उमरिया: होनी थी कार्यवाही, जिम्मेदारों ने कर दिया उपकृत

विकल्प का बहाना बताकर सीएमएचओ ने लापवाह अधिकारी को बनाया बीएमओ
महिला की मौत के बाद भी नही जागे जिम्मेदार

(अमित दुबे+8818814739)
उमरिया। जिला अंतर्गत मानपुर स्वास्थ्य केंद्र फिर एक बार सुर्खियों में आया है, मानपुर बीएमओ प्रभारी डॉ. वी.चंदेल का पीजी में चयन हो जाने के बाद मानपुर में पदस्थ डॉ. बी.के. प्रसाद को बीएमओ का फिर से प्रभार मिला। डॉक्टर के ऊपर बीएमओ पद पर रहते हुए कार्य में लापरवाही पाए जाने पर पूर्व कलेक्टर द्वारा बीएमओ पद से हटा दिया गया था, सूत्रों की माने तो डॉ. प्रसाद को दिया गया बीएमओ का प्रभार नियम विरुद्ध है।
प्रभारी पर है आरोप
मानपुर स्वास्थ्य केंद्र में पदस्थ डॉक्टर बी.के. प्रसाद लगभग 5 से 7 साल से कार्यरत है, जिनके ऊपर पूर्व में कई आरोप लगे हैं, 22 जुलाई लगभग शाम 7:15 बजे के आसपास उमरिया और शहडोल सीमा से लगे शहडोल जिले के ग्वारीघाट जिला शहडोल से ग्वारीघाट निवासी प्रसूता सीता साकेत की अचानक तबीयत बिगड़ जाने के कारण उपचार हेतु 108 एंबुलेंस लाई गई थी , उस समय चिकित्सालय में डॉ. प्रसाद की ड्यूटी थी, लेकिन वह चिकित्सालय में मौजूद नहीं थे।
खुद कटघरे में विभाग
डॉ. प्रसाद के ड्यूटी में रहने के कारण और महिला को समय पर इलाज न मिल पाने के कारण उसकी मौत हो गई, इसके बाद तात्कालीन बीएमओं ने वरिष्ठ कार्यालय को इनके कृत्यों से अवगत कराया, लेकिन जहां डॉ. प्रसाद पर कार्यवाही होनी थी, वहीं जिम्मेदारों ने महिला के इलाज में बरती गई लापरवाही के बावजूद डॉ. प्रसाद को बीएमओ बनाकर खुद को ही कटघरे में खड़ा लिया।
तो कहीं जुगाड़ का खेल तो नहीं
स्थानीय लोगों का कहना है कि डॉ. बी.के. प्रसाद को पूर्व कलेक्टर द्वारा लापरवाही सहित कई अन्य आरोपों के चलते पूर्व में हटाते हुए उनकी जगह डॉ. वी.चंदेल को मानपुर का बीएमओ बनाया था, लेकिन बीते दिनों हुई महिला की मौत और कार्य में लापरवाही के लिए जिन्हें विभागीय नियमों के तहत दण्डित किया जाना था, वरिष्ठ अधिकारी ने डॉ. प्रसाद को उपकृत कर दिया।
इनका कहना है…
हमारे पास कोई विकल्प नहीं था, कलेक्टर के अनुमोदन के बाद ही हमने प्रभार दिया है।
राजेश श्रीवास्तव
सीएमएचओ, उमरिया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *