सचिव-रोजगार सहायक ग्रामीणों से करते हैं अभद्रता

पीएम आवास के नाम पर ली जाती है रिश्वत

(Anil Tiwari +7000362359)
उमरिया। जिले के पंचायतों में फैले भ्रष्टाचार के मकडज़ाल से विकास पानी में बह रहा है और पद पर आसीन जिम्मेदार कार्यवाही की बजाय मुंह मोड रहे हैं। ऐसे में आम नागरिकों को न ही शासकीय योजनाओं का लाभ मिल रहा है और न ही पंचायत का संर्वांगीण विकास हो पा रहा है, लेकिन इससे सरपंच और सचिव शासकीय पैसों से अपनी जेबें जरूर भरने में लगे हैं। करकेली जनपद के पंचायत अंचला में सचिव और सरपंच के मिलीभगत ने पीएम आवास देने के बदले रिश्वत लेने का व फर्जी मस्टर रोल के नाम पर भुगतान किया जा रहा है, जिसमें सरपंच, सचिव व सहायक सचिव की मिली भगत है।
सरकार के सपनों पर चोट
वर्ष 2019-20 का समय कोरोना महामारी की चपेट में रहा है, जिसके बाद रोजगार मुहैया कराने के लिए शासन स्तर से कर्ज लेकर पंचायतों को राशि का आवंटन किया गया़, साथ-साथ भारत सरकार के प्रधानमंत्री द्वारा गरीब लोगों को आवास प्रदान करने के लिए राशि दी गई, सूत्रों की माने तो ग्राम अंचला पंचायत के सचिव, सरपंच के मिली भगत ने यहां भी सरकार के सपनों को करारी चोंट पहुंचाई है। यही नहीं ग्राम पंचायत अंचला में वर्ष 2020 में कार्य के नाम पर खानापूर्ति कर घटिया निर्माण कर राशि का बंदरबांट किया है।
ठण्डे बस्ते में जांच
करकेली जनपद की कई पंचायतें जिले में भ्रष्टाचार की मिसाल बन चुकी है। वहीं ग्राम अंचला ,पंचायत के सरपंच व सचिव पर लाखों रूपये के घोटाले व अभद्रता करने के आरोप लगे हैं। खबर है कि वर्तमान सचिव, सहायक सचिव व सरपंच के की लंबी हेराफेरी और भ्रष्टाचार की सीएम हेल्पलाइन व शिकायत वरिष्ठ कार्यालय को दी गई है, लेकिन वह भी ठण्डे बस्ते में डली है।
इनका कहना है…
सचिव द्वारा अभद्र व्यवहार नहीं किया जाता है।
श्रीमती प्रभा चतुर्वेदी
सरपंच
ग्राम पंचायत अंचला

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *