जैतहरी दंगे का मुख्य आरोपी है टिकैत : अनिल गुप्ता

कथित किसान नेता राकेश टिकैत का अपराधिक रिकार्ड रहा है कोर्ट से स्थाई गिरफ्तारी वारंट वर्षो से जारी है; कब होगा जेल मे; मामला जैतहरी के दंगे का

शहडोल ।भारतीय जनता पार्टी के पूर्व जिला अध्यक्ष अनिल कुमार गुप्ता एवं पूर्व जिला महामंत्री कैलाश तिवारी ,एडवोकेट ने कहा है कि नई दिल्ली के सीमाओं में कथित किसान आंदोलन के नेता राकेश टिकैत का पिछला अपराधिक रिकॉर्ड रहा है। शहडोल संभाग के अनूपपुर जिले के जैतहरी ब्लाक में 2012 में बन रहे मोजर बेयर थर्मल पावर प्लांट में राकेश टिकैत के भारतीय किसान यूनियन के बैनर तले किए गए आंदोलन में भी राकेश टिकैत ने दंगा भड़काया था। इस दौरान आंदोलनकारियों ने जमकर तोड़फोड़ करते हुए पुलिस वा प्रशासन के आधा दर्जन वाहनों को आग के हवाले कर दिया था ।राकेश टिकैत व अन्य पर जैतहरी थाने में अपराध क्रमांक 66 /12 दिनांक 5 मई 2012 मे हत्या के प्रयास समेत भीड़ को उकसा कर तोड़फोड़ कराने शासकीय कर्मचारियों को अपने कर्तव्य पालन में रोके जाने, उन पर हमला करने व अन्य गंभीर धारा समेत धारा 109, 147, 148 ,149
**********************
,186 ,294, 307 ,325, 332
***********************
,333 ,353, 436 ,भारतीय दंड
***********************
संहिता के तहत प्रकरण पंजीबद्ध है उक्त आपराधिक प्रकरण कोर्ट मैं प्रकरण क्रमांक 64/ 12 दिनांक 24 जून 2012 में प्रस्तुत है लेकिन आज तक राकेश टिकैत उपस्थित नहीं हुआ। उक्त प्रकरण में राकेश टिकैत व अन्य को कोर्ट में ना उपस्थित होने के कारण स्थाई गिरफ्तारी वारंट जारी किया गया है ।उन्हें 26 जून 2012 में अनूपपुर के अपर सत्र न्यायाधीश द्वारा जमानत दी गई थी ।राकेश टिकैत शहडोल जिला जेल में लगभग एक माह तक बंद रहा।
भारतीय जनता पार्टी के नेता अनिल कुमार गुप्ता एवं कैलाश तिवारी ने कहा है कि उस समय भी राकेश टिकैत का आंदोलन हिंसात्मक व प्रशासन पर दबाव बनाकर मनमाना करने वाला था । राकेश टिकैत का इस क्षेत्र से कोई संबंध नहीं था वह केवल कंपनी पर दबाव डालकर स्वार्थ पूरा करना चाहता था। उस आंदोलन के बाद से आज तक किसानों के लिए कोई चिंता नहीं की। उस समय भी वाहनों को आग लगाने तथा प्रशासन के अधिकारियों को आतंक फैलाकर हत्या का प्रयास तक करने का मामला था ।ऐसे में कथित किसान नेताओं एवं किसानों को भली-भांति जानना चाहिए कि दिल्ली किसान आंदोलन के नेतृत्व करने वाले स्थाई गिरफ्तारी वारंट जारी राकेश टिकैत का पिछला रिकॉर्ड क्या रहा है। उन्हें सिर्फ अपनी नेतागिरी से मतलब रहा है और दिल्ली किसान आंदोलन में भी यही हो रहा है। 26 जनवरी 21 को दिल्ली के लाल किले पर जो घटना हुई है उसी प्रकार की घटना राकेश टिकैत के द्वारा 5 मई 2012 मैं जैतहरी के मोजर बियर थर्मल पावर स्टेशन मैं की गई थी।
भारतीय जनता पार्टी नेताओं ने प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान एवं गृहमंत्री श्री नरोत्तम मिश्रा से मांग की है राकेश टिकैत के खिलाफ स्थाई गिरफ्तारी वारंट जारी है इस प्रकार के फरार व्यक्ति के खिलाफ गिरफ्तारी की कार्यवाही की जाए इसके किए गये अपराध की सजा दिलाई जाए ।अनूपपुर पुलिस प्रशासन स्थाई गिरफ्तारी वारंटी को शीघ्र ही गिरफ्तारी सुनिश्चित करें। अन्यथा यह इसी प्रकार के प्रकृति के अपराध को कहीं भी कारित कर सकता है।
^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *