दुष्कर्म के आरोपी की जमानत याचिका न्यायालय ने की निरस्त

अनूपपुर। न्यायालय द्वितीय जिला एवं अपर सत्र न्यायाधीश कोतमा रविन्द्र कुमार शर्मा के न्यायालय से आरोपी पूरन बंसल पिता जीवन बंसल उम्र 28 निवास कनई टोला थाना बिजुरी की जमानत याचिका निरस्त की गई। मामला थाना बिजुरी के धारा 376 डी भादवि से संबंधित है, जिसमें आरोपीगण पीडिता के घर के आगन के पास आए और कहने लगे कि तुम्हारे पति को पुलिस ले गई, जिससे पीडिता डरकर 1090 में फोन लगाई और बोली कि आरोपीगण मेरे साथ गलत करने वाले है तो वो बोले गाडी भेज रहा हू, तभी आरोपीगण पीडिता का दोनो हाथ एवं पैर पकडकर घर से निकाले एवं जब पीडिता को जबरदस्ती ले जा रहे थे, तभी पीडिता की बडी बेटी ने पीडिता के पिता को बुला लाई तब पिता ने आरोपीगण से कहा कि ”पापी हो क्या, क्यू ऐसा कर रहे होÓÓ फिर भी आरोपीगण पीडिता को घर के सामने लगे कौहा के पेड के नीचे ले जाकर जबरदस्ती बलात्कार किया, जिसे थाना बिजुरी द्वारा उक्तानुसार अपराध दर्ज कर मामले को विवेचना में लिया गया और आरोपी को गिरफ्तार कर माननीय न्यायालय में प्रस्तुत किया गया।
आरोपी ने यह लिया था आधार
आरोपी द्वारा जमानत आवेदन में यह आधार लिया गया था कि आरोपी को झूठा फसाया गया है आरोपी अपने घर का एक मात्र कर्ता धर्ता है फरार होने की संभावना नही है जमानत की शर्तो का पालन करने के लिए तैयार है। आरोपी नवयूवक है जेल जाने पर उनका भविष्य प्रभावित होगा इसलिए जमानत का लाभ दिया जाए।
आधार पर किया था विरोध
उक्त आवेदन पत्र अपर लोक अभियोजक शैलेन्द्र सिंह द्वारा जमानत आवेदन का इस आधार पर विरोध किया गया कि अपराध पीडिता के साथ दुष्कर्म से संबंधित धारा 376डी भादवि से संबंधित है जोकि आजीवन कारावास से दण्डनीय गंभीर प्रकृति का है। महिलाओं के विरूद्ध यौन हिंसा की बढ रही घटनाओं को देखते हुए आरोपी को जमानत दिए जाने पर समाज में बुरा संदेश जाएगा आरोपी को जमानत का लाभ दिए जाने पर वह साक्ष्य प्रभावित कर सकता है व फरार हो सकता है। उभयपक्षों के तर्को को सुनने के पश्चात माननीय न्यायालय द्वारा अभियोजन के तर्को से सहमत होते हुए आरोपी की जमानत याचिका अंतर्गत धारा 439द.प्र.स. निरस्त कर दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *