1 माह में 5 लाख टन कोयले का कीर्तिमान सोहागपुर एरिया

(संतोष शर्मा एवं चंद्रेश मिश्रा )

 

धनपुरी/शहडोल।सोहागपुर एरिया कोयला उत्पादन को लेकर जिस तरह से नित नए कीर्तिमान स्थापित कर रहा है वह एरिया के लिए अच्छे संकेत कहे जा सकते हैं क्योंकि सोहागपुर एरिया लगातार अरबों रुपए के घाटे में चल रहा है ऐसे समय में कोयला उत्पादन करना प्रबंधन के लिए एक बड़ी चुनौती है और जिस तरह से इस चुनौती का सामना कर के कोयला उत्पादन किया जा रहा है वह प्रबंधन के कड़ी मेहनत का अगर नतीजा कहे तो गलत नहीं होगा अक्टूबर माह में कोयला उत्पादन एक माह में 5 लाख टन पार कर गया जो कि एक नया कीर्तिमान है क्योंकि सोहागपुर एरिया को जो लक्ष्य मिला है अगर उसे पाना है तो इसी तरह न सिर्फ कोयला उत्पादन बढ़ाना होगा बल्कि नए कीर्तिमान भी स्थापित करने होंगे वैसे अगर देखा जाए तो बिलासपुर मुख्यालय के द्वारा सोहागपुर एरिया को मार्च 2020- 21 का जो कोयला उत्पादन का लक्ष्य दिया गया है वह 67 लाख 90 हजार टन के आसपास है और अभी मंजिल काफी दूर है लेकिन जिस तरह से दृढ़ संकल्प करके सुहागपुर एरिया नियंत्रण आगे बढ़ रहा है उससे यह उम्मीद है कि इस वर्ष का उत्पादन लक्ष्य जो मिला है उसे हासिल करने में सुहागपुर एरिया एक नया इतिहास लिखेंगी।
सुहागपुर एरिया को कोयला उत्पादन लक्ष्य प्राप्त करने के लिए इसी तरह से उत्पादन बढ़ाना होगा जिस तरह से अक्टूबर माह में किया गया अब तक देखा जाए तो इस माह हुआ यह उत्पादन अब तक का सर्वाधिक है यही कारण है कि अधिकारियों का भी मनोबल दोगुना होगा कोयला उत्पादन को लेकर सुहागपुर एरिया तेज गति से आगे बढ़ रहा है जोकि अच्छा ही कहा जा सकता है लगातार घाटा सुहागपुर एरिया को हो रहा है ऐसे में इस घाटे को कम करने के लिए कोयले का उत्पादन बढ़ाया जाना महत्वपूर्ण माना जा सकता है महाप्रबंधक शंकर नागाचारी पदभार ग्रहण करने के साथ ही कोयला उत्पादन को लेकर लगातार खदानों का दौरा कर रहे हैं और अधिकारियों से कोयला उत्पादन से संबंधित प्रतिदिन कब फीडबैक भी ले रहे हैं यही कारण है कि कोयला उत्पादन को लेकर आ रही मुश्किलें भी दूर हो रही हैं और सुहागपुर एरिया उत्पादन लक्ष्य को लेकर निरंतर अपने कदमों को आगे बढ़ा रही है।

आधा लक्ष्य हुआ पार-

अगर कहे की सुहागपुर एरिया का कोयला उत्पादन जिस गति से आगे बढ़ रहा है वह अपने आधे लक्ष्य को प्राप्त कर लिया है तो गलत नहीं होगा क्योंकि बिलासपुर मुख्यालय के द्वारा सुहागपुर एरिया को इस साल कोयला उत्पादन का जो लक्ष्य दिया गया है वह 67 लाख 90 हजार टन के करीब है ऐसे में अभी तक 30 लाख टन से अधिक कोयला उत्पादन हो चुका है और देखा जाए तो लगभग लगभग आज ही मंजिल को सुहागपुर एरिया पार कर गया है बरसात का 3 माह होने के कारण कोयला उत्पादन लक्ष्य कुछ पिछड़ा है लेकिन अब जिस तरह से उत्पादन हो रहा है आगे चलकर यह और भी बढ़ेगा साथ ही सुहागपुर एरिया भी उत्पादन लक्ष्य की ओर अग्रसर होगा लगातार कोयला उत्पादन बढ़ाने को लेकर महाप्रबंधक जोर दे रहे हैं और एरिया के अधिकारी भी कदमताल कदम उनके साथ आगे बढ़ रहे हैं वैसे देखा जाए तो महाप्रबंधक श्री नागा चारी के पदस्थापना के साथ ही इस साल कोयला उत्पादन लक्ष्य को लेकर एक नया विश्वास भी देखने को मिल रहा है।

अमलाई ओसीएम लगातार मार रहा बाजी-

सुहागपुर एरिया को अगर कोयला उत्पादन लक्ष्य प्राप्त करना है तो तो इसका सबसे अधिक दारोमदार दो ओपन कास्ट माइंस पर ही टिका होता है जिनमें धनपुरी ओसीएम तो उम्मीद से पीछे चल रहा है लेकिन अमलाई ओशियम सभी उम्मीदों से आगे अपने लक्ष्य की ओर बढ़ रहा है अभी तक मैं यहां 8 लाख 71 हजार 960 टन कोयला उत्पादन 31अक्टूबर तक में हो चुका है जो कि अपने लक्ष्य से अभी आगे चल रहा है उप क्षेत्रीय प्रबंधक डॉ शरद दीक्षित कोयला उत्पादन को लेकर जिस तरह की मेहनत और लगन यहां पर दिखा रहे हैं उसी का नतीजा है कि कठिन परिस्थितियां होने के बाद भी उत्पादन का लक्ष्य निरंतर आगे बढ़ रहा है आने वाले माह में यहां पर उत्पादन का लक्ष्य और भी बढ़ेगा जिसका सीधा लाभ सुहागपुर एरिया के इस वर्ष मिले लक्ष्य के लिए लाभदायक होगा यहां पर कोयला उत्पादन प्रतिदिन ६ हजार टन के आसपास हो रहा है।

मुश्किल डगर में करना है लक्ष्य की प्राप्ति-

कभी कोयला उत्पादन को लेकर सुहागपुर एरिया का पूरे बिलासपुर मुख्यालय में अपनी एक अलग पहचान होती थी लेकिन बीते कुछ सालों में यहां पर उत्पादन लक्ष्य अपनी पहचान से काफी पीछे रुक सा जाता है यही कारण है कि इस वर्ष मिले कोयला उत्पादन लक्ष्य को प्राप्त करना एक कड़ी चुनौती होगी डगर भले मुश्किल हो लेकिन जिस तरह से उम्मीद की एक नई किरण देखने को मिल रही है उससे यह भरोसा लग रहा है कि इस साल कोयला उत्पादन लक्ष्य सोहागपुर एरिया प्राप्त कर सकता है।
नवागत महाप्रबंधक शंकर नागा चारी काफी सुलझे हुए अधिकारी माने जाते हैं कठिन परिस्थितियों में भी मुश्किल लक्ष्य को प्राप्त करना उनके लिए मुश्किल भरा नहीं होता है और पूर्व में भी उनके कार्य कुशलता को देखा जा चुका है ओपन कास्ट से लेकर भूमिगत खदानों में कोयला उत्पादन बढ़ाने की दिशा में उनके कार्यों को जितना भी सराहा जाए वह कम है क्योंकि एक टीम भावना के साथ वह कोयला उत्पादन लक्ष्य प्राप्त करने को लेकर आगे बढ़ रहे हैं।

5 माह में करना है 37 लाख टन से अधिक उत्पादन-

अक्टूबर का माह समाप्त हो चुका है और नवंबर से लेकर 31 मार्च तक में 5 माह का समय है जिसमें कोयला उत्पादन को लेकर मिले लक्ष्य को पूरा करना है अभी तक में 30 लाख टन से अधिक कोयला उत्पादन हो चुका है और अभी भी 37 लाख टन से अधिक कोयला उत्पादन करना है लेकिन बरसात का 3 माह होने के कारण कोयला उत्पादन में कुछ कमी आ जाती है लेकिन अब बरसात समाप्त हो चुकी है ऐसे में कोयला उत्पादन भी न सिर्फ बढ़ेगा बल्कि अपने लक्ष्य की ओर अग्रसर होगा।

कोयला उत्पादन लक्ष्य प्राप्त करना ही प्राथमिकता-नागाचारी

कहते हैं अगर मन में लगन हो तो हर लक्ष्य पूरा होता है कुछ ऐसा ही वर्तमान में सोहागपुर एरिया के अंदर कोयला उत्पादन को लेकर देखा जा रहा है महाप्रबंधक शंकर नागाचारी ने पदभार ग्रहण करने के साथ ही अपने इरादों को साफ कर दिया था कि कोयला उत्पादन उनकी पहली प्राथमिकता है और इन्हीं बातों के साथ वह आगे बढ़ रहे हैं सुरक्षा के साथ कोयला उत्पादन लक्ष्य प्राप्त करना एक चुनौती है जिसका वर्तमान में सुहागपुर एरिया डटकर सामना कर रहा है लगातार जिस तरह से महाप्रबंधक समस्त खदानों का दौरा कर वहां अधिकारियों से मिलते हैं और कोयला उत्पादन को लेकर चर्चा करते हैं साथ ही जो समस्याएं उनके समझ आती है उसे भी वह दूर करने का प्रयास करते हैं यही कारण है कि एरिया में इन दिनों कोयला उत्पादन लक्ष्य प्राप्त करने के लिए सभी मिलकर काम कर रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *