थान में ले जाकर कर सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *