कहीं अपराधियों से, तो कहीं अपनो से परेशान वर्दी

अमलाई में बदमाश ने एक बार फिर वर्दीधारियों पर किया हमला

इधर धनपुरी में प्रभारी से प्रताडि़त महिला अधिकारी

शहडोल। महिला पुलिस अधिकारी को थाने के मुखिया ने इतना परेशान किया कि लंबे समय तक डिप्रेशन के बाद महिला अधिकारी ने कप्तान को इस्तीफे की पेशकश कर दी। शिकायत को लंबा समय हो जाने के बाद भी इस मामले में मुख्यालय में बैठे अधिकारियों के द्वारा कोई कार्यवाही नहीं की गई। बुधवार को पुलिस अधिकारियों के इस मामले में यह बयान जरूर आये कि धनपुरी थाने की महिला अधिकारी के द्वारा थाना प्रभारी ओकारेश्वर ठाकरे के खिलाफ मिली शिकायत की जांच की जा रही है, बयान आदि लेने के बाद कार्यवाही होगी, लेकिन गुरूवार को पुलिस अधिकारियों ने जब इस संदर्भ में महिला पुलिस अधिकारी को समझाईश देकर मामला शांत हो जाने के बयान सामने आये तो, थाने से लेकर मुख्यालय तक बैठे अधिकारी खुद कटघरे में नजर आये।
…तो हर मामले में होगी समझाईश
अपने ही थाना प्रभारी के खिलाफ किसी भी मातहत महिला अधिकारी के द्वारा शिकायत देने से पहले उन सभी बिन्दुओं पर विचार कर लिया गया होगा, जो दिक्कते भविष्य में आनी है, मामला कितना गंभीर था, इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि परेशान महिला को मुखिया तक शिकायत देनी पड़ी। पूरा मामला मीडिया में भी उछला, लेकिन गुरूवार की शाम जब मामला ठण्डे बस्ते में चला गया तो, जिले के विभिन्न क्षेत्रों से यह मांग की जाने लगी कि यदि महिला पुलिस अधिकारी ने यह शिकायत किसी आम आदमी के खिलाफ दी होती तो, क्या पुलिस यही करती।
यह थी शिकायत
एसपी के नाम एक शिकायत पत्र लिखते हुए इस्तीफे की पेशकश की है । साथ ही उन्होंने पत्र में यह ही उल्लेख किया है कि टीआई ओमेश्वर ठाकरे उन्हें लंबे समय से प्रताडि़त कर रहे है। इतना ही नही कई तरह के छीटा कसी भी करते है। साथ ही पीडि़त एएसआई के पति पत्नी के बीच हुए विवाद को सार्वजनिक करने की धमकी भी दिया है। टीआई की प्रताडऩा से एएसआई डिप्रेशन का शिकार हो गई है। उनका डिप्रेशन का इलाज भी चल रहा ,जिसके लिए वे टीआई को जिम्मेवार ठहरा रही है। टीआई की प्रताडऩा से तंग महिला एएसआई ने इस्तीफे की पेशकश की है। जिसके बाद जिले के वरिष्ठ अधिकरियों ने मामले में समझौता कराते हुए मामले को शांत कराया है ।

आरोपी ने वर्दीधारियों से की झूमा-झपट

अमलाई थाने में पदस्थ एएसआई महेंद्र सिंह व प्रधान आरक्षक मुकेश जायसवाल मुखबिर की सूचना पर 2017 में ( 457, 380 ) चोरी के मामले का फरार वारंटी रमाशंकर उर्फ गणेश लोनिया को पकडऩे उसके घर गए , जहां उसने पुलिस को देख भागने का प्रयास किया, जिसे पकड़ा तो पुलिस पर हमला कर दिया, इस झूमा झपटी में प्रधान आरक्षक मुकेश जैन की वर्दी फैट गई ,फिर आरोपी रमाशंकर प्रधान आरक्षक को दांत काट दिया , कई जगह हमला कर दिया ,इस बीच बचाव में एएसआई महेंद्र सिंह के उंगली को काट दिया और हमला कर दिया, जिसमें दोनों पुलिसकंर्मी घायल ही गए, बाबजूद इसके दोनों पुलिसकर्मियों ने उसे भागने नही दिया और उसे पकड़ कर थाने ले आए, पुलिस पर हमला करने पर 353, 294, 506, 332, 186 के तहत मामला कायम किया गया है, रमाशंकर उर्फ गणेश लोनिया पर 43 मामले कायम है, जिसमें कई संगीन अपराध में शामिल है।
इनका कहना है…
ड्यूटी को लेकर महिला एएसआई को टीआई गैरहाजिरी डाल दी थी, भावावेश में आकर उन्होंने इस्तीफा लिख दिया था , एएसपी मौके पर पहुंच आपसी समझौता करा दिया है।
अवधेश गोस्वामी
पुलिस अधीक्षक, शहडोल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *