पोल लगा रहे मजदूरो को लगा करंट 1 की मौत 4 घायल

विद्युत विभाग और ठेकेदार की बडी लापरवाही, जिम्मेदारो साधा मौन
ठेकेदार और लाइनमैन ने किया फोन बंद, समाजसेवियों ने पहुंचाया चिकित्सालय
रविवार की दोपहर लगभग 1:30 बजे चचाई बस्ती में विद्यालय के समीप विद्युत पोल लगाने का कार्य किया जा रहा था, जहां 11 केव्ही के तीन तार गुजरे हुए थे, पहले विद्युत प्रवाह बंद थी, मजदूर एक पोल लगाने के बाद दूसरी पोल लगा रहे थे, 5 लोग मिलकर लोहे के पोल को नीचे से ऊपर की ओर उठा रहे थे, जहां विद्युत प्रवाह संचालित कर दी गई थी, उसके संपर्क में आने से चार लोग घायल और एक की चिकित्सालय में मौत हो गई।
अनूपपुर। विद्युत वितरण केन्द्र चचाई अंतर्गत चल रहे पोल लगाने के कार्य में रविवार को बडी घटना घट गई, चचाई बस्ती में मजदूरो द्वारा सडक किनारे लोहे की पोल लगाने का कार्य किया जा रहा था, जहां मशीन और ट्रैक्टर के साथ मजदूर अपने हाथो से विद्युत पोल को गढ्ढे में डालने व ऊपर उठाकर पोल लगा रहे थे। लगभग 1 बजे एक विद्युत पोल लगाने के बाद दूसरी विद्युत पोल लगाने की तैयारी कर ही रहे थे, लेकिन वहीं पर संचालित 11 केव्ही की तार के संपर्क में लोहे का विद्युत पोल आ गया, जिसके चपेट में पांच कार्यरत मजदूर आ गये, जिससे चार घायल हो गये और एक की मौत हो गई, घटना के तुंरत बाद मौजूद ठेकेदार फरार हो गया, जिसके बाद समाजसेवियों ने मृतक व घायलों को जिला चिकित्सालय पहुंचाया, जहां घायलों की इलाज की गई।
पांच के साथ हुआ हादसा
रविवार की दोपहर लोहे की पोल लगाने में कार्यरत मजदूरों में से चार ग्राम केल्होरी के है और एक देवहरा ग्राम का बताया जा रहा है, घायलों में केल्हौरी निवासी अनुज महरा पिता नत्थूलाल महरा उम्र 18 वर्ष, सुमित साहू पिता भैयालाल साहू उम्र 18 वर्ष, निखिल चौरसिया पिता विनोद चौरसिया उम्र 19 वर्ष, देवहरा निवासी पंचू बैगा पिता शंकर बैगा उम्र  37 वर्ष एवं मृतक केल्हौरी निवासी रामपाल बैगा उम्र 26 वर्ष  इस घटना में शामिल रहे।
जिम्मेदारो के बंद मोबाइल
जानकारी के अनुसार ठेकेदार मुनी मिश्रा जो कि पोल लगाने के समय मौजूद था, लेकिन घटना कारित होते देख वहां से रफुचक्कर हो गया और मोबाइल बंद कर लिया, वहीं क्षेत्र के लाइनमैन का भी कोई अता-पता नही रहा, इस पूरे घटनाक्रम में लापरवाही जानने के लिए विभागीय अधिकारियों से संपर्क किया गया, लेकिन किसी का मोबाइल बंद तो कोई कॉल रसीव करना भी मुनासिब नही समझा। इतना ही नही जेई उमेश गुप्ता से इस मामले की जानकारी लेनी चाही, लेकिन उन्होने भी कोई जवाब देना उचित नही समझा
परमिट पर भी संदेह
विभागीय जानकारो की माने तो ऐसे क्षेत्रों में विद्युत पोल लगाते समय विभागीय परमिट की आवश्यकता होती है, वह परमिट क्षेत्र के लाइनमैन को मिलता है, ठेकेदार को परमिट नही दी जाती है, लेकिन घायल मजदूरो का कहना है कि परमिट 2 बजे तक की मिली हुई थी, लेकिन सब स्टेशन से किसी ने 1:30 बजे ही विद्युत प्रवाह संचालित कर दिया, जिसके कारण यह हादसा हुआ है, जानकारी के अनुसार ट्रांसफार्मर के लिए पोल को लगाया जा रहा था, उक्त स्थल से 11 केव्ही विद्युत को नये ट्रांसफार्मर के माध्यम से क्षेत्रों में वितरण किया जाता।
समाजसेवियों ने पहुंचाया चिकित्सालय
घटना की जानकारी जैसे ही आस-पास के लोगों को लगी तो मदद के लिए स्थल पर पहुंचे, जहां से विद्युत विभाग की ही गाडी के माध्यम से सभी को जिला चिकित्सालय लाया गया, घायलों को जिला चिकित्सालय तक पहुंचाने में भाजपा के चचाई मंडल अध्यक्ष सत्यनारायण फुक्कू सोनी, मानेन्द्र ङ्क्षसह, कमलेश कोल, लालजी कोल, नरेश के साथ अन्य लोगों ने मदद के लिए घंटो तक जिला चिकित्सालय में मौजूद रहे जहां फुक्कू सोनी ने प्रशासन से अपील की है कि लापरवाहियों को कडी से कडी सजा मिली चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *