महिला एवं बाल विकास विभाग ने विश्व स्तनपान सप्ताह को लेकर किया कार्यशाला का आयोजन

महिला एवं बाल विकास विभाग ने विश्व स्तनपान सप्ताह को लेकर किया कार्यशाला का आयोजन


कटनी॥ बच्चे के जन्म के साथ ही उसे मां का दूध पिलाना आवश्यक है। इसको लेकर समाज में जो भ्रांतियां फैली हैं, उनको दूर करने की आवश्यकता है। स्तनपान कराने से न केवल बच्चे का स्वास्थ्य ठीक रहता है, बल्कि मां का भी बहुत सी बीमारियों से बचाव होता है। यह बात महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा 1 से 7 अगस्त तक आयोजित होने वाले विश्व स्तनपान सप्ताह को लेकर आयोजित कार्यशाला में महिला चिकित्सक डॉ. हर्षिता गुप्ता ने कही। उन्होंने कहा कि मां यदि स्तनपान कराती है और उससे ब्रेस्ट कैंसर से बचाव, फैट में कमी आना सहित अन्य तमाम तरह की बीमारियों से निजात मिलती है। डॉ. गुप्ता ने कार्यशाला में उपस्थित सुपरवाइजरों की जिज्ञासाओं का भी समाधान किया। इस दौरान जिला कार्यक्रम अधिकारी नयन सिंह ने विश्व स्तनपान सप्ताह के आयोजन को लेकर जानकारी दी। उन्होंने पर्यवेक्षकों को आंगनबाड़ी केन्द्रों में सहजन, आम, अमरूद के पौधारोपण कराने की बात कही। उन्होंने कुपोषण को दूर करने में गांवों सहज-सुलभ मुनगा के महत्व पर विशेष प्रकाश डाला। कार्यक्रम के दौरान जिला सशक्तिकरण अधिकारी वनश्री कुर्वेती सहित विभागीय सुपरवाइजर मौजूद रहीं। कार्यक्रम के दूसरे चरण में विशेषज्ञ कशिश बत्रा ने एनआरसी के माध्यम से कुपोषण को दूर करने और स्तनपान सप्ताह के दौरान जरूरी गतिविधियों के संबंध में विस्तृत जानकारी दी गई। उन्होंने कहा कि फील्ड में काउंसिलिंग जितनी अधिक होगी, उतना ही समाज स्तनपान को लेकर जागरूक होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *