कोरोना काल में विपदाग्रस्त लोगों की मदद करने का अनूठा जुनून

 

अंतिम संस्कार से लेकर कोरोना पीड़ितों को भर्ती कराने एवं सांप

पकड़ने को तत्पर रहते हैं शषिधर

अनूपपुर |मतलब की धुंध में लगातार जकड़ते जा रहे समाज में यदि सेवा का निःस्वार्थ जुनून कहीं नजर आए, तो आसानी से यकीन नहीं होगा, लेकिन अनूपपुर के समाजसेवी शषिधर अग्रवाल इसकी जीती जागती मिसाल हैं। जरूरतमंदों एवं असहाय लोगों की सेवा करने वाले पेषे से फोटोग्राफर शषिधर ने पिछले लाॅकडाउन में भी लगातार लोगों की मदद की और इस बार भी उन्होंने लाॅकडाउन में सेवा का काम जारी रखा।


दूसरी लहर के कोरोना संकट में कई लोगों ने अपने परिजनों को खो दिया। इस संक्रमण के होने पर कई उससे बचाव को लेकर अपने भी दूर नजर आए। कोरोना की दूसरी लहर में जब लोगों को बेड, आॅक्सीजन, दवाइयों की दरकार थी, शषिधर अग्रवाल लोगों को राषन, कपड़े, मास्क से लेकर सेनीटाइजर जैसी सामग्री भी निरंतर बांट रहे थे। शषि ने अपने काम के दौरान बगैर रिष्तेदारों के शव को क्या देखा, उनकी पूरी सोच ही बदल गई। उन्होंने कोरोना संदिग्ध मरीजों के शवों का प्रषासन की मदद से अंतिम संस्कार कराया। उन्होंने ऐसे करीब 55 शवों का दाह संस्कार कराया। उसके बाद जहां कहीं से फोन पर सूचना मिलती, वह अकेले दौड़ पड़ते हैं। शषिधर ने जनसेवा के कार्य को आगे बढ़ाने के लिए अपनी पत्नी भारती अग्रवाल, पुत्री सुरभि, षिवांगी, रितिका को इसमें हमराह कर लिया। इन्होंने गतवर्ष की तरह इस लाॅकडाउन में भी घर के पुराने कपड़ों से लगभग चार सौ मास्क बनाकर जरूरतमंदों को निःषुल्क बांटे।
शषिधर ने गत वर्ष और इस वर्ष कोरोना संदिग्ध तथा इसके लक्षणों वाले करीब 88 मरीजों का अलग-अलग स्थानों पर परीक्षण कराकर चिकित्सकों की सलाह पर उन्हें कोविड केयर सेन्टर में भर्ती कराया। उन्होंने सांस लेने में परेषान 25 मरीजों को आॅक्सीजन एम्बूलेंस से शहडोल, मनेन्द्रगढ़ भिजवाने में भी मदद की। शषिधर ने इस काम को आगे बढ़ाने के लिए छोटीसी पान की दुकान चलाने वाले मोनू, सोनी अग्रवाल को जोड़ा, जिन्होंने अल्प आमदनी के बावजूद अपने पिता स्व. लालजी अग्रवाल की स्मृति में 10 नग गद्दे, तकिए सिविल सर्जन को प्रदान किए।
शषिधर की पहल पर उनके मित्र नगर के एक व्यवसायी तथा छोटे भाई राजेष अग्रवाल व राजकुमार मिश्रा ने एक माह तक जिला अस्पताल में भर्ती मरीजों व उनके परिजनों को चाय, नाष्ता एवं खाना पहुंचाने की व्यवस्था की। आॅक्सीजन की आवष्यकता पड़ने पर शषिधर ने पहल कर नगर के व्यवसायी श्री राजेष केडिया से तीन आॅक्सीजन सिलेण्डर प्राप्त कर जिला अस्पताल को पहुंचाए। सर्प पकड़ने में दक्ष शषिधर ने कोरोना काल के चलते लाॅकडाउन में रहवासी क्षेत्रों से 65 सर्पों को पकड़कर नागरिकों को सुरक्षित किया और सांप के काटे के 12 व्यक्तियों को जिला अस्पताल में भर्ती कराकर उनकी जान बचाई। शषिधर किसी न किसी तरह जरूरतमंदों की मदद को हमेषा तत्पर रहते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *