8वें दिन भी जारी सहकारी समितियों के कर्मचारियों की हड़ताल  प्रदेश से लेकर जिले स्तर तक की बैठक और समझाईश हुई विफल जिले भर में बंद है पीडीएस दुकानें, खाद्यान के लिए भटक रहे जरूरतमंद 

 सीताराम पटेल-9977922638
8वें दिन जारी अनिश्चित कालीन हडताल के बाद ग्रामीण इलाको में खाद्यान के लिए लोग भी भटकने लगे है, शासन प्रशासन के साथ जिले और प्रदेश स्तर पर चर्चा भी विफल हो गई, आने वाले दिनों में कर्मचारियों की हडताल उग्र होने की आशंका है, फिलहाल अपनी मांगो को लेकर हडताल पर संघ बैठा हुआ है।
अनूपपुर। बीते 4 फरवरी से सहकारी समिति के कर्मचारियों के द्वारा अपनी मांगो को लेकर अनिश्चितकालीन हडताल इंदिरा चौक में 8 दिनों से बैठे हुए है, इस दौरान प्रांतीय स्तर से लेकर जिला स्तर तक हडताल को समाप्त करने की बैठक और चर्चाए हो चुकी है, लेकिन सारी कोशिशे नाकाम रही। आने वाले दिनो में कर्मचारियो की अनिश्चित कालीन हडताल उग्र हो कर आंदोलन का रूप धारण कर सकती है। अपने तीन मांगो को लेकर हडताल में बैठे सहकारी समीतियो के कर्मचारियो की एक भी मांगे पूर्ण नही की गई है।
महाप्रबंधक भी लौटे
को-आपरेटिव बैक के महाप्रबंधक जिले में चल रहे कर्मचारियो के हडताल में इंदिरा चौक पर मंगलवार को पहुचे, जहां घंटो तक कर्मचारियो से चर्चा करने के बाद बेनतीजा उन्हे वापस लौटना पडा, महाप्रबंधक ने कर्मचारियो को आश्वासन के रूप में मांगो को ऊपर तक ले जाकर विचार विमस करने के लिए कहा, लेकिन हडताल में बैठे कर्मचारी लिखित रूप से मांगी तो वह नही दे सके और हडताल अनिश्चित कालीन जारी रहा।
प्रदेश की बैठक भी विफल
आयुक्त सहकारिता एवं पंजीयक, सहकारी संस्थाए मध्यप्रदेश विन्ध्यान्चल भवन भोपाल के पत्र अनुसार 9 फरवरी को सहकारिता समिति कर्मचारी महासंघ के प्रदेश अध्यक्ष बीएस चौहान व यूनियन के अन्य तीन प्रतिनिधियो के साथ बैठक में बुलाया गया था, जहां मांगो के निराकरण के साथ हडताल को समाप्त करने की चर्चा होनी थी, लेकिन पहले ही मांगो को लेकर बात नही बनी।
ग्रामीण भटक रहे खाद्यान के लिए
प्रदेश भर में चल रहे सहकारी समितियो की अनिश्चित कालीन हडताल के कारण खाद्यान दुकानें बंद है, आठ दिनों से ग्रामीण एवं जरूरत मंद खाद्यान के लिए भटक रहे है, अगर इस हडताल को शासन प्रशासन द्वारा समाप्त नही कराया गया और इनकी मांगो को नही माना गया तो निश्चित ही खाद्यान के लिए लोगो को दर-दर भटकने के बाद भी नही मिलेगा।
यह है मांगे
सहकारी समिति कर्मचारी पूर्व से ही नियमितीकरण की मांग करते आ रहे हैं जिसमें प्रभारी प्रबंधक, सहायक प्रबंधक, लेखापाल, कंप्यूटर ऑपरेटर, कैसियर, विक्रेता, एवं भेद चौकीदार समिति कर्मचारी राज्य व केंद्र की मंशा अनुरूप की प्रमुख योजना खाद्यान्न वितरण पीडीएस कृषको को खाद, बीज वितरण, धान, गेहूं, सरसों, ज्वार, बाजरा, मक्का आदि का उत्पादन किस को लाभ एवं प्रदेश शासन को अवार्ड मिला भूमिका नहीं है फिर भी कर्मचारी दर-दर की ठोकरें खाकर नियमितीकरण को तरस रहे हैं।
ये बैठे अनिश्चितकालीन हडताल में 
महासंघ के जिलाध्यक्ष रजनीश कुमार तिवारी ने बताया कि हमारी यह मांग वर्षो से की जा रही है लेकिन शासन द्वारा किसी प्रकार का ध्यान नहीं दिया जा रहा है जिसके कारण हमें अनिश्चितकालीन हड़ताल में जाना पड़ रहा है, हड़ताल के प्रथम दिन निलेश कुमार गुप्ता, प्रीतम राठौर, मोहन लाल सोनी, पप्पू पटेल, नारायण सिंह, दीपक कुमार तिवारी सहित सैकड़ों सेल्समैन उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed