स्टाम्प वेंडर100 रु के स्टाम्प 180 रु में बेच रहे , बहाना 2% मिलता

स्टाम्प वेंडर100 रु के स्टाम्प 180 रु में बेच रहे , बहाना 2% मिलता

कटनी– वर्षों से कचहरी परिसर में स्टाम्प वेंडर खुलेआम निर्धारित दरों के स्टाम्प पेपर लगभग दो गुने दरों पर बेच रहे लेकिन बोलने वाला कोई नहीं जबकि अनुविभागीय अधिकारी का कार्यालय कचहरी परिसर में ही है इसके अलावा तहसीलदार का भी कार्यालय कचहरी परिसर में होने के वावजूद इन स्टाम्प वेंडरों पर प्रशासन पूरी तरह नाकाम साबित रहा ।

स्टाम्प वेंडर 2 फीसदी मिलने का देते हवाला

स्टाम्प वेंडरों द्वारा यह हवाला दिया जाता रहा है कि हमको स्टाम्प बेचने का लाभांश शासन द्वारा निर्धारित केवल 2% मिलता है यही बहाना बनाकर खुलेआम 10 का स्टाम्प 20 से 30 रु में , 50 रु का स्टाम्प 100 रु में , 100 का स्टाम्प 180 से 200 रु में 500 का स्टाम्प रु 800 से रु 900 में 1000 रु का स्टाम्प 1500 रु से 2000 रु तक मे खुलेआम बेचा जा रहा लेकिन बेलने वाला कोई नहीं जबकि प्रशासनिक अधिकारियों के कार्यालय भी यहाँ स्थित होने के वावजूद स्टाम्प वेंडरों द्वारा खुलेआम स्टाम्प दो गुने दामों पर बेचा जाता रहा है ।

क्या जनता ने कहा स्टाम्प लाइसेंस लेने को

खुद को दीनहीन बताने वाले स्टाम्प वेंडरों को पहले पता नहीं था कि स्टाम्प में 2 फीसदी का मुनाफा शासन द्वारा निर्धारित किया गया है ? यदि नहीं तो पता करना चाहिए था फिर लायसेंस लेना चाहिए था और यदि स्टाम्प बेचने पर मुनाफा 2 फीसदी की जानकारी थी तो इन वेंडरों को स्टाम्प मँहगे दामों पर बेचने का कोई अधिकार नहीं है इन स्टाम्प वेंडरों के ऊपर प्रशासन को कार्यवाही कर सभी के लायसेंस निरस्त कर देना चाहिए और प्रशासन स्टाम्प बेचने के लिए कुछ कर्मियों को निर्धारित करे जिससे जनता को खुली लूट से बचाया जा सके । अब तक के इतिहास में स्टाम्प वेंडरों ने अति कर दी है इन पर कार्यवाही किया जाना जनहित में होगा इसके साथ ही मोहन टॉकीज गली में कोई कम्प्यूटर की दुकान से स्टाम्प महँगे दामों पर बेचा जा रहा है वहीं कचहरी परिसर में स्टाम्प वेंडरों द्वारा हवाला देकर कहा जा रहा कि स्टाम्प खत्म हो गए हैं । प्रशासन मामले को गंभीरता से लेकर जनहित में कार्यवाही सुनिश्चित करे ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *