अवैध रेत से लदे ट्रैक्टर को सांठगांठ कर दो वन रक्षकों ने छोड़ा

अनूपपुर। शहडोल और अनूपपुर जिले की सीमा पर स्थित रामपुर के पास से गुजरी कठना नाला में ट्रैक्टर लोड कर अवैध रेत का परिवहन किया जा रहा था, वन परिक्षेत्र के केसवाही के दो वनरक्षक कार के माध्यम से कठना नाला पहुंचे, जिसके बाद ट्रैक्टर को अवैध रेत से लदे पकड़ कर नदी घाट के ऊपर ले जाया गया, सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार वनरक्षक हरीश तिवारी एवं वनरक्षक धीरेंद्र गौतम वहां पहुंचे थे, लगभग आधे घंटे की हुई चर्चा के दौरान सामने ट्रैक्टर और हरीश तिवारी बातें करते हुए दिखाई दे रहे हैं, वीडियो में मुनारा को लेकर बातें की जा रही थीं और अवैध रेत से लदे ट्रैक्टर हरीश तिवारी जी के सामने खड़ा हुआ था, ट्रैक्टर रामपुर निवासी तेरसू बैगा का बताया जा रहा है जहां सुबह लगभग 9:00 बजे दोनों वन रक्षकों के द्वारा पकड़ा गया था।
मामले को किया रफा-दफा

अवैध रेत से लदे ट्रैक्टर को पकड़ने के बाद हरीश तिवारी ने वार्तालाप की थी और सांठगांठ करते हुए पूरे मामले को वहीं से रफा-दफा कर दिया गया। आखिर क्या कारण था कि ट्रैक्टर को पकड़ने के बाद उसे वन विभाग तक नहीं लाया गया और नदी घाट से ही छोड़ दिया गया जाहिर सी बात है लेन-देन कर इस मामले को रफा-दफा कर दिया गया।
कार के माध्यम से पहुंचे थे वनरक्षक

जिस अल्टो कार में हरीश तिवारी और धीरेंद्र गौतम रामपुर के कठना नाला में पहुंचे थे वह कार धीरेंद्र गौतम के नाम रजिस्टर्ड है वीडियो में यह भी सामने आया कि 5 लोग बातें करते हुए दिखाई दे रहे हैं और उस दौरान धीरेंद्र गौतम की कार सामने खड़ी थी और हरीश तिवारी उनसे बातें करते हुए नजर आ रहे थे इस दौरान धीरेंद्र गौतम वीडियो से गायब रहते हैं ग्रामीणों ने बताया कि यह दोनों वनरक्षक साथ में आए थे और मामले को रफा-दफा नदी घाट पर ही कर दिया गया।
50000 में की सौदेबाजी
सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार वनरक्षक हरीश तिवारी और धीरेंद्र गौतम के द्वारा 50000 में सौदेबाजी करते हुए ट्रैक्टर को छोड़ दिया गया हालांकि इसकी जानकारी उच्चाधिकारियों को नहीं दी गई है पर क्षेत्र अंतर्गत पहुंचकर पूरे मामले का निपटारा घटनास्थल पर ही कर लिया गया, जबकि उक्त ट्रैक्टर वर्षों से अवैध कार्य में लगा हुआ था, हालांकि उक्त ट्रैक्टर को amlai Police के द्वारा अवैध रेत परिवहन मामले में शाम को पकड़कर थाने ले गई है लेकिन इन दोनों वन रक्षकों ने अवैध रेत से लदे ट्रैक्टर को पकड़ कर छोड़ दिया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *