भाईगिरी पर उतारू वर्दीधारी, शिकायत वापस लेने की धमकी

पीडि़त ने पुलिस अधीक्षक से लगाई न्याय की गुहार

(Anil Tiwari+7000362359)
शहडोल। जिले के जयसिंहनगर थाना में पदस्थ आरक्षक पर वार्ड नंबर 13 निवासी ने पुलिस अधीक्षक से न्याय की गुहार लगाई है, सचिन गुप्ता ने शिकायत में उल्लेख किया कि वह रोहित इलेक्ट्रानिक के नाम से दुकान संचालित करता है, फरियादी का आवास थाना के पीछे निर्मित है, जहां पर सपरिवार निवास करता है, थाने के ही बगल से आमजन के आने-जाने का निस्तारू प्रचलित रास्ता है, जिससे मोहल्ले के सभी लोगों का आवागमन होता है। 20 जुलाई को शाम 6.30 बजे अपने भाई रोहित गुप्ता की दुकान जा रहा था, तभी रास्ते में थाना जयसिंहनगर में पदस्थ कान्सटेबल रोहित यादव ने मुझे रोका और बोले कि थाना ग्राउन्ड में क्या कर रहे हो ,तब मै बोला कि मैं अपने भाई की दुकान जा रहा हूँ, मुझसे बोले कि यह आम निस्तार का रास्ता नहीं है और मुझसे गाली-गलौज करते हुए मेरे साथ लात घूसों से मारपीट करने लगे मै उनसे बोला कि आप मुझे बेवजह क्यों मार रहे है तो, बोला गाली देते हुए कहा कि तुम लोग थाने में रखें वाहनों की चोरी करते हो, तब मैं उनसे बोला कि सर हम लोग बचपन से इसी मोहल्ले में रहते चले आ रहे है और कभी भी किसी थाना पुलिस के द्वारा हमें इस तरह का इल्जाम नहीं लगाया गया है।
थाने के अंदर की मारपीट
फरियादी ने पुलिस अधीक्षक को शिकायत में बताया कि जब मैनें कहा कि मैं भाई की दुकान बस स्टैण्ड जा रहा था, आप बेवजह मेरे साथ मारपीट न करो तो वो मेरी कॉलर पकड़कर थाने के अंदर खींचते हुए ले आये और वहां पर भी लाकर मारपीट की गई तथा गाली-गलौज की गई। मुझे जिस समय रोहित यादव (कॉन्सटेबल) के द्वारा मारपीट की जा रही थी, तो मोहल्ले के कुछ लोगों ने देखा भी है। यह कि मेरे भाई रोहित गुप्ता को इस बात की जब जानकारी हुई तो, वह थाना गये और मुझे देखे मैं थाना प्रभारी की कुर्सी के नीचे बैठा था, मेरे द्वारा थाना प्रभारी से निवेदन किया गया तो , वो मेरे भाई को मेरे साथ भेज दिये मैं अपने भाई सचिन को लेकर अपने घर आ गया।
दुकान में की थी उधारी
फरियादी ने पुलिस अधीक्षक को दी गई शिकायत में उल्लेख किया कि रोहित यादव (कान्सटेबल) मुझे अच्छी तरह से जानते है कि मैं इलेक्ट्रानिक की दुकान करता हूँ। मेरी दुकान से रोहित यादव के द्वारा कूलर भी उधार में लिया गया है, अभी भी उसका पैसा बांकी है, रोहित यादव के द्वारा मेरे भाई के साथ बेवजह मारपीट कर उधार में ली गई, राशि अदा न करना पड़े इसलिए मारपीट की गई है। रोहित यादव के द्वारा की गई मारपीट से मेरे कान, गर्दन व पेट में लात व घूसों से मारपीट करने से अभी भी काफी दर्द बना हुआ है व कान में सुनाई भी नहीं दे रहा है। फरियादी द्वारा रोहित यादव (कान्सटेबल) के द्वारा बेवजह मारपीट किये जाने के संबंध में दिनांक 20 जुलाई की शाम 7.55 बजे मुख्यमंत्री पोर्टल 181 में शिकायत की गई थी, जिसमें मेरी शिकायत दर्ज कर ली गई है।
शिकायत वापस लेने का दबाव
पीडि़त ने बताया कि घटना की शिकायत करने थाना जयसिंहनगर गया तो वहां पर थाना प्रभारी एवं रोहित यादव (कान्सटेबल) के द्वारा बोला गया कि तुम पहले 181 में की गई शिकायत वापस लो नहीं तो, हम तुम्हारे ऊपर चोरी करने के अपराध में रिपोर्ट कर जेल भिजवा देगें और हमारी रिपोर्ट नहीं लिखी गई, तब मेरे जीजा अमित गुप्ता ने मोबाइल फोन नंबर पर बात किया गया तो, अश्वासन दिया गया मैं बात करता हूँ। 21 जुलाई को फरियादी के द्वारा पुन: लिखित शिकायत करने थाना जयसिंहनगर गये तो हमारी शिकायत तो ले ली गई पर रिपोर्ट नहीं लिखी गई और पावती प्रदान कर दी गई।
लगाया झूठा चोरी का इलजाम
फरियादी ने पुलिस अधीक्षक को दी गई शिकायत में यह भी उल्लेख किया कि बदनाम करने की नियत से मेरे विरूद्ध चोरी का झूठा मामला प्रशारित कर दिया गया है, जबकि फरियादी द्वारा किसी प्रकार की कोई चोरी नहीं किया गया, मेरे द्वारा 181 में रोहित यादव (कान्सटेबल) के विरूद्ध शिकायत करने और शिकायत नहीं कटवाये जाने के कारण झूठा आरोप लगाया जा रहा है। फरियादी ने आरक्षक रोहित यादव के द्वारा बेवजह मारपीट किये जाने व मुख्यमंत्री जन शिकायत पोर्टल 181 में शिकायत कर दिये जाने व शिकायत वापस कराने का दबाव बनाये जाने व शिकायत नहीं कटवाये जाने पर झूठा चोरी का इलजाम लगाये जाने की सूक्ष्मता से जाँच कराये जाने तथा दोषीजन के विरुद्ध दण्डात्मक कार्यवाही किये जाने व फरियादी व उसके परिवार के जानमाल की सुरक्षा की मांग की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.