शहडोल में वीडियो बनाकर रूपये एैठने वाले सैक्स रैकेट गिरोह का पर्दाफाश

शहडोल सहित जबलपुर व छग के पेण्ड्रा तक फैले थे तार
गिरोह की दो महिलाएं, एक पुरूष गिरफ्तार, तीन अभी भी फरार

शहडोल कोतवाली पुलिस ने सैक्स रैकेट का संचालन करने वाली दो युवतियों व एक युवक को गिरफ्तार करते हुए गिरोह का पर्दाफाश किया है। जबकि इतने ही आरोपी अभी फरार हैं, यह गिरोह सैक्स परोसने के साथ ही वीडियो बनाने, नकली पुलिस बनकर लाखों की वसूली में अर्से से लगा था।
शहडोल। मुख्यालय के कल्याणपुर से संचालित होने वाले सैक्स रैकेट की दो स्थानीय युवतियों व धनपुरी के वसीम उर्फ मंजा नामक युवक को पुलिस ने शुक्रवार को गिरफ्तार किया, जबकि दो अन्य युवतियां व बकहो का एक युवक अभी फरार है। कोतवाली पुलिस ने चचाई थाना अंतर्गत अमलाई निवासी पीडि़त युवक की शिकायत पर जांच के उपरांत गिरफ्तारियां की और अर्से से चल रहे सैक्स रैकेट गिरोह का पर्दाफाश किया है। यह गिरोह फोन कॉल पर युवकों को प्रेम जाल में फंसाने, उनके सामने सैक्स परोसने से लेकर नकली पुलिस बनकर छापामारने, अश्लील वीडियो बनाकर डराने, धमकाने तथा बंधक बनाकर वसूली करने व मारपीट करने में भी कोई गुरेज नहीं करता था। बीते माह हुई शिकायत के बाद कोतवाली प्रभारी रत्नांतबर शुक्ला, एसआई सुभाष द्विवेदी, पुलिस अधीक्षक अवधेश कुमार गोस्वामी व अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक मुकेश वैश्य के निर्देशन में जांच में जुटे थे, जिसके बाद शुक्रवार को आरोपियों को पकडऩे के बाद उन्हें न्यायालय में पेश कर दिया गया।

अनूपपुर जिले के चचाई थाना अंतर्गत अमलाई निवासी फरियादी उम्र 52 साल के द्वारा पुलिस को मामले की शिकायत दी गई, जिसमें यह उल्लेख किया गया कि 20 वर्षीय युवती जो मुंडा अनूपपुर की निवासी है, उसके साथ की 01 और लड़की उम्र करीब 20 साल 01 महिला उम्र करीब 35-45 वर्ष व एक पुरुष 30-40 वर्ष के द्वारा मेरे साथ जान से खत्म कर देने की धमकी देकर मुझसे फोटो वायरल करने के नाम पर पैसे लिए गए व मेरे साथ मारपीट की गई। मुझे कमरे के अंदर बंद रखा गया। पुलिस ने विवेचना उपरांत 6 लोगो के खिलाफ धारा 386, 342,323,294,34 भा.द.वि का पाए जाने से पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया था।

फरियादी ने बताया कि मेरे मोबाइल पर बीती 05 मई को रात में 10.32 मिनट पर नये नंबर से फोन आया मैने कहा कौन बोल रहा है। उस नंबर पर कोई लड़की बोल रही थी, उसने मेरी जानकारी पूछी तो पहले मैने नहीं बताया पर उसने अपना नाम शिखा बताया और बोली कि मैं कटनी से बोल रही हूं। वह मजाक करने लगी तो, मुझे लगा कि जान पहचान की है, फिर थोरी देर तक बात करने के बाद जब मुझे लगा कि फर्जी टाईप से कोई है तो, मैने फोन रख दिया फिर अगले दिन भी उसी नंबर से फोन आया, लेकिन बात नहीं हुई। फिर उसी नंबर से 09 मई को शाम को फोन आया, जिसमे बात हुई तो वह लड़की बोली की मै दूसरे नंबर से फोन करती हूं। फिर उसने दूसरे नये नंबर से फोन किया और उसने थोड़ा बात की फिर 16 मई को उसी नंबर से फोन किया और मुझसे वह लड़की प्यार मोहब्बत की बात की तो मैने भी बात कर ली उस दिन के बाद से 23 मई तक मेरी बात होती रही। 23 मई को उस लड़की ने अपने दोस्त सुभाष तिवारी के साथ मोटर सायकल कन्या महाविद्यालय के सामने छोड़ दिया। उसके मुझे 11.00 बजे फोन करके मुझे शहडोल बुलाई तब मैने अमलाई से आया में मेरे दोस्त ने मुझे बाद उसी लड़की ने मुझे फोन किया व मुझे लेने आई वह मुझे कल्याणपुर तरफ पैदल लेकर गई। वह मुझे एक घर लेकर गई वहां एक लड़की और बैठी थी। उन दोनों ने मुझे अंदर बिठा लिया मैं अंदर बैठ कर थोड़ी देर बात किया फिर दोनों लड़कियां मेरे बगल में बैठ कर बात करने लगी। तभी उनमें से एक लड़की बाहर चली गई व मेरे पास बैठी लड़की ने दरवाजा बंद कर लिया इतने में कोई दरवाजा खटखटाने लगा पास बैठी लड़की ने दरवाजा खोला तो पहले वाली लड़की के साथ एक महिला व पुरुष आये।

महिला की उम्र करीबन 35-45 के बीच रही होगी व पुरुष 30-40 के बीच मे था उस महिला ने मुझसे कहा कि मैं पुलिस की टी आई हूं, तुझे बताती हूं। उसके बाद उस महिला व पुरुष व उन दोनों लड़कियों ने मेरे साथ मारपीट किया और कहा कि तुझे जान से खत्म कर देगें नही तो पैसा दे। साहब उन लोगों के द्वारा मुझे कमरे के अंदर बंद करके मेरे साथ मारपीट की गई व जान से मारने की धमकी दी गई तो, मैं बहुत डर गया मुझे लगा कि आज तो मेरी जान गई। उसके बाद महिला व पुरुष ने मेरे कपड़े उतरवा कर दोनों लड़कियों के साथ मेरा व उनका अर्ध नग्न फोटो खींचा व मुझसे मारपीट करते हुये कहने लगे कि अगर जान से बचना है व इज्जत प्यारी है तो, पैसे देने पड़ेगे तब उस महिला ने मुझे गाली दी और उसके बगल पुरुष एक राड दिखाकर मुझसे कहा कि पैसा देगा की जान से जायेगा। मैने अपनी जेब से 10 हजार रुपये निकाल कर उन्हें दे दिया और उस महिला ने मुझसे कहा कि अगर फोटो वायरल नहीं करनी तो 10 लाख रुपये देना पड़ेगा तब मैनें कहा कि मेरे पास पैसा नहीं है तो, महिला व उस पुरुष ने व दोनो लड़किया ने मेरे साथ पुन: मारपीट की।

फरियादी ने पुलिस को बताया कि मारपीट के बाद फिर महिला ने कहा कि दोस्तो से अपने फोन पर पैसा मंगाओ, तब मैने अपने मोबाईल नंबर से फोन करके से 9,000, 5,000, 07 हजार तथा बेटों से 35,000 व 5000 रुपये फोन पे पर दिया उसके बाद भी ये सभी लोग मेरे साथ मारपीट करते रहे। उसके बाद महिला व पुरुष उस घर मे निकलकर अपने मोटर सायकल में बैठाकर मुझे लेकर राजेन्द्र टाकिज के पास एक किराना दुकान में लेकर गये वहां पर मुझसे 50 हजार, 3000 10000 उस दुकान वाले के खाता से ट्रांसफर करवाया। जब मैं फोन पे से ट्रान्सफर दुकान वाले का नाम आशुतोष गुप्ता शो कर रहा था, फिर आशुतोष से उन्होनें कैश ले जब वह कैश ले रही थी, तब मौका पाकर भाग निकला, वहाँ से निकलकर मैने अपने दोस्त को फोन किया और सुभाष तिवारी के यहां चला गया।

फरियादी ने पुलिस को बताया कि अपने साथ हुई घटना की बात प्रिंस यादव, पवन शर्मा को बताया। शर्म के कारण मैं यह बात घर में नहीं बताया हूं, लेकिन इन चारों मुझे कमरे में बंद करके मेरा व उन दोनों लड़कियों का अर्ध नग्न फोटो वायरल करने व जान से मारने की धमकी देकर मेरे साथ 01 महिला 01 पुरुष व उन दोनों लड़कियों ने मारपीट करके मुझे कुल 73,000 रुपये ले लिये, उसके बाद मैं डर गया था व उस लड़की का फिर से फोन आया तो, उसने कहा कि अगर तूने पुलिस में रिपोर्ट की तो तुझे मैं खुद केस मे फंसा दूंगी। डर के कारण मैने उसके बाद रिपोर्ट नहीं कि, लेकिन मैं चुपचाप इस गैंग के बारे मे पता करता रहा, काफी पता करने के बाद मुझे पता चला कि मोबाईल नंबर वाली लड़की कौन है, जो कल्याणपुर मे रहती है। पीडि़त ने पूरे मामले से पुलिस को अवगत कराते हुए कार्यवाही की मांग की थी। जिसके बाद पुलिस ने पूरे रैकेट का पर्दाफाश किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.