अतिकुपोषित बच्चों की भ्रमण के दौरान ले जानकारी : कलेक्टर

समय-सीमा की बैठक आयोजित

शहडोल। बाल आरोग्य संवर्धन योजना के अन्तर्गत कलेक्टर ने सभी जिला एवं सेक्टर अधिकारी को कहा कि अपने भ्रमण के दौरान ऑगनवाड़ी केन्द्रों से अतिकुपोषित (सैम) सूची प्राप्त कर उनके घर जाकर उनको मिलने वाली स्वास्थ्य सुविधाओं एवं पोषण आहार आदि की जानकारी प्राप्त करें साथ ही यह सुनिश्चित किया जाए की सैम बच्चे को समय पर उपचार एवं पोषण आहार मिल सकें जिससे बच्चा कुपोषण से बाहर आ सकें, आवश्यकता पडऩे पर घर के लोगों को इसके बारे में समझाइश भी दें और जरूरत पडऩे पर बच्चों पास के एनआरसी में भर्ती कराना सुनिश्चित करें। कलेक्टर ने जिला कार्यक्रम अधिकारी महिला एवं बाल विकास को निर्देशित किया कि व्हाट्सएप ग्रुप बनाकर सभी अधिकारियों को जोड़ते हुए बाल आरोग्य संवर्धन योजना में परिणाममूलक कार्य किया जाना सुनिश्चित करें। कलेक्टर ने जिला कार्यक्रम महिला एवं बाल विकास अधिकरी को निर्देशित किया कि इस योजना के प्रचार-प्रसार के लिए ग्राम पंचायत स्तर पर फ्लैक्स आदि लगवाए साथ ही अन्य विभागों से सहयोग लेकर रैली आदि भी निकलवाएं। उक्त निर्देश सोमवार को कलेक्टर श्रीमती वंदना वैद्य ने समय-सीमा की बैठक में अधिकारियों को दिए।
बैठक में कलेक्टर ने पीएम पोर्टल, समाधान ऑनलाइन, संबल योजना, सीएम हेल्पलाइन में लंबित प्रकरणों की समीक्षा करते हुए सभी विभागीय अधिकारियों को निर्देश दिए कि, 300 दिवस के ऊपर कोई भी प्रकरण लंबित न रहें साथ ही कोई भी प्रकरण अनअटेंडेंट न रहें यह सुनिश्चित किया जाए। बैठक में कलेक्टर ने खरीफ विपणन वर्ष 2021-22 में खरीफ पंजीयन की समीक्षा की। जिला खाद्य आपूर्ति नियंत्रक ने कलेक्टर को अवगत कराया कि अभी तक धान में 20 हजार 6, कपास में 19 तथा बाजरा 2 किसानों का पंजीयन किया जा गया है तथा सतत कार्य प्रगति पर है। कलेक्टर ने वेयरहाउस मे रखे धान की मिलिंग कार्य की धीमी गति पर नाराजगी व्यक्त करते हुए डीएम नागरिक आपूर्ति निगम को निर्देशित किया कि, मिलिंग कार्य में गति लाए यदि आवश्यक होतो जिले के मिलर्स की बैठक भी करें। कलेक्टर ने बैठक में उपस्थित अधिकारियों को निर्देशित किया कि सांसद, विधायक द्वारा किये गए पत्रों का आवश्यक रूप से जबाव दिया जाए।
कलेक्टर ने मानवाधिकार एवं लोकायुक्त में लंबित प्रकरणों की समीक्षा करते हुए सभी अधिकारियों को निर्देशित किया कि, सभी विभागीय अधिकारी अपने विभाग से संबंधित प्रकरणों का अध्यन कर उनका निराकरण कराना सुनिश्चित करें। बैठक में कलेक्टर ने सभी अधिकारियों को निर्देशित किया कि, कर्मचारी, एम्पलाई, डाटावेस अपडेट कराएं साथ ही रिटायर होने वाले कर्मचारियों की डिटेल भी अपडेट कराएं जिससे समय पर सेवानिवृत्त अधिकारियों एवं कर्मचारियों का स्वतत्वों का भुगतान किया जा सकें। बैठक में कलेक्टर ने जिले में खाद, बीज एवं उर्वरक की उपलब्धता की भी समीक्षा की तथा उप संचालक कृषि को निर्देशित किया कि जिले में अमानक खाद बीज एवं उर्वरक विक्रय करने वाले दूकानों के खिलाफ सख्त कार्यवाही की जाए।
बैठक में अपर कलेक्टर अर्पित वर्मा, संयुक्त कलेक्टर दिलीप कुमार पाण्डेय, अनुविभागीय अधिकारी राजस्व सोहागपुर नरेन्द्र सिंह, सहायक आयुक्त आदिम जाति कल्याण विभाग रणजीत सिंह धुर्वे, उप संचालक कृषि आर.पी. झारिया, कार्यपालन यंत्री पीएचई ए.बी. निगम, कार्यपालन यंत्री डब्ल्यूआरडी प्रतीक खरे, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. एमएस सागर, डीपीसी डॉ. मदन त्रिपाठी, डीएम खाद्य आपूर्ति निगम राजेन्द्र चौधरी, जिला आपूर्ति नियंत्रक कमलेश टाण्डेकर, जिला कार्यक्रम अधिकारी श्रीमती शालिनी तिवारी, नगरपालिका अधिकारी अमित तिवारी, अतिरिक्त मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत निर्देशक शर्मा, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत श्रीमती ममता मिश्रा सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *