महिला के प्रसव के दौरान बच्चे की हुई मौत पर परिजनों ने किया हंगामा, लगाया इलाज में लापरवाही का आरोप, सिविल सर्जन ने आरोपों कों बताया निराधार

महिला के प्रसव के दौरान बच्चे की हुई मौत पर परिजनों ने किया हंगामा, लगाया इलाज में लापरवाही का आरोप, सिविल सर्जन ने आरोपों कों बताया निराधार

 

कटनी। मुख्य जिला अस्पताल कटनी में शुक्रवार की सुबह प्रसव के दौरान एक बच्चे की मौत के मामलें में परिजनों ने अस्पताल परिसर में जमकर हंगामा करते हुए इलाज में लापरवाही का आरोप लगाते हुए करवाई की मांग की है जिस पर सिविल सृजन डाक्टर यशवंत बर्मा ने परिजनों के आरोपों कों गलत बताते हुये निराधार किया है ! बच्चे की मौत के बाद परिजनों ने अस्पताल परिसर में हंगामा शुरू कर दिया.महिला के परिजनों का आरोप है की 30 तारीख को प्रसव के लिए पूजा गौतम दुर्गा चौक कटनी निवासी पति आदित्य गौतम को जिला अस्पताल में प्रसव के लिए भर्ती किया गया था । 4 मई को प्रसव हुआ। परिजनों का आरोप है कि जब महिला का प्रसव कराया जा रहा था उस दौरान डॉक्टर मौजूद नहीं थीं। ना ही ठीक से जांच की गई। प्रसव नर्सों के द्वारा किया गया। जिस वजह से बच्चे को परेशानी हुई और उसकी मौत हो गई। पति आदित्य गौतम का आरोप है कि एक भी दिन डॉ. सुनीता वर्मा जांच के लिए नहीं आईं। बच्चेदानी का मुंह डेढ़ बजे खुल गया था और डिलेवरी कई घंटे बाद कराई गई। पत्नी तीन-चार घंटे तड़पती रही, लेकिन ध्यान नहीं दिया गया। नर्सिंग स्टॉफ यह बता रहा था कि बच्चे ने पेट में लेटरिंग कर लिया है, इन्फेक्शन हो रहा है। सौरभ गौतम ने कहा कि डॉ. सुनीता वर्मा को यहां से हटाया जाए। समय पर जांच होती रहती तो यह समस्या नहीं होती। पांच घंटे प्रसूता तड़पती रही, डॉक्टर ने और ना ही नर्सिंग स्टॉफ ने ध्यान दिया, मोबाइल खेल रहीं थीं। बच्चे की देखरेख नहीं की, जिससे नवजात की मौत हो गई।
वही सिविल सृजन डाक्टर यशवंत बर्मा ने जानकारी में बताया की पूजा देवी 28 अप्रैल की शाम भर्ती हुईं, दो घंटे बाद चली गईं, फिर 1 मई को दोपहर में आईं। तीन बजे तक प्रसव प्रक्रिया नहीं हुई तो चार बार महिला चिकित्सक ने जांच कर ऑपरेशन कराने कहा गया, लेकिन परिजनाें ने इन्कार कर दिया। लिखकर देने से भी मना कर दिया। 4 मई को 5.45 पर डिलेवरी हुई। बच्चे को सांस लेने में तकलीफ थी, झटके आ रहे थे। बच्चे को एसएनसीयू में रखा गया। ऑक्सीजन में रखा गया। बच्चे को जबलपुर ले जाने कहा गया, लेकिन परिजन नहीं माने। शुक्रवार 6.45 बजे बच्चे की मौत हो गई। परिजनाें के आरोप निराधार हैं।इन सब के बीच परिजनों ने हंगामा करते हुये डॉक्टर सुनीता वर्मा पर आरोप लगाते हुए कार्रवाई करने की मांग की है ॥

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *