”समर्थ विहार” की नींव रखने के साथ ही लाखों की कर चोरी

प्रोजेक्ट प्लाटिंग का, कर चोरी के फेर में बेच रहे टू-थ्री बीएचके

5 प्रतिशत रजिस्ट्रेशन शुल्क की जगह 100 रूपये के स्टांप में कर दी लिखा-पढ़ी

शहडोल। संभागीय मुख्यालय से लगभग 3 किलोमीटर दूर सोहागपुर तहसील के ग्राम सिंदुरी स्थित आराजी खसरा क्रमांक 105/1 के अंश रकवा 0.041 हेक्टेयर सहित अन्य रकवों पर मेसर्स बालाजी डेवलपर्स एण्ड एसोसिएटस के अखिलेन्द्र प्रताप सिंह आदि के द्वारा”समर्थ विहार” के नाम पर कालोनी निर्माण किया जा रहा है। कालोनी का रजिस्ट्रेशन दिखावे के लिए रेरा में किया तो गया, लेकिन करीब 10 माह पहले 23 जनवरी को इसकी शुरूआत के साथ ही भू-स्वामी और कालोनाईजर ने डी-5 में फर्म का रजिस्ट्रेशन करवाया और 16 मार्च 2019 को रेरा के नियमों के तहत 5 प्रतिशत स्टांप ड्यिुटी की जगह महज 100 रूपये के ई-स्टांप क्रमांक 01013716032019009516 में रेरा से अनुबंध कर उस पर शुरूआत की।
लाखों की कर चोरी!
रेरा के दिशा-निर्देशों पर नजर डाले तो, ऐसे अनुबंध ऐसे रजिस्ट्रेशन के लिए 5 प्रतिशत का शुल्क जमा करना चाहिए, जो सिंदुरी व आस-पास के बाजार मूल्य के हिसाब से लाखों में पहुंचता है। इस बात से इंकार न हीं किया जा सकता कि कालोनाईजर तो, झूठ पर रखी गई आधार शिला के बाद उपभोक्ताओं से सौदे कर जमीन या मकान तो, बेच देंगे, लेकिन भविष्य में यदि इस मामलों की शिकायत होती है तो, कालोनाईजर के साथ उपभोक्ताओं को भी कानूनी प्रक्रिया में परेशान होना पड़ सकता है।
अनुमति प्लाटिंग की, बेच रहे भवन
बालाजी डेवलेपर्स एवं एसोसिएट्स के द्वारा रेरा से प्लाट की बिक्री करने की अनुमति व रजिस्ट्रेशन कराया गया है, जिसमें 189 टोटल प्लाट बताये गये हैं और 47 प्लाट बुक या विक्रय के रूप में दर्शाये गये हैं, लेकिन जमीनी हकीकत इससे बिल्कुल अलग है। फर्म के कारिंदे 24 लाख रूपये में टू-बीएचके और इससे अधिक अनुपातिक राशि में थ्री-बीएचके बनाकर बेच रहे हैं। ”समर्थ विहार” की ओर से रणवीर गुप्ता ने बताया कि हमने 63 मकान बेच दिये हैं, 25 पर काम करवा रहे हैं। यह सब रजिस्ट्री शुल्क कम करने के फेर में हैं, जिससे ग्राहक की बचत हो।
अधूरे आंतरिक कार्य, बिक्री शबाब पर
”समर्थ विहार” नामक कालोनी निर्माण करा रही बालाजी डेवलेपर्स एवं एसोसिएट्स के द्वारा उपभोक्ताओं से यहां पर 7.55 एकड़ भू-खण्ड पर कालोनी बनाने के वायदे किये जा रहे हैं। फर्म के ब्रोशर में इन बातों का उल्लेख भी है, साथ ही 2 क्लब हाऊस, नाली, गार्डन, सड़क, स्ट्रीट लाईट जैसी अन्य सुविधाओं का दावा भी किया गया है, लेकिन इनका पूरा निर्माण किये बिना ही प्लाट की जगह भवन बनाकर बेचने का प्रचार अपने ब्रोशर में किया जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed